Breaking News

अब पुलिस की गांधीगीरी: लॉकडाउन में बाहर निकले लोग तो हाथ जोड़कर खड़ी हो गई पुलिस, कई जगह युवाओं को महसूस हुई शर्मिंदगी, जवान बोले- कृपया सख्ती पर मजबूर नहीं करें

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बांसवाड़ा9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

शहर के कस्टम इलाके से दोपहर बाद जब लोग सड़कों पर निकले तो पुलिसकर्मी उनके सामने हाथ जोड़कर खड़े हो गए।

  • आगे फिर दिखाई जाएगी सख्ती

डंडा दिखाकर खौफ जगाने वाली बांसवाड़ा पुलिस मंगलवार को बदले अंदाज में नजर आई। महामारी से लोगों को बचाने के लिए पुलिस यहां दुपहिया सवारों के सामने हाथ जोड़ती रही। पुलिस जवान नाकेबंदी पर सभी लोगों से अपील करते दिखे। जवान यह कहते रहे कि बिना काम के सड़कों पर नहीं घूमे। यानी अब पुलिस गांधीगीरी से पेश आती दिखी।

पुलिस के इस बदले रूप को देखकर लोगों को आश्चर्य जरूर हुआ, लेकिन पुलिस ने यह भी संदेश दिया कि यदि यह भी काम नहीं आया तो वह उनसे सख्ती से निपटेगी जो बिना बात सड़क पर निकलेंगे। दोपहर के समय कस्टम, मोहन कॉलोनी, नए बस स्टैण्ड क्षेत्र में नाकेबंदी पर खड़ी पुलिस ने गांधीगीरी से लोगों को समझाने की पहल की।

पहले किए थे चालान, लोगों के नहीं पड़ा असर तो हाथ जोड़े

इससे पहले सुबह के समय लॉकडाउन की छूट काे लेकर भीड़ सड़कों पर बढ़ती रही। हालांकि, सोमवार की अपेक्षा बाजारों में लोगों की यह संख्या बहुत ही कम रही। इधर, चालान, आर्थिक दंड और वाहन जब्तगी के बावजूद लोग सड़कों पर आने से नहीं रुक रहे। यह देख पुलिस की ओर से लोगों के बीच नया तरीका अपनाया गया। पुलिस ने अपील के माध्यम से लोगों को समझाने का तरीका अपनाया।

डंडे पड़े, फिर भी नहीं माने लोग

कोरोना में लागू लॉकडाउन के दौरान लोगों को घरों में रोकने के लिए पुलिस और प्रशासन ने हरसंभव प्रयास किए। समझाइश के साथ पहले दिन की शुरुआत करने वाली पुलिस ने लोगों पर आर्थिक दंड लगाया। वाहनों का चालान बनाकर लोगों को घरों में रोकने के प्रयास किए। नहीं मानने वाले लोगों पर डंडे भी चलाए। दुकानदारों को बाध्य करने के लिए जुर्माना लगाया गया। बावजूद इसके शहरी और ग्रामीणों की भीड़ सड़कों पर रुकती नहीं दिखी। अंत में थक चुकी पुलिस की ओर से लोगों में जागरूकता लाने के लिए हाथ जोड़ने वाला तरीका अजमाया जा रहा है। शायद लोग शर्मिंदा होकर ही घर रुक जाएं। इसके बावजूद नहीं माने तो फिर वही सख्ती का तरीका अपनाया जाएगा। जो निकलेगा, उसे क्वारंटाइन सेंटर भेज दिया जाएगा।

ऐसे किए मनाने के प्रयास।

ऐसे किए मनाने के प्रयास।

खबरें और भी हैं…

राजस्थान | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

राजस्थान के गांवों से ग्राउंड रिपोर्ट: भोपे कोरोना को भूत बताते हैं; बीमार होने पर लोग अस्पतालों को मौत का घर मानते हैं और कहते हैं- देवरे पामणे हो गए

Hindi News National Bhope Calls Corona A Ghost; On Being Sick, People Consider Hospitals To …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *