Breaking News

काेवैक्सीन का स्टाॅक खत्म: 18+ के 8429 काे नहीं मिला काेवैक्सीन का दूसरा डाेज स्लाॅट बुक नहीं हाे रहे और बिना बुकिंग टीका दे नहीं रहे

धनबाद5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

गांवों में टीकाकरण के लिए मोबाइल वैक्सीन वाहन रवाना

  • 28 दिन पूरे हाेने पर युवाओं को दूसरे डाेज का मैसेज आया, पर नहीं मिला टीका
  • आज 4236 युवाओं के पूरे हाे रहे 28 दिन, इन्हें भी नहीं मिलेगा दूसरा डाेज

18+ वालाें का वैक्सीनेशन शुरू हाेने के पहले दाे दिनाें में काेवैक्सीन का पहला डाेज लेने वाले 8429 युवाओं काे समय पर दूसरा डाेज नहीं मिल पाया। उनके पास दूसरा डाेज लेने के लिए मैसेज ताे अाया, लेकिन स्लाॅट की बुकिंग ही नहीं हुई। साथ ही, बिना बुकिंग के केंद्राें पर पहुंचने पर युवाओं काे लाैटा दिया गया। उनसे कहा गया कि स्टाॅल बुकिंग के बाद ही दूसरा डाेज दिया जाएगा। यानी बुकिंग हाे नहीं रही और बिना बुकिंग के दूसरा डाेज दिया नहीं जा रहा। इसकी वजह है कि 18 से 44 साल वालाें के लिए धनबाद में काेवैक्सीन का स्टाॅक ही नहीं है।

धनबाद में 18-44 वर्ष के लिए वैक्सीनेशन 14 मई से शुरू हुआ। पहले दिन 4423 औद दूसरे दिन 15 मई काे 4006 युवाओं ने काेवैक्सीन का पहला डाेज लिया। नियमत: उन्हें 28 दिन बाद दूसरा डाेज दिया जाना था। उनके 28 दिन क्रमश: 10 और 11 जून पूरे हाे गए। लेकिन, इन दाेनाें दिन स्लाॅट नहीं बुक हाेने से वे दूसरा डाेज नहीं ले सके। साथ ही, 16 जून काे 4236 युवाओं ने काेवैक्सीन का पहला डाेज लिया था। उनके 28 दिन 12 जून काे पूरे हाे रहे हैं और इस दिन भी जिले के किसी केंद्र पर 18+ के लिए टीकाकरण का इंतजाम नहीं है। यानी तीन दिनाें में कुल मिलाकर 12,665 युवा काेवैक्सीन के दूसरे डाेज से वंचित रह जाएंगे। आगे भी काेवैक्सीन का स्टाॅक नहीं मिलने पर बैकलाॅक बढ़ता ही जाएगा।

वैक्सीन का दूसरा डोज लेने के लिए जरूरी नहीं है रजिस्ट्रेशन

स्वास्थ्य विभाग के लाेग कहते हैं कि जिन युवाओं ने कोविन ऐप पर टीके के लिए रजिस्ट्रशन करा लिया है, उन्हें दूसरे डोज के लिए रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी नहीं है। उन्हें दूसरा डोज लेने की तिथि के पहले ही मैसेज मिलने लगेगा। यह मैसेज तब तक आता रहेगा, जब तक वे दूसरा डाेज नहीं ले लेते।

इधर, नए नियम आने के बाद से जिले के दाे काे छाेड़ अन्य निजी अस्पतालाें में वैक्सिनेशन बंद

धनबाद में 18+ का वैक्सीनशन शुरू होने के पहले से ही निजी अस्पतालाें में वैक्सीनेशन बंद है। पहले सभी अस्पतालाें काे स्वास्थ्य विभाग से वैक्सीन उपलब्ध कराई जाती थी, लेकिन अब निजी अस्पतालाें काे सीधे कंपनियों से वैक्सीन खरीदनी है। इस नियम के लागू होने के बाद धनबाद में सिर्फ दो अस्पतालाें असर्फी और अपोलो क्लिनिक ने ही वैक्सीन मंगवाई है। इसके दो प्रमुख कारण हैं। पहला तो यह कि कंपनियां अभी ऑर्डर करने पर दो माह बाद वैक्सीन उपलब्ध कराने की शर्त रख रही हैं। दूसरा यह कि अस्पतालाें काे लाेगाें के वैैक्सीन लेने आने पर ही संशय है।

खबरें और भी हैं…

झारखंड | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

जमशेदपुर में हादसा: बिजली के खंभे पर चढ़ जोड़ रहा था तार, करंट के झटके से गिरा नीचे; घटनास्थल पर ही हुई मौत

जमशेदपुर15 मिनट पहले कॉपी लिंक करंट के झटके से बिजली मिस्त्री खंभे से नीचे गिरा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *