Breaking News

कोरोना का कहर: अप्रैल में 2 से 15 फीसदी पहुंचा काेराेना संक्रमण, 84 अब तक गंवा चुके जान

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शिमला14 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • 29 दिन में 3034 लाेग आए महामारी की चपेट में, कई अस्पताल बनाए कोविड सेंटर

लाेगाें की लापरवाही और नियमाें की अवहेलना के कारण जिले में काेराेना संक्रमण की रफ्तार काे राेकना अब मुश्किल हाे गया है। बुधवार काे जिला में इस साल के अब तक के सबसे ज्यादा 230 काेराेना पाॅजिटिव मरीज आए थे। जिले के साथ-साथ शिमला शहर का शायद ही काेई ऐसा क्षेत्र हाे जहां संक्रमण ना पहुंचा हाे।

काेराेना की रफ्तार ऐसे तेजी से बढ़ रही है कि मार्च के मुकाबले जहां जिले में सात गुना ज्यादा मरीज संक्रमित हाे गए, वहीं माैतें 14 गुना ज्यादा हुई। एक ही माह में काेराेना की रफ्तार दाे से 15 फीसदी तक पहुंच गई है। अप्रैल माह के शुरू में काेराेना केवल 2 फीसदी की दर से फैल रहा था, जबकि अब बढ़कर यह 15 फीसदी पहुंच गया है। जबकि अप्रैल के 11 दिनाें में यह आंकड़ा आठ फीसदी तक था। इसी रफ्तार से अगर काेराेना बढ़ता रहा ताे अनुमान है कि मई के आधे माह तक यह 25 फीसदी तक पहुंच जाएगा। यानि पूरे जिले की आबादी के 25 फीसदी लाेग संक्रमित हाे जाएंगे।

अप्रैल माह में काेराेना संक्रमण की रफ्तार काफी तेजी से फैल रही है। 29 अप्रैल तक जिला में 3034 लाेगाें काेराेना से संक्रमित हाे गए, जबकि 84 लाेगाें की माैत काेराेना से अाईजीएमसी में हाे चुकी है। यह रफ्तार मार्च माह के मुकाबले कई गुना अधिक है। क्याेंकि मार्च माह में मात्र 420 मरीज काेराेना के आए थे और 6 लाेगाें की माैत काेराेना से हुई थी।

अब तक 13 हजार से ज्यादा लाेग जिले में संक्रमित

जिला शिमला में पहला केस बीते वर्ष मई माह में आया था। उस दाैरान शहर के लाेग ज्यादा सचेत थे, काेराेना नियमाें की काेई भी काेताही नहीं की जा रही थी। लाेग बिना काम के घराें से बाहर नहीं निकल रहे थे। मास्क लगाते थे, साेशल डिस्टेंसिंग भी प्रॉपर की जाती थी। यहां तक की सेनेटाइजर का उपयाेग भी बार-बार किया जाता था। मगर अब हालात बिल्कुल उल्टे हैं। एक साल में अब तक जिले में 13759 मरीज आ चुके हैं। राेजाना 150 से ज्यादा मरीज जिले में आ रहे हैं, जिसमें शहर के आधे मरीज हाेते हैं। मगर ना ताे साेशल डिस्टेंसिंग का पालन हाे रहा है और ना ही मास्क लाेग प्रॉपर पहन रहे हैं। यहां तक की सेनेटाइजर का उपयाेग ताे लगभग बंद कर दिया गया है। ऐसे में अब काेराेना की रफ्तार काे राेकना मुश्किल है।

जिले में काेराेना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। मार्च के अंत तक दाे फीसदी की दर से काेराेना फैल रहा था, अप्रैल के अंत तक 15 फीसदी हाे गया है। इसकी एक ही वजह है कि लाेग अभी भी काेराेना काे हल्के में ले रहे हैं और लापरवाही कर रहे हैं। बिना मास्क और साेशल डिस्टेंसिंग के लाेग शहर में घूम रहे हैं। जाे लाेग संक्रमित के संपर्क में आए हैं ताे टेस्ट जरूर करवाएं। सेल्फ क्वारेंटाइन रहें, जब तक रिपाेर्ट नहीं आ जाती। -डाॅ. राकेश भारद्वाज, जिला सर्विलेंस अधिकारी शिमला

खबरें और भी हैं…

हिमाचल | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

हिमाचल में आज से कोरोना कर्फ्यू: रात 12 बजे से 16 मई तक सख्त बंदिशें रहेंगी; जरूरी सेवाओं को छोड़कर सब कुछ बंद, धारा 144 लागू

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप शिमलाएक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *