Breaking News

कोरोना वैक्सीन: एस्ट्राजेनेका के टीके और रक्त में थक्कों के बीच ‘संभावित संपर्क’ का पता चला

पीटीआई, लंदन
Published by: गौरव पाण्डेय
Updated Wed, 07 Apr 2021 10:51 PM IST

सार

यूरोपीय संघ के औषधि नियामक ने कहा है कि उसने एस्ट्राजेनेका के कोरोना वायरस रोधी टीके और रक्त में दुर्लभ थक्कों की समस्या के बीच ‘संभावित संपर्क’ ढूंढ लिया है। हालांकि इसने यह भी कहा कि जोखिमों की तुलना में इस टीके के अब भी लाभ अधिक हैं। 

सांकेतिक तस्वीर
– फोटो : पेक्सेल्स

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

‘यूरोपियन मेडिसिन्स एजेंसी’ (ईएमए) ने बुधवार को जारी एक बयान में 18 साल और इससे अधिक आयु के लोगों के लिए टीके के इस्तेमाल को लेकर किसी नए प्रतिबंध की घोषणा नहीं की।

इस सप्ताह के शुरू में एजेंसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा था कि विश्वभर में एस्ट्राजेनेका के टीके और हजारों लोगों में से दर्जनों में रक्त के दुर्लभ थक्कों के बीच एक कारणात्मक संपर्क मिला है। एजेंसी के स्वास्थ्य जोखिम व टीका रणनीति के प्रमुख मार्को कैवलेरी ने मंगलवार को रोम के एक अखबार से कहा, ‘यह कहना बहुत मुश्किल होता जा रहा है कि एस्ट्राजेनेका के टीकों और प्लेटलेट कम होने से जुड़े रक्त के अत्यंत दुर्लभ थक्कों के बीच कोई कारणात्मक संपर्क नहीं है।’

एजेंसी ने कहा कि उसका मूल्यांकन अभी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा है और समीक्षा जारी है। वहीं, ईएमए के कार्यकारी निदेशक एमेर कुक ने कहा, ‘एस्ट्राजेनेका का टीका लगाए जाने के बाद रक्त के असामान्य थक्के बनने के कथित मामलों को टीके के संभावित दुष्प्रभावों के रूप में रखा जाना चाहिए।’

एस्ट्राजेनेका के टीके और रक्त में दुर्लभ थक्कों के बीच ‘संभावित संपर्क’ का पता लगाने के ईएमए के बयान के तुरंत बाद, ब्रिटेन के औषधि नियामक ने कहा कि कोरोना रोधी एस्ट्राजेनेका टीके के व्यापक लाभ हैं, लेकिन रक्त में थक्के बनने के दुर्लभ मामलों के चलते 30 साल से कम उम्र के लोगों को दूसरे टीके की पेशकश की जाएगी।

देश की ‘मेडिसिन्स एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी’ (एमएचआरए) ने बुधवार को कहा कि जब तक वह एस्ट्राजेनेका टीके और रक्त में दुर्लभ थक्कों के बीच संबंध का अध्ययन कर रही है, तब तक संबंधित आयु समूह के लोगों को फाइजर और मॉडर्ना कंपनी के टीके लगाए जाने चाहिए। एमएचआरए के प्रमुख डॉ. जून रैने ने कहा कि जोखिम के मुकाबले अधिकतर लोगों में एस्ट्राजेनेका टीके के लाभ अधिक हैं।

विस्तार

‘यूरोपियन मेडिसिन्स एजेंसी’ (ईएमए) ने बुधवार को जारी एक बयान में 18 साल और इससे अधिक आयु के लोगों के लिए टीके के इस्तेमाल को लेकर किसी नए प्रतिबंध की घोषणा नहीं की।

इस सप्ताह के शुरू में एजेंसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा था कि विश्वभर में एस्ट्राजेनेका के टीके और हजारों लोगों में से दर्जनों में रक्त के दुर्लभ थक्कों के बीच एक कारणात्मक संपर्क मिला है। एजेंसी के स्वास्थ्य जोखिम व टीका रणनीति के प्रमुख मार्को कैवलेरी ने मंगलवार को रोम के एक अखबार से कहा, ‘यह कहना बहुत मुश्किल होता जा रहा है कि एस्ट्राजेनेका के टीकों और प्लेटलेट कम होने से जुड़े रक्त के अत्यंत दुर्लभ थक्कों के बीच कोई कारणात्मक संपर्क नहीं है।’

एजेंसी ने कहा कि उसका मूल्यांकन अभी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा है और समीक्षा जारी है। वहीं, ईएमए के कार्यकारी निदेशक एमेर कुक ने कहा, ‘एस्ट्राजेनेका का टीका लगाए जाने के बाद रक्त के असामान्य थक्के बनने के कथित मामलों को टीके के संभावित दुष्प्रभावों के रूप में रखा जाना चाहिए।’

एस्ट्राजेनेका के टीके और रक्त में दुर्लभ थक्कों के बीच ‘संभावित संपर्क’ का पता लगाने के ईएमए के बयान के तुरंत बाद, ब्रिटेन के औषधि नियामक ने कहा कि कोरोना रोधी एस्ट्राजेनेका टीके के व्यापक लाभ हैं, लेकिन रक्त में थक्के बनने के दुर्लभ मामलों के चलते 30 साल से कम उम्र के लोगों को दूसरे टीके की पेशकश की जाएगी।

देश की ‘मेडिसिन्स एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी’ (एमएचआरए) ने बुधवार को कहा कि जब तक वह एस्ट्राजेनेका टीके और रक्त में दुर्लभ थक्कों के बीच संबंध का अध्ययन कर रही है, तब तक संबंधित आयु समूह के लोगों को फाइजर और मॉडर्ना कंपनी के टीके लगाए जाने चाहिए। एमएचआरए के प्रमुख डॉ. जून रैने ने कहा कि जोखिम के मुकाबले अधिकतर लोगों में एस्ट्राजेनेका टीके के लाभ अधिक हैं।

Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | – Amar Ujala

About R. News World

Check Also

Breaking News in Hindi Live: 48 घंटे प्रचार नहीं कर सकेंगे भाजपा के राहुल सिन्हा, दीदी पर भी लगी है पाबंदी

12:17 PM, 13-Apr-2021 राहुल सिन्हा पर 48 घंटे का बैन चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *