Breaking News

कोरोना से पुलिसकर्मी की मौत: लोगों को बचाते-बचाते खुद हुए संक्रमित, 15 दिन तक मौत से किया संघर्ष पर हार गई जिंदगी, नहीं ले पाया था वैक्सीन की दूसरी डोज

  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Infected Himself While Saving People, Struggled With Death For 15 Days And Lost Life, Could Not Take Second Dose Of Vaccine

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ग्वालियर2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

मृतक पुलिसकर्मी हरवीर सिंह

  • 15 दिन पहले ड्यूटी पर हुए थे कोरोना संक्रमित, 3 अस्पताल बदले
  • बिजौली थाना में थे पदस्थ हरवीर सिंह

ग्वालियर में कोरोना से एक पुलिसकर्मी की मौत हुई है। वह लगातार लोगों को संक्रमण से बचाने ड्यूटी कर रहा था। 15 दिन पहले खुद संक्रमित हो गया। इन 15 दिन में उसने मौत से कड़ा संघर्ष किया। तीन अस्पताल भी बदले, लेकिन डॉक्टर उसकी जिंदगी नहीं बचा सके। शुक्रवार सुबह पुलिसकर्मी ने दम तोड़ दिया। मृतक पुलिसकर्मी वैक्सीन की एक डोज ले चुका था, लेकिन दूसरे डोज का टर्न आता उससे पहले ही उसे वायरस ने अपनी चपेट में ले लिया। पुलिसकर्मी की इस तरह मौत से पूरा विभाग शोक में हैं।

जिले के बेहट सर्कल स्थित बिजौली थाना में पदस्थ आरक्षक हरवीर सिंह यादव 15 दिन पहले कोरोना वायरस की चपेट में आए। उनको हल्की सी गले में खरास हुई थी। टेस्ट कराया तो पॉजिटिव आए। वायरस का असर इतना तेज था कि दो दिन में उनको पूरी तरह अपनी चपेट में ले लिया। परिजन ने तत्काल एक प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती कराया। यहां हालत बिगड़ने पर जिला अस्पताल मुरार में भर्ती कराया। यहां मामूली सुधार के बाद अच्छी सुविधा के लिए फिर एक निजी अस्पताल में भर्ती करा दिया। जहां शुक्रवार सुबह हरवीर सिंह ने अंतिम सांस ली। हरवीर असली कोरोना योद्धा था, क्योंकि संक्रमित होने से पहले तक वह लगातार संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए काम कर रहा था। लोगों को जागरूक करना, पुलिस मोबाइल में अनाउंसमेंट करना आदि । उसकी मौत की खबर के बाद पुलिस महकमे में शोक की लहर दौड़ गई है।

एक महीने से बेटी से नहीं मिला था

हरवीर सिंह के परिवार में उसकी एक बेटी, पत्नी व बुजुर्ग मां-पिता हैं। सभी जिम्मेदारी हरवीर के युवा कंधों पर थी। मौत से एक महीने पहले से वह अपनी बेटी तक से नहीं मिला है। संक्रमित आने के 15 दिन पहले से ही उसने परिवार और बेटी से दूरी बना ली थी। वह ड्यूटी कर घर लौटते थे तो खुद को घर से अलग रूम में रखते थे। वहीं खाना खाने के बाद वहीं से फिर ड्यूटी पर निकल जाते, लेकिन किसी को नहीं पता था कि वह इस तरह चले जाएंगे।

नहीं लग पाया था वैक्सीन का दूसरा डोज

हरवीर सिंह को वायरस ने इसलिए भी घेर लिया कि वह वैक्सीन के दोनों डोज नहीं ले पाया था। जब फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन लग रही थी तब उसने काम की व्यस्तता के चलते वैक्सीन नहीं लगवाई थी। अभी 7 अप्रैल को उसने वैक्सीन का पहला डोज लिया था, लेकिन वह दूसरा डोज ले पाता उससे पहले ही संक्रमण ने उसे अपनी चपेट में ले लिया।

खबरें और भी हैं…

मध्य प्रदेश | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

रजिस्ट्री अनलॉक, गृह प्रवेश आसान: रजिस्ट्री पर रोक हटने के बाद नया आदेश, स्लॉट बुक कराने वाले सभी समय पर पहुंचे दफ्तर, लेट हुए तो रजिस्ट्री का स्लॉट हो जाएगा निरस्त

Hindi News Local Mp Indore New Order After Removing The Ban On The Registry, The …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *