Breaking News

खनन माफिया की गुंडागर्दी: हाईकोर्ट में अपील करने वाले को धमकी, आवाज देकर रेत के डंप के पास बुलाया और तान दी पिस्तौल

  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Hooliganism Of Una Mining Mafia, Threatening The Person Who Appealed In The High Court, Called Him Near The Sand Dump And Pointed A Pistol

ऊना20 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट का परिसर, जहां ऊना जिले में अवैध खनन के खिलाफ याचिका लगी है।

हिमाचल प्रदेश के ऊना में खनन माफिया की धक्केशाही का मामला सामने आया है। आरोप है कि जिले के कुछ बड़े अफसर भी अवैध खनन करने वालों से मिले हुए हैं। इनके खिलाफ हाईकोर्ट में अपील लगाई गई है। बदमाशों ने अपील करने वाले को धमकाया है। उसकी शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज करके आगे की जांच शुरू कर दी है।

मिली जानकारी के अनुसार जिला ऊना के गांव नगड़ा के एक निवासी ने अवैध खनन को लेकर उच्च न्यायालय में अपील की हुई है। इसमें जिले में अप्राकृतिक रूप से खनन को लेकर प्रशासन के अधिकारियों सहित खनन माफिया को आरोपी बनाया है। मामला अभी अदालत में चल रहा है, लेकिन उससे पहले ही कथित रूप से खनन माफिया ने याचिकाकर्ता को पिस्टल से धमकाया और केस वापस लेने को कहा। 27 मई को शाम 4 लोग एक गाड़ी में सवार होकर आए, जिन्होंने उसे आवाज लगाकर अपने रेत के डंप के पास बुलाया। एक गाड़ी में ही बैठा रहा, जबकि गाड़ी से उतरे तीन लोगों ने पिस्‍तौल तानकर कहा कि खनन माफिया के हाथ बड़े लंबे हैं। तू इस मामले से बाहर चला जा, वर्ना अंजाम भयानक होगा। इसके बाद वो लोग गाड़ी लेकर वहां से चले गए। इस पूरे मामले की सूचना मेहतपुर चौकी में दी गई। पुलिस ने मामले दर्ज करके जांच शुरू कर दी है। इस मामले की पुष्टि SP अर्जित सेन ने की है। ऊना जिले में सवां नदी में अवैध खनन को लेकर लम्बे समय से खनन के मामलों को लेकर आवाज उठाई जा रही है, लेकिन इसके परिणाम शून्य ही रहे हैं। ग्रीन ट्रिब्यूनल भी अवैध खनन को लेकर प्रशासन के अधिकारियों को फटकार लगा चुका है। इस बार मामला उच्च न्यालालय में है और इस मामले में जिले के आला अधिकारी भी इस मामले में पार्टी बनाए गए है। हालांकि न्यायालय के दखल के बाद उम्मीद जताई जा रही है कि अवैध खनन के मामलों पर लगाम लग सकती है।

खबरें और भी हैं…

हिमाचल | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

कोरोना से लड़ाई: जिले में टेस्टिंग ताे बढ़ाई; लेकिन ज्यादातर किए जा रहे रेट टेस्ट, आरटीपीसीआर हाे रहे हैं कम

शिमलाएक घंटा पहले कॉपी लिंक विशेषज्ञ बोले-आरएटी टेस्टिंग उतनी भराेसेमंद नहीं है जितनी आरटी-पीसीआर टेस्टिंग …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *