Breaking News

डॉक्टर शत्रुघ्न राम नहीं रहे: बिहार में टोटल नी रिप्लेसमेंट और हिप रिप्लेसमेंट की शुरुआत की थी, कोरोना सं जंग में हारे

  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Shatrughan Ram, The Famous Doctor Who Started Total Replacement And Hip Replacement In Bihar, Is No More.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पटना16 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

डॉ. शत्रुघ्न राम की फाइल फोटो।

  • उन्होंने बच्चों के जन्मजात टेढे़ पैरों को ‘राम्स टेपिंग’ से ठीक करने की तकनीक खोजी थी
  • वैक्सीन की दोनों डोज उन्होंने ली थी और मरीजों का ऑपरेशन कर रहे थे

विख्यात हड्डी एवं नस रोग विशेषज्ञ डॉ. शत्रुघ्न राम नहीं रहे। उन्हें जांच में निमोनिया पाया गया। 21अप्रैल को उन्हें साईं हॉस्टपिटल में और उसके बाद 29 अप्रैल को रूबन हॉस्पीटल में भर्ती कराया गया, जहां देर रात हार्ट अटैक से उनका निधन हो गया। वे 72 वर्ष के थे। कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके थे। हॉस्पिटल में भर्ती होने से पहले अपनी क्लिनिक में लगातार मरीजों को देख रहे थे और ऑपरेशन भी कर रहे थे। वे मूल रूप से सहरसा के ग्वालपाड़ा के रहनेवाले थे।

वर्ष 2000 में बिहार में टोटल नी रिप्लेसमेंट और हिप रिप्लेसमेंट किया

इंग्लैंड की नौकरी छोड़कर 1999 में वे पटना के राजेन्द्र नगर में आकर बस गए थे। बिहार में हड्डी और नस रोग की अत्याधुनिक सुविधा उपलब्ध कराने की इच्छा की वजह से ही वे इंग्लैंड से वापस लौटे थे। बिहार में टोटल नी रिपलेसमेंट और हिप रिपलेंसमेंट की शुरुआत करने का श्रेय उन्हें ही जाता है। उन्होंने वर्ष 2000 में दोनों रिपलेसमेंट की शुरुआत बिहार में की थी।

बेटे ने किया अंतिम संस्कार

डॉ. शुत्रुघ्न राम के पुत्र अमित रौशन ने पिता का अंतिम संस्कार किया। उनकी पत्नी डॉ. किरण राम ने बताया कि बेटी रश्मि लंदन में पेडियाट्रिक हैं और छोटी बेटी रजनी कैलिफोर्नियां में अमेजन की मैनेजर हैं। दोनों एक मई को पटना आएंगी। डॉ. शुत्रुघ्न राम के पुत्र अमित रौशन कैम्ब्रिज हॉस्पिटल में प्लास्टिक सर्जन हैं और कैंसर मरीजों के रिकंस्ट्रंक्शन विशेषज्ञ हैं। उन्हें प्रतिष्ठित हंटेरियन अवार्ड मिल चुका है। अमित पांच दिन पहले पटना आ गए थे।

पुष्पवंत जी की फाइल फोटो।

पुष्पवंत जी की फाइल फोटो।

भारतीय सूचना सेवा के वरिष्ठ अधिकारी पुष्पवंत भी नहीं रहे
रजिस्ट्रार ऑफ न्यूजपेपर्स फॉर इंडिया (RNI) नई दिल्ली में पदस्थापित उप निदेशक पुष्पवंत का शुक्रवार को कोरोना से लड़ते हुए निधन हो गया। बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के रहने वाले 58 वर्षीय पुष्पवंत संघ लोक सेवा आयोग के माध्यम से मार्च, 1987 में भारतीय सूचना सेवा से जुड़े थे। पुष्पवंत के निधन पर सूचना और प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के बिहार स्थित मीडिया इकाइयों के अधिकारियों और कर्मचारियों ने शोक व्यक्त किया है।

खबरें और भी हैं…

बिहार | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

ऑक्सीजन नहीं, मौत का सिलेंडर: पटना में एक्सपायरी डेट के सिलेंडर में 12 लीटर ऑक्सीजन के लिए 25 हजार की डिमांड

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप पटना33 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *