Breaking News

नई व्यवस्था: सरकारी स्कूलाें में अब बच्चाें के खाते में ही आएगा राशन का पैसा, पहले अभिभावकों को मिड डे मील की जगह दे रहे थे कैश

  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • In Government Schools, Now The Money Of Ration Will Come In The Account Of The Children, Earlier The Parents Were Giving Cash Instead Of Mid day Meal

शिमला2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • जब तक स्कूल बंद हैं नमक, दाल, सब्जी और तेल के पैसे बच्चों के अकाउंट में हर महीने डाले जाएंगे

सरकारी स्कूलाें में पढ़ाई करने वाले बच्चाें काे अब मिड डे मील के पैसे खाते में आएंगे। अभी तक अभिभावकाें काे कैश मिलता था, अब इस नियम काे खत्म कर दिया गया है। सरकारी स्कूलाें के बच्चाें काे बचत की आदत काे डालने के लिए शिक्षा विभाग की ओर से खाते खाेलने काे जरूरी किया गया है। इसके अलावा घर के लिए चावल अलग से मिलेंगे।

नमक, दाल, सब्जी और तेल के पैसे बच्चों के अकाउंट में हर महीने डाले जाएंगे। जब तक स्कूल बंद है, तब तक ये व्यवस्था लागू रहेगी। स्कूल खुलने के बाद ये व्यवस्था बंद कर दी जाएगी। सरकारी स्कूलाें में सरकार की ओर से मिड डे मील व्यवस्था चलाई हुई हैं। इसमें स्कूल आने वाले सभी बच्चाें काे दाेपहर का भाेजन दिया जाता हैं।

स्कूल में मिड डे मील कर्मी और हेल्पर तैनात किए गए हैं। इन्हें सरकार की ओर से प्रतिमाह वेतन दिया जाता है। जिन बच्चाें के अकाउंट नहीं खुले हैं, उन बच्चाें काे अब हर हाल में बैंक में जाकर अकाउंट खुलवाने हाेंगे। तभी उन्हें मिड डे मील के तहत मिलने वाले पैसाें काे लाभ मिलेगा।

एलीमेंटरी एजुकेशन के निदेशक शुभकरण सिंह का कहना है कि मिड डे मील का पैसा छात्राें के अकाउंट में ट्रांसफर हाेगा। इससे किसी तरह का हेरफेर नहीं हाे सकेगा। पैसे कैश के ताैर पर नहीं दिए जाएंगें। उनका कहना है कि पूरी पारदर्शिता के साथ काम किया जा रहा है।

चावल के लिए राेटेशन के हिसाब से बुलाए जा रहे है अभिभावक

​​​​​​​बच्चों के अभिभावकों को रोटेशन के हिसाब से स्कूल बुलाकर उनके माध्यम से भी राशन घर तक पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है। चावल का आवंटन करने के लिए राेटेशन के हिसाब से अभिभावकाें काे स्कूल बुलाया जा रहा है।

काेविड के नियमाें का पालन करते हुए बच्चाें के अभिभावकाें काे चावल दिए जा रहे हैं। ऐसे में काेराेना के इस संकट के समय सरकारी स्कूल में पढ़ाई करने वाले छात्राें और अभिभावकाें काे आर्थिक ताैर पर इसका फायदा मिला है। प्री प्राइमरी के बच्चों को भी मिड-डे मील दिया जा रहा है।

हर दिन मिलते हैं 100 से 150 ग्राम चावल

मिड-डे मील योजना के तहत पहली से आठवीं कक्षा के लिए डाइट चार्ट बना हुआ है। पहली से पांचवीं के छात्राें को 100 ग्राम चावल और छठी से आठवी तक के छात्राें को 150 ग्राम चावल प्रतिदिन मिलते हैं। सब्जी 60 ग्राम, दाल 30 ग्राम, घी पांच ग्राम, नमक तीन ग्राम, मसाला दो ग्राम, प्याज 10 ग्राम, ड्राई फ्रूट छह ग्राम प्रति स्टूडेंट दिया जाता है।

प्री प्राइमरी कक्षाओं के लिए ताजे फल, ड्राई फ्रूट, दलिया और खिचड़ी को डाइट चार्ट में शामिल किया है। मिड डे मिल का लाभ सब छात्राें काे मिले, जिम्मेवारी शिक्षकाें कीः सरकारी स्कूलों में ऑनलाइन पढ़ाई शुरू करवाने की कवायद के बाद अब बच्चों को मिड-डे मील भी घर तक पहुंचाना भी जरूरी किया गया है।

शिक्षा विभाग के आदेश है कि कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते स्कूल बंद है। ऐसे में अभिभावकाें और बच्चाें तक कच्चा राशन और अकाउंट में पैसे पहुंचाने की जिम्मेवारी शिक्षकाें काे साैंपा गई है। अगर किसी भी तरह की गड़बड़ी हुई ताे गाज भी गिर सकती है।

खबरें और भी हैं…

हिमाचल | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

संक्रमण का कहर: हिमाचल में 24 घंटे में काेराेना के 505 नए केस, 9 की मौत, 957 ठीक हुए

शिमला2 घंटे पहले कॉपी लिंक प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस से 9 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *