Breaking News

निर्माण कार्य शुरू: संक्रमण की दर घटने से हर्ल के काम में आई तेजी अब 60 फीसदी मैनपावर के साथ निर्माण कार्य शुरू

धनबाद2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • गुजरात और बेंगुलुरु की एक्सपर्ट टेक्निकल टीम फिर से कारखाने में टेस्टिंग कार्य के लिए सिंदरी पहुंच गई है

धनबाद जिले में काेराेना संक्रमण की दर घटने के साथ ही औद्याेगिक निर्माण कार्याें में भी तेजी आनी शुरू हाे गई है। काेराेना के कारण सिंदरी स्थित हर्ल कारखाना में निर्माण कार्य बहुत धीमी हाे गई थी, इस महीने से वहां भी निर्माण कार्य में तेजी आई है। हलांकि अब भी काेराेना के डर से कल-कारखानाें में फुल-फ्लेज्ड काम शुरू नहीं हाे सका है। हर्ल खाद कारखाना के महाप्रबंधक हिम्मत सिंह चाैहान ने बताया कि काेराेना के कारण हर्ल कारखाना में बहुत सारा काम प्रभावित हुआ है।

अप्रैल-मई गर्मी का महीना हाेता है, इस महीने में पूरी तरह टेस्टिंग कार्य की नीति बनाई थी। लेकिन, काेराेना की दूसरी लहर के कारण कारखाना में लगे विभिन्न मशीनाें की टेस्टिंग कार्य एक तरह से ठप हाे गया। टेस्टिंग के लिए गुजरात औऱ् बेंगुलुरु से आई एक्सपर्ट टेक्निकल टीम वापस लाैट गई।

35-40 % मैन पावर के साथ छाेटा-माेटा काम किया जा रहा था। अब काेराेना संक्रमण की दर घटने के बाद इस महीने से काम में तेजी आई है। एक सप्ताह से 60% स्ट्रेंग्थ के साथ निर्माण कार्य शुरू हाे गया है। गुजरात और बेंगुलुरु की एक्सपर्ट टेक्निकल टीम फिर से कारखाने में टेस्टिंग कार्य में जुट गई है।

माॅनसून के कारण फुल-फ्लेज्ड काम शुरू हाेने में हाेगी परेशानी: जीएम

हर्ल कंपनी जीएम का कहना है कि दिक्कत इस बात कि है कि अब माॅनसून शुरू हाेनेवाला है। बरसात के कारण बहुत सारा निर्माण कार्य कर पाना मुश्किल हाेगा। बहुत सारा काम मशीनरी का है। बरसात में इसका ड्राइव करना मुश्किल हाेता है।

इसलिए बरसात के कारण अब भी फुल-फ्लेज्ड काम शुरू हाेने में दिक्कत हाेगी। बरसात के बाद ही सितंबर-अक्टूबर से फुल-फ्लेज्ड काम शुरू हाे पाएगा। उन्हाेंने बताया कि फुल-फ्लेज्ड काम शुरू हाेने के बाद काम की समीक्षा की जाएगी, इसके बाद ही बताया जा सकता है कि कब से हर्ल कारखाना में खाद का उत्पादन शुरू हाे पाएगा।

2-3 दिन में प्लांट आ जाएगा धनबाद इस महीने चालू हाे जाएगा प्राेडक्शन

​​​​​​​हर्ल महाप्रबंधक हिम्मत सिंह चाैहान का कहना है कि सदर अस्पताल में लगनेवाले ऑक्सीजन प्लांट की दाे मशीनें दाे-तीन दिनाें में धनबाद पहुंच जाएंगी। दोनों मशीनों को शिफ्ट करने में 5-6 दिनों का समय लग जाएगा। इसके बाद सदर अस्पाल में ऑक्सीजन का प्राेडक्शन शुरू हाे जाएगा। दाेनाें ऑक्सीजन प्लांट से कुल 36 हजार लीटर प्रति घंटा ऑक्सीजन का प्राेडक्शन शुरू हाे जाएगा। इससे ऑक्सीजन प्रयाप्त मात्रा में मिलना शुरू हो जाएगा।

खबरें और भी हैं…

झारखंड | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

जमशेदपुर में हादसा: बिजली के खंभे पर चढ़ जोड़ रहा था तार, करंट के झटके से गिरा नीचे; घटनास्थल पर ही हुई मौत

जमशेदपुर15 मिनट पहले कॉपी लिंक करंट के झटके से बिजली मिस्त्री खंभे से नीचे गिरा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *