Breaking News

बंगाल हिंसा पर गर्माई राजस्थान की सियासत: प्रदेश भाजपा मुख्यालय के बाहर टीएमसी के खिलाफ प्रदर्शन; पूनिया,कटारिया,राठौड़ बोले- खूनी खेला बंद करे ममता, बंगाल की हिंसा पर राहुल, प्रियंका, गहलोत मौन क्यों?

  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Demonstrations Against Bengal Violence Outside The State BJP Headquarters; Punia, Kataria, Rathore Said Stop Playing Bloody Mamta, Rahul, Priyanka, Gehlot Silence On The Violence In Bengal?

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयपुर2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

जयुपर में बंगाल हिंसा के खिलाफ प्रदर्शन करते भाजपा नेता

  • गृह विभाग की गाइडलाइन का उल्लंघन, 17 तक किसी भी राजनीतिक, सामाजिक कार्यक्रम पर रोक

पश्चिमी बंगाल में चुनाव नतीजों के बाद हो रही हिंसा पर अब राजस्थान में भी सियासत गर्मा गई है। भाजपा ने आज बंगाल की हिंसा के खिलाफ देशव्यापी विरोध प्रदर्शन के तहत राजधानी जयपुर में प्रदेश भाजपा मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। भाजपा नेताओं ने बंगाल हिंसा के लिए सीएम ममता बनर्जी और टीएमसी को जिम्मेदार ठहराते हुए जमकर नारेबाजी की। भाजपा ने आज सभी जिला दफ्तरों पर प्रदर्शन रखे थे। भाजपा ने ऐसे समय प्रदर्शन किया जब कोरोना के कारण गृह विभाग ने किसी तरह के धरने प्रदर्शन पर रोक लगा रखी है, इसके बावजूद भाजपा नेताओं ने कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने का दावा करते हुए प्रदर्शन किया।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा- बंगाल की घटनाएं लोकतंत्र को कलंकित करने वाली हैं। इस देश में चुनाव और चुनावी हिंसा पहले भी हुई है लेकिन जिस तरह की घटनांए बंगाल में हो रही हैं वह बहुत विभत्स हैं और सोचने को मजबूर करती है। चुनावी जीत के बाद और पहले टीएमसी के गुंडों ने भाजपा के 140 कार्यकर्ताओं की हत्याएं कीं। अबलाओं की इज्जत पर हाथ डाला, गरीबों के घर जला दिए। आजाद भारत के इतिहास में बंगाल की घटनाएं कलंक है।

बंगाल की हिंसा पर राहुल-प्रियंका से लेकर गहलोत तक चुप क्यों है?
सतीश पूनिया ने कहा, बंगाल नतीजों के बाद भाजपा के दर्जनों कार्यकर्ताओं की हत्या हुई है। 700 गांवों में आगजनी और लूटपाट हुई है। तांडव अभी चल रहा है, उस पर ममता बनर्जी मौन है। वह मौन क्यों न हो सब उनकी सरपरस्ती में हो रहा है। जिस सरकार का मुखिया ही गुंडों की अगुवाई करता हो उससे क्या उम्मीद की जाए? लोकतंत्र की दुहाई देने वाले राहुल गांधी प्रियंका गांधी नृशंस हत्याओं पर मौन हैं। गांधीवाद की बात करने वाले राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बंगाल की हिंसा पर मौन हैं? । वामपंथी, कांगेस सब मौन हैं, क्या उनके लिए लोकतंत्र की परिभाषा अलग है।

गृह विभाग की गाइडलाइन के मुताबिक प्रदर्शन नहीं हो सकता, फिर भी भाजपा ने किया

भाजपा ने गृह विभाग की गाइडलाइन में धरना प्रदर्शन की रोक के बावजूद प्रदेश भाजपा मुख्यालय के बाहर टेंट लगाकर प्रदर्शन किया। गृह विभाग ने कारेोना को देखते हुए किसी भी तरह के राजनीतिक, सामाजिक, धार्मिक कार्यक्रम करने पर रोक लगा रखी है। भाजपा ने इस रोक के बावजूद प्रदेश मुख्यालय के गेट के बाहर टेंट लगाकर धरना प्रदर्शन किया। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए सीमित नेताओं के साथ प्रदर्शन करने की बात कही। प्रदेश भाजपा मुख्यालय के बाहर किए गए प्रदर्शन में प्रदेशाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया, प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर,नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़, जयपुर शहर सांसद रामचरण बोहरा, जयपुर शहर जिला अध्यक्ष राघव शर्मा सहित चुनिंदा पदाधिकारी शामिल रहे। इस मौके पर पूनिया, कटारिया और राठौड़ ने ममता बनर्जी और टीएमसी को हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए कड़ी कार्रवाई की मांग की।

खबरें और भी हैं…

राजस्थान | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

राजस्थान के गांवों से ग्राउंड रिपोर्ट: भोपे कोरोना को भूत बताते हैं; बीमार होने पर लोग अस्पतालों को मौत का घर मानते हैं और कहते हैं- देवरे पामणे हो गए

Hindi News National Bhope Calls Corona A Ghost; On Being Sick, People Consider Hospitals To …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *