Breaking News

ये कैसी परेशानी: घर के बाहर कार खड़ी कर मस्कट गए बुजुर्ग लॉकडाउन में फंसे, अब निगम का नोटिस- जल्दी हटाओ, वरना उठा लेंगे

  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • The Elderly Who Went To Muscat After Parked The Car Outside The House Were Trapped In The Lockdown, Now The Notice Of The Corporation Remove Quickly, Otherwise They Will Pick Up

जोधपुरएक मिनट पहलेलेखक: राजेश त्रिवेदी

  • कॉपी लिंक
  • कूरियर से जोधपुर भेजी कार की चाबी गुम हो गई, क्रेन से उठाएं तो रखें कहां?

शास्त्रीनगर में सेक्टर डी के मकान नंबर 59 में रहने वाले 65 वर्षीय गोविंद दौलानी को नगर निगम दक्षिण के एक नोटिस ने मुश्किल में डाल दिया है। वे कोरोना की पहली लहर में परिवार के पास मस्कट (आेमान) गए और लाॅकडाउन में इंटरनेशनल फ्लाइट बंद होने से वहां फंस गए। जोधपुर छोड़ते समय उन्होंने एक गलती कर दी, वे अपनी कार गैराज के बजाए घर के बाहर ही खड़ी कर गए। अब इस कार को लेकर निगम दक्षिण ने 3 जून को उनके बंद मकान के बाहर नोटिस चस्पां कर दिया।

जब किसी परिजन के माध्यम से उन्हें इसकी सूचना मिली तो वे मुसीबत में आ गए। परेशानी एक कारण ये भी था कि नोटिस में कहीं भी कार का जिक्र नहीं था, बल्कि लिखा था कि “आपके द्वारा बिना अनुमति सड़क पर अतिक्रमण कर लिया गया, जो गैर कानूनी है।’ जब उन्हाेंने इसे लेकर निगम के अफसरों से संपर्क किया तो पता चला कि नोटिस घर के बाहर खड़ी कार को लेकर दिया गया है। उन्हें बताया गया कि अगर एक सप्ताह में कार नहीं हटाई गई तो पुलिस के माध्यम से उठवा ली जाएगी।

अब मुसीबत ये थी कि कोरोना के चलते राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय उड़ानें स्थगित हैं, ऐसे में जोधपुर आना संभव नहीं था। हालांकि उन्होंने अपने किसी परिचित से कार हटाकर गांधी मैदान स्थित पार्किंग में रखने का आग्रह भी किया, लेकिन कार की चाबी नहीं थी।

ऐसे में उन्होंने लॉकडाउन में कुछ छूट मिलने पर मस्कट से कूरियर से कार की चाबी भी भेजी, लेकिन वह जोधपुर नहीं पहुंची। इसके बाद क्रेन वाले से भी संपर्क किया, लेकिन उसने कार उठाते समय क्षतिग्रस्त होने और लॉकडाउन का हवाला देकर इनकार कर दिया था। इस संबंध में उपायुक्त दक्षिण रेणु सैनी से संपर्क नहीं हो पाया।

कोरोना के कारण मैं मस्कट में भी घर से नहीं निकल पा रहा हूं। उड़ानें शुरू होने पर जोधपुर आकर अपनी कार को हटा लूंगा। इसके बावजूद भी समाधान निकालने की कोशिश कर रहा हूं।
– गोविंद दौलानी, एनआरआई

कोरोना काल में अगर कोई एनआरआई गलती से अपनी कार घर के बाहर छोड़ गए हैं तो मानवीय दृष्टिकोण भी देखना चाहिए। मैं इस बारे में उपायुक्त व आयुक्त से बात करूंगी।
– वनिता सेठ, महापौर, निगम (दक्षिण)

सवाल यह भी: सेक्टर के अधिकांश घरों में कॉमर्शियल गतिविधियां, नोटिस केवल घर के बाहर खड़ी कार को ही
शास्त्रीनगर की पॉश कॉलोनी सेक्टर डी के अधिकांश मकानों के बाहर ही कारें पार्क होती है। इतना ही नहीं इस सेक्टर में अधिकांश मकानों में कॉमर्शियल गतिविधियां भी संचालित हो रही हैं, लेकिन उपायुक्त को सिर्फ एनआरआई की कार ही नजर आई। उपायुक्त ने इस सेक्टर में चल रही कॉमर्शियल गतिविधियों व अवैध निर्माण को लेकर किसी भी तरह की कोई कार्रवाई प्रस्तावित नहीं की है।

खबरें और भी हैं…

राजस्थान | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

सरकार तक पहुंचा विवाद: बेरोजगार पशु चिकित्सक और सहायक आमने-सामने; दोनों ने सरकार को एक दूसरे के खिलाफ भेजे ज्ञापन, बाद में पशु चिकित्सक संघर्ष संघ ने पत्र को बताया फर्जी

Hindi News Local Rajasthan Ajmer Unemployed Vet And Assistant Face to face; Both Sent Memorandums …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *