Breaking News

योजना: पैट डॉग की रजिस्ट्रेशन न हुई तो इलाज दौरान माना जाएगा आवारा

लुधियाना21 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • कार्यकाल का एक साल पूरा होने पर वीसी ने गडवासू में किए विकास कार्यों और भविष्य की योजना के बारे में दी जानकारी

गुरु अंगद देव वेटरनरी एंड एनिमल साइंसेस यूनिवर्सिटी (गडवासू) के वाइस चांसलर डॉ. इंद्रजीत सिंह को अपना पद ग्रहण किए हुए एक साल का समय हो चुका है। एक साल के दौरान यूनिवर्सिटी में किए गए विकास कार्यों और भविष्य में किए जाने वाले कार्यों के संबंध में मीडिया कर्मियों से बातचीत की।

डॉ. इंद्रजीत सिंह ने बताया कि यूनिवर्सिटी में एक साल में कई तरह के प्रोजेक्ट्स पूरे किए गए हैं। यूनिवर्सिटी द्वारा आने वाले दिनों में रजिस्ट्रेशन वाले जानवरों को ही पालतुओं की श्रेणी में रखा जाएगा। जिन जानवरों की रजिस्ट्रेशन नहीं होगी, उन्हें आवारा की श्रेणी में रखा जाएगा, जो जानवर बिना रजिस्ट्रेशन के होंगे उनके आगे ये लिखा जाएगा कि इस आवारा जानवर को व्यक्ति इलाज के लिए लेकर आए। डॉ. सिंह ने कहा कि आज के समय में जब इंसानों के लिए आधार कार्ड के बिना वैक्सीनेशन नहीं होती तो हमें जानवरों के लिए भी यही नियम अपनाना है, ताकि रजिस्ट्रेशन को भी प्रोत्साहन मिले।

डॉग सेंटर के तहत लेब्राडोर, पग और बीगल नस्ल के 48 कुत्तों की होगी ग्रूमिंग और ट्रेनिंग

उन्होंने कहा कि जिस तरह से आर्मी में कोविड-19 के मरीजों की पहचान के कुत्तों का इस्तेमाल किया जा रहा है। उसी तरह से हम भी कुत्तों को ट्रेनिंग देने के बारे में विचार कर रहे हैं। यूनिवर्सिटी में डॉग सेंटर आने वाले 2-3 महीनों में शुरू करने के बारे में सोच रहे हैं। इसमें हमारे पास लेब्राडोर, पग और बीगल नस्ल के कुल 48 कुत्ते हैं जिनकी ट्रेनिंग व ग्रूमिंग की जाएगी। पंजाब एक बड़ी जनसंख्या वाला राज्य है ऐसे में अगर कुत्ते भी संक्रमितों की पहचान कर लें तो समय पर लोगों को आइसोलेट किया जा सकता है। इसके साथ ही हम क्रॉस प्रोटेक्शन देंगे, ताकि डॉग्स भी संक्रमित न हों। आवारा पशुओं की समस्या से निपटने के लिए मॉडर्न गोशाला बनाई जाएगी। इस गोशाला में पशुओं में सैरोगेट मदर यानी उनकी बच्चेदानी को बच्चे पैदा करने के लिए इस्तेमाल करेंगे। बैलों को भी इस गोशाला में जगह दी जाएगी।

अंडरग्रेजुएट कोर्स के लिए नीट, 12वीं के नंबरों के आधार पर ही दाखिला

डॉ.इंद्रजीत सिंह ने बताया कि अंडरग्रेजुएट कोर्सेस में नई क्लासेस में एडमिशन के लिए वेटरनरी कोर्स के लिए नीट एंट्रेंस एग्जाम के नंबरों के आधार पर ही एडमिशन मिलेगी। जबकि फिशरीज व डेयरी कॉलेज में 12वीं क्लास के नंबरों के आधार पर एडमिशन दी जाएगी। यूनिवर्सिटी द्वारा जल्द ही एडमिशन शैड्यूल की घोषणा कर दी जाएगी। डॉ.सिंह ने बताया कि 2020-21 के दौरान यूनिवर्सिटी में 9 पीजी डिप्लोमा कोर्सेस, 2 शॉर्ट टर्म और 8 सर्टिफिकेट कोर्स शुरु किए गए हैं।

खबरें और भी हैं…

पंजाब | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

खाकी वर्दी वालों के खिलाफ कारवाई: बठिंडा में फल विक्रेता काे थप्पड़ मारने का वीडियाे वायरल हुआ था, तलवंडी साबो थाने का SHO व ASI सस्पेंड

Hindi News Local Punjab Video Of Slapping Fruit Seller In Bathinda Went Viral, SHO And …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *