Breaking News

वैक्सीन मिक्सिंग: इम्युनिटी बढ़ाने के लिए बिना मंजूरी टीके का मिक्स डोज लगवा रहे हैं दिग्गज फार्मा कंपनियों के अफसर

  • Hindi News
  • International
  • To Increase Immunity, Officers Of Leading Pharma Companies Are Getting Mixed Doses Of Vaccine Without Approval

2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

फार्मा उद्योग से जुड़े लोग महामारी से बेहतर सुरक्षा, इम्युनिटी बढ़ाने और सकारात्मक नतीजों के लिए मिक्स डोज लगवा रहे हैं।

  • मिक्सिंग के असर और नतीजों का इंतजार तक नहीं करना चाहते

चीनी वैक्सीन मिक्सिंग (दो अलग-अलग टीकों की खुराक) इन दिनों चर्चा का बड़ा मुद्दा है। हालांकि अभी कोई ठोस नतीजे सामने नहीं आए हैं। फिर भी फार्मा उद्योग से जुड़े लोग और इंतजार के मूड में नहीं हैं। वे महामारी से बेहतर सुरक्षा, इम्युनिटी बढ़ाने और सकारात्मक नतीजों के लिए मिक्स डोज लगवा रहे हैं। पियरे मॉर्गन वैकिटेक पीएलसी और यूनिवर्सल एसए जैसी कंपनियों के बोर्ड मेंबर हैं।

वे वैक्सीन मिक्सिंग पर सालों से शोध कर रहे हैं। अप्रैल में उन्होंने स्विट्जरलैंड के लुसाने में एस्ट्राजेनेका का डोज लिया। फिर 8 हफ्ते बाद मॉडर्ना का टीका लगवाया। मॉर्गन कहते हैं, ‘वैक्सीन की इस मिक्सिंग को हेटेरोलॉगस प्राइम-बूस्टिंग कहा जाता है। एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन में हानिरहित वायरस का उपयोग किया गया है। वहीं, मॉडर्ना या फाइजर की वैक्सीन आरएनए तकनीक पर बनी है।

इनकी मिक्सिंग कमाल कर सकती है।’ उन्होंने कहा, ‘इस समय इम्युनिटी बढ़ाना महत्वपूर्ण है, क्योंकि कोरोना के कई स्वरूप ऐसे भी हैं जो टीकों के असर से बचने की क्षमता दिखा रहे हैं।’ ऐसे ही, फ्रांसीसी फार्मा कंपनी सनोफी की पूर्व मार्केटिंग एक्जीक्यूटिव केरीन वैन हैस्ब्रुक ने भी मिक्स डोज ली हैं। हाल में हुए शोध भी मिक्सिंग के समर्थन की ओर इशारा करते हैं।

स्पेन में करीब 700 लोगों के अध्ययन से पता चला है कि जिन लोगों को पहले एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन के बाद फाइजर के टीके की दूसरी खुराक मिली, उनमें एंटीबॉडी सात गुना बढ़े। यह एस्ट्राजेनेका की दो खुराक लेने वालों की तुलना में काफी ज्यादा था। जर्मनी में लोगों में एंटीबॉडी चार गुना तक बढ़ी।

मिक्सिंग से बुखार, ठंड लगने जैसे साइड इफेक्ट अधिक
अमेरिकी नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ ने मिक्सिंग के मूल्यांकन के लिए परीक्षण शुरू किया है। इसके बाद वैज्ञानिक बताएंगे कि यह सुरक्षित है या नहीं। हालांकि, इसके नतीजे आने में कई महीने लग जाएंगे। वहीं, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के अनुसार मिक्स डोज बुखार, ठंड लगना और सिरदर्द जैसे साइड इफेक्ट अधिक पैदा करता है।

खबरें और भी हैं…

विदेश | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

अफगानिस्तान के भीतर खतरे में हजारा कबाइली: स्कूल हाे या खेल का मैदान, यहां तक कि जन्म के समय भी मारे जा रहे हजारा लाेग

काबुल4 घंटे पहले कॉपी लिंक काबुल में बीते 48 घंटों में यह चौथी बस थी, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *