Breaking News

सबूतों की मांग: पुलिस ने निगम प्रशासन को नोटिस भेजकर EDC और CLU चार्ज जमा न करने के बारे में मांगे कागजात

फरीदाबाद3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

पुलिस ने नोटिस भेजकर मांगा जवाब।

नगर निगम का ईडीसी व सीएलयू चार्ज जमा न कराने के मामले में दर्ज कराई गई एफआईआर के बाद पुलिस ने निगम प्रशासन को नोटिस भेजकर उनके संबंधित कागजात उपलब्ध कराने को कहा है। ताकि जांच की कार्रवाई आगे बढ़ाई जा सके। इनमें आठ लोगों के नाम शामिल हैं।

बता दें कि नगर निगम प्रशासन ने 25 मई 2018 को एसजीएम नगर थाने में आठ लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी। जिसमें कहा था कि एनआईटी एक सी ब्लाॅक निवासी राजेश भाटिया ने नेहरू ग्राउंड में सीएलयू की राशि जमा नहीं कराई है। इसी तरह सेक्टर 21 ए निवासी बृजपाल सिंह ने गांव अनखीर में जमीन का व्यवसायिक रूप में तब्दील कर दिया। सेक्टर 15 निवासी ताराचंद सलूजा ने 490 वर्ग गज जमीन का व्यवसायीकरण किया है। सेक्टर 16 निवासी सतेंद्र ने मथुरा रोड पर जमीन का बदलाव किया है। इसी तरह सेक्टर 15 निवासी सतीश चंद्र राय ने नीलम बाटा रोड पर आवासीय प्लाट को व्यवसायिक में बदल दिया। दीपक सूत ने दिल्ली मथुरा रोड पर जमीन को उद्योग में बदल दिया। विजय भारद्वाज ने सेक्टर 15ए में शाॅपिंग कॉम्प्लेक्स में बदलाव किया है। सेक्टन 9 निवासी अमीत गोयल ने यामहा चौक के पास जमीन के रूप में बदलाव किया लेकिन सीएलयू जमा नहीं कराया है।

पुलिस ने नोटिस भेजकर ये कहा

एसजीएम नगर थाना पुलिस ने नगर निगम प्रशासन को नोटिस भेजकर कहा है कि उक्त लोगों के खिलाफ जो धोखाधड़ी का केस दर्ज कराया है, उनकी हाल की बकाया राशि जो जमा नहीं कराई है। उसकी सूची दी जाए। साथ ही उन लोगों को कब कब नोटिस जारी किया गया। उसकी सत्यापित कॉपी और उनके द्वारा अब तक जमा कराई गई राशि की रसीद उपलब्ध कराई जाए ताकि आगे की कार्रवाई की जा सके। उधर सीटीपी धर्मपाल का कहना है कि मामला अभी संज्ञान में नहीं आया है। यदि पुलिस ने कोई जानकारी मांगी है तो उसे उपलब्ध कराई जाएगी। अब तो सरकार ने वन टाइम सेलटमेंट पॉलिसी लाई है। उस आधार पर भी विचार किया जाएगा।

खबरें और भी हैं…

दिल्ली + एनसीआर | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

खोरी कॉलोनी को तोड़ने के आदेश: भू-माफियाओं ने हरियाणा सरकार की जमीन बेचकर बसा दी कॉलोनी, बिजली दे रही दिल्ली, और कार्रवाई सिर्फ इन गरीबों पर

फरीदाबाद42 मिनट पहले कॉपी लिंक ​​​​​​​35 से 40 साल में नगर निगम, � सुप्रीम कोर्ट …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *