Breaking News

सेहत: गहरी सांसें लेने भर से 48 घंटे में शरीर काे मिलते हैं ये 5 फायदे, इम्यूनिटी सुधरने के साथ ही दर्द होगा कम

  • Hindi News
  • Happylife
  • By Taking Deep Breaths, The Body Gets These Five Benefits In 48 Hours, Pain Will Reduce With Improvement Of Immunity.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

राेज कुछ देर गहरी सांस लेने से आपकी सेहत और लाइफ स्टाइल में बहुत सुधार होता है। जब आप चिंतित या परेशान होते हैं, तो आप आपके दिल की धड़कने लगातार तेज होती जाती हैं। रक्त का प्रवाह आपके दिल और मस्तिष्क की ओर बढ़ जाता है। इससे बचने के लिए गहरी सांस लेने का अभ्यास आपको रोज करना चाहिए। भले ही तनाव हो या न हो। इससे 24 से 48 घंटों में ही मन और शरीर को आराम मिलता है, नींद बेहतर आती है। सबसे बड़ी बात रोगों से लड़ने की क्षमता बेहतर होती है।

शरीर से विषैले तत्व घटते हैं

धीमी, गहरी, लंबी सांस लेने से शरीर को डिटॉक्सिफाई और शांत भाव में लौटने में मदद मिलती है। बेहतर नींद में मदद मिलती है। अगर अनिद्रा की शिकायत है तो सोने से पहले गहरी सांसें लें। कार्बन डाइऑक्साइड प्राकृतिक विषैला कचरा है जो सांस से बाहर आता है। छोटी सांस के दौरान फेफड़े को कम प्रतिक्रिया करते हैं। अन्य अंगों को इस कचरे को बाहर निकालने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है।

इम्यूनिटी मजबूत होती है

गहरी सांस लेने से ताजी ऑक्सीजन मिलती है और विषाक्त पदार्थ और कार्बन डाइऑक्साइड बाहर निकलती है। जब रक्त ऑक्सिजनेटेड होता है तो इससे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है। शरीर के महत्वपूर्ण अंग ठीक से काम करते हैं। एक क्लीनर, टॉक्सिन-मुक्त और स्वस्थ रक्त की आपूर्ति से संक्रमण फैलाने वाले कीटाणु जड़ से मिटते हैं।

दर्द का एहसास कम होता है

जब आप गहरी सांस लेते हैं, तो शरीर एंडोर्फिन बनता है। यह गुड हार्मोन है और शरीर द्वारा बनाया गया एक प्राकृतिक दर्द निवारक है।

तनाव कम होता है

गहरी सांस लेने से चिंताजनक विचारों और घबराहट से छुटकारा मिलता है। हृदय गति धीमी हो जाती है, जिससे शरीर अधिक ऑक्सीजन ले पाता है। हार्मोन संतुलित होते हैं। कोर्टिसोल का स्तर कम होता है। काेर्टिसोल स्ट्रेस हार्मोन है। जब कोर्टिसोल का स्तर बहुत अधिक समय तक बढ़ा हुआ रहता है, तो यहअधिक नुकसान पहुंचा सकता है।

रक्त प्रवाह ठीक होता है

डायाफ्राम के ऊपर और नीचे हाेने से रक्त प्रवाह की गति बढ़ती है। इससे विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद मिलती है।

खबरें और भी हैं…

लाइफ साइंस | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

कोट्स: दूसरों की सफलता से जलने से अच्छा है कि हम खुद आगे बढ़ें और सफलता हासिल करें

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप 4 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *