Breaking News

AISHE Report 2019-20: पिछले 5 सालों में बढ़ा GER, छात्रों को ज्यादा पंसद आए ये कोर्सेज, शिक्षा मंत्री ने दी सूचना

हाइलाइट्स:

  • AISHE रिपोर्ट 2019-20 जारी।
  • केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ने दी सूचना।
  • एमबीए, एमबीबीएस, बीएड जैसे कोर्सेज में छात्रों की ज्यादा रुचि।
  • टेक्नोलॉजी कोर्सेज में छात्रों की संख्या कम।

AISHE report 2019-20, All Indian Survey of Higher Education Report: भारत में पीएचडी करने वालों की संख्या पिछले पांच सालों में आधे से ज्यादा बढ़ी है। इसके अलावा, देश के युवाओं का रुझान MBA, MBBS, BEd और LLB जैसे प्रोफेशनल कोर्सेज की ओर ज्यादा हुआ है। यह हम नहीं बल्कि शिक्षा मंत्रालय द्वारा जारी एक सर्वे रिपोर्ट में सामने आया है। एजुकेशन मिनिस्ट्री ने गुरुवार, 10 जून 2021 को ऑल इंडिया सर्वे ऑफ हायर एजुकेशन (AISHE) की रिपोर्ट 2019-20 जारी की है।

अखिल भारतीय उच्च शिक्षा सर्वेक्षण (AISHE) रिपोर्ट 2019-20 के मुताबिक, इंस्टीट्यूट ऑफ नेशनल इंपोर्टेंस (INIs) की संख्या पिछले पांच सालों में 80 प्रतिशत बढ़ी है। साल 2015 में आईएनआई की संख्या केवल 75 थी जो बढ़कर 2020 में 135 हो गई है। यही नहीं, रिपोर्ट में पता चला है कि पिछले पांच वर्षों में पीएचडी करने वालों की संख्या में भी 60 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ (Ramesh Pokhriyal ‘Nishank’) ने एआईएसएचई रिपोर्ट 2019-20 पर खुशी जाहिर करते हुए ट्विट किया कि, “मुझे उच्च शिक्षा पर अखिल भारतीय सर्वेक्षण 2019-20 रिपोर्ट जारी करने की घोषणा करते हुए खुशी हो रही है। जैसा कि आप देख सकते हैं, हमने जीईआर (GER), जेंडर पैरिटी इंडेक्स में सुधार किया है। इंस्टीट्यूट ऑफ नेशनल इंपोर्टेंस की संख्या में 80% (2015 में 75 से 2020 में 135 तक) की बढ़ोत्तरी हुई है।”

एआईएसएचई रिपोर्ट 2018-19 के अनुसार, पहले के मुकाबले एमबीए (MBA), एमबीबीएस (MBBS), बीएड (BEd) और एलएलबी (LLB) जैसे प्रोफेशनल कोर्सेज ने स्टूडेंट्स को ज्यादा आकर्षित किया है। आंकड़ों की बात करें तो एमबीए करने वाले छात्रों की संख्या 2014-15 में 4 लाख 09 हजार 432 से बढ़कर 2018-19 में 4 लाख 62 हजार 853 हो गई। इसी तरह, बी.एड के छात्रों की संख्या 2014-15 में 6 लाख 57 हजार 194 थी जो पिछले साल 11 लाख 75 हजार 517 तक हो गई है, यानी लगभग 80 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है।

ये भी पढ़ें:NEET: इस राज्य में 4 नये मेडिकल कॉलेज, बढ़ेंगी 500 MBBS सीट्स, मंत्री ने की घोषणा

दूसरी तरह, बीटेक और एमटेक जैसे कोर्सेज में एडमिशन लेने वाले स्टूडेंट्स की संख्या में काफी कमी आई है। टेक्नोलॉजी कोर्सेज में मास्टर डिग्री करने वालों संख्या पिछले पांच सालों आधे से भी ज्यादा कम हो गई है। आंकड़ों पर नजर डालें तो साल 2014-15 में 2 लाख 89 हजार 311 छात्र थे जबकि 2018-19 में यह संख्या घटकर 1 लाख 35 हजार 500 तक आ गई है। एआईएसएचई रिपोर्ट के मुताबिक, बी.टेक में छात्रों संख्या 11 प्रतिशत गिरकर 42 लाख 54 हजार 919 से 37 लाख 70 हजार 949 हो चुकी है।

ये भी पढ़ें: QS World Ranking 2022: भारत की टॉप 25 यूनिवर्सिटीज, यहां देखें ग्लोबल रैंक लिस्ट

Education News: एजुकेशन न्यूज, Latest Exam Notifications, Admit Cards and Results, Job Notification, Sarkari Exams, सरकारी जॉब्स, सरकारी रिजल्ट्स, Career Advice and Guidance, करियर खबरें `- Navbharat Times

About R. News World

Check Also

ISRO Free Online Course: इसरो ऑनलाइन सर्टिफिकेट कोर्सेज के रजिस्ट्रेशन शुरू, फ्री में घर बैठे ऐसे लें क्लास

हाइलाइट्स: ISRO ऑनलाइन कोर्सेज के रजिस्ट्रेशन शुरू। 21 जून से शुरू होंगी इसरो ऑनलाइन कोर्सेज …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *