Breaking News

अकाली नेता व कैबिनेट मंत्री की पत्नी आमने सामने: अकाली नेता गरेवाल ने मंत्री आशु की पत्नी को  बोला टटीरी, जवाब में ममता बोलीं परिवार वालों को भी ऐसे ही बुलाते हो

  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • Akali Leader Garewal Called Minister Ashu’s Wife Tatiri, In Response Mamta Said, You Call Family Members In The Same Way

लुधियाना32 मिनट पहलेलेखक: दिलबाग दानिश

  • कॉपी लिंक
पत्रकारवार्ता के दौरान महेशइंद्र गरेवाल।

पत्रकारवार्ता के दौरान महेशइंद्र गरेवाल।

शिरोमणि अकाली दल बादल के सीनियर नेता महेशइंद्र सिंह गरेवाल के बड़बोले बोलों ने शहर की सियासत में उबाल ला दिया है। कैबेनिट मंत्री भारत भूषण आशू के विधान सभा क्षेत्र वैस्ट से अकाली दल के उमीदवार गरेवाल ने आशू की पत्नी के लिए गलत शब्दावली का इस्तेमाल किया है। दरअसल महेशइंद्र गरेवाल की ओर से पत्रकारवार्ता की गई थी। इस दौरान होर्डिंगस को लेकर वह बात कर रहे थे। इसी दौरान वह कैबेनिट मंत्री आशू की पत्नी और पार्षद ममता आशू के बारे में बात करने लगे। इस दौरान महेशइंद्र गरेवाल ने कहा कि ममता जी तुसीं कुछ नहीं, तुसीं एक मंत्री की पत्नी हो, घर संभालो, बिलकुल टटीरी की तरह यह मत समझो कि आसमान मेरे सिर पर खड़ा है, भुलेखे में नहीं रहो, मंत्री को भी मरवाओगे और खुद भी मरोगे। यह बातें गलत हैं वही आथारिटी का इस्तेमाल करना चाहिए जो आथारिटी कानून देता है। यह पत्रकारवार्ता बाद दोपहर की गई थी। उनकी इस बात को सोशल मीडिया पर वायरल किया जा रहा है।

सोशल मीडिया लाइव के दौरान ममता आशू

सोशल मीडिया लाइव के दौरान ममता आशू

क्या घर पर भी बहु बेटियों से ऐसे ही बोलते हैं गरेवाल, ममता आशु
महेशइंद्र गरेवाल द्वारा इस्तेमाल की गई शब्दावली का ममता आशु ने विरोध किया है। पत्रकारवार्ता के कुछ ही समय के बाद वह सोशल मीडिया पर लाइव हुईं और महेशइंद्र गरेवाल से सवाल पूछा कि क्या वह अपने घर पर भी अपनी बच्चों और बहु बेटियों से इसी तरह से बात करते हैं जो उनकी ओर से पत्रकारवार्ता में की गई है। ममता आशु ने कहा कि वह पब्लिक की चुनी हुईं पार्षद हैं और इसी लेहाज से मीटिंग करती हैं और यह लगातार जारी रहेंगीं। उन्होंने कहा कि महेशइंद्र सिंह गरेवाल उनके पिता सामान हैं और वह उन्हें इज्जत से मुखातिब होती हैं मगर उनकी ओर से इस्तेमाल की गई भाषा निंदणीय हैं और इसका विरोध होना चाहिए। उन्होंने अपने सपोर्टर से कहा है कि वह इसे ज्यादा से ज्यादा वायरल करें ताकि अकाली नेता की मंशा सबके सामने हो। यह उनके लिए नहीं बल्कि उन महिलाओं के लिए इस्तेमाल की गई शब्दावली है जो समाज में रहते हुए घर भी चलाती हैं और काम भी कर रही हैं।
ममता के बोर्ड उतारने वाले ब्यान से उठा मुद्दा
दरअसल ममता आशु की तरफ से कुछ दिन पहले यह पोस्ट डाली गई थी कि जिसमें उनकी ओर से शहर में लगे विज्ञापन बोर्डों को उतारने की मांग की गई थी ताकि शहर की सुंदरता बरकरार रखी जा सके। उनका कहना है कि उन्होंने यह कहा था कि उनके सपोर्टर वह बोर्ड नहीं लगाएं जो बिना मंजूरी के लगाए जाते हैं, इस पर कैबेनिट मंत्री की फोटो ना लगाएं। इसके बाद ही अकाली दल की तरफ से पत्रकारवार्ता कर ममता आशू पर डिक्टेटर होने के आरोप लगाए गए हैं।

खबरें और भी हैं…

पंजाब | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

कार्रवाई: बरनाला से जम्मू ले जाई जा रही 15 गाय बरामद, एक गिरफ्तार

लुधियाना2 घंटे पहले कॉपी लिंक सूचना पर शिकायतकर्ता ने साथियों समेत रविवार तड़के चार बजे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *