Breaking News

अस्पताल के नए नियम: रिपन में अब नहीं लेंगे काेराेना के मरीज, 20 जून तक ओपीडी शुरू करने की तैयारी

शिमला21 घंटे पहलेलेखक: सोमदत शर्मा

  • कॉपी लिंक
  • अभी यहां एडमिट है महज 33 मरीज, स्वस्थ होने पर जल्द किए जाएंगे डिस्चार्ज
  • 18 अप्रैल को बनाया था कोविड केयर सेंटर

काेविड केयर अस्पताल रिपन में अब ना ताे नए आने वाले काेराेना मरीजाें काे एडमिट किया जाएगा और ना ही यह अस्पताल अब काेविड केयर सेंटर रहेगा। जल्द ही यहां पर पहले की तरह सामान्य मरीजाें के लिए ओपीडी शुरू की जाएगी। सरकार के आदेशाें के बाद प्रशासन ने अब डीडीयू में पहले की तरह ओपीडी शुरू करने की तैयारी कर दी है।

केवल यहां पर अभी 33 मरीज एडमिट हैं अब उन मरीजाें के डिस्चार्ज हाेने का इंतजार किया जा रहा है। जैसे ही मरीज ठीक हाेकर यहां से डिस्चार्ज हाे जाएंगे। अस्पताल काे पूरी तरह से सेनेटाइज करके, उसमें दाेबारा से ओपीडी शुरू की जाएगी। रिपन अस्पताल में ओपीडी शुरू हाेने से मरीजाें काे काफी राहत मिलेगी। क्याेंकि अभी तक केवल आईजीएमसी में ही मरीजाें का इलाज किया जा रहा है। यहां पर काफी भीड़ हाे रही है, नॉर्मल चेकअप के लिए भी मरीजाें काे कई घंटे लाइनाें में लगना पड़ता है।

काेराेना काल में रिपन अस्पताल काे दाे बार काेविड केयर अस्पताल बनाया गया। शुरुआत में इसे कोविड अस्पताल बनाने का विरोध भी हुआ था। पहली बार बीते वर्ष इसे करीब छह माह तक काेविड अस्पताल बनाए रखा। 21 जनवरी से इसे दाेबारा से सामान्य ओपीडी के लिए शुरू कर दिया गया था।

इस दाैरान इसमें पहले की तरह रुटीन का इलाज शुरू हाे गया था। अप्रैल माह में काेराेना मरीज बढ़ने के साथ ही इसे दाेबारा से 18 अप्रैल काे काेविड अस्पताल बना दिया गया। जबकि अब दाेबारा से दाे माह के भीतर ही सामान्य मरीजाें के लिए खाेलने की तैयारी की जा रही है।

दाे माह में किया 672 मरीजाें का इलाज

रिपन अस्पताल को 18 अप्रैल काे काेविड अस्पताल बनाया गया था। इसके बाद यहां काेराेना मरीजाें काे लाया जा रहा था। इस बार यहां पर 672 काेराेना मरीजाें का इलाज किया गया, जबकि पिछली लहर में 1162 मरीज यहां से ठीक हाे घरगए।

इस बार काेराेना संक्रमण अधिक हाेने के कारण यहां पर करीब 140 बेड लगाए गए थे, जबकि पहली लहर में यहां पर मात्र 92 बेड ही लगाए थे। यहां पर शिमला और किन्नाैर के मरीजाें का इलाज किया जा रहा था। हालांकि इमरजेंसी में सिरमाैर और साेलन से भी कई मरीज यहां के लिए रेफर किए गए।

सामान्य ओपीडी ज्यादा जरूरी

रिपन अस्पताल सबसे बेहतर अस्पतालाें में से एक है। यहां जिलाभर से मरीज इलाज के लिए आते थे। काेराेना काल से पहले यहां राेजाना 1200 से ज्यादा ओपीडी हाेती थी। काेराेना में जब इसे बंद किया गया ताे मरीजाें काे काफी दिक्कतें आईं। मरीजाें काे इलाज के लिए अन्य अस्पतालाें पर निर्भर रहना पड़ा।

रिपन अस्पताल में अभी 33 मरीज काेराेना के एडमिट हैं। यह जल्दी से रिकवर हाे रहे हैं। करीब पांच से आठ दिन में इन सभी मरीजाें काे यहां से छुट्टी दे दी जाएगी। उसके बाद यहां पर पूरे परिसर काे सैनेटाइज करने के बाद अस्पताल में रूटीन की ओपीडी शुरू कर दी जाएगी।

सरकार के आदेशाें के बाद अब डीडीयू अस्पताल में नए काेराेना मरीजाें काे नहीं लिया जाएगा। यहां पर माैजूदा समय में काेराेना के 33 मरीज एडमिट हैं। जल्द ही यह स्वस्थ हाे जाएंगे और इन्हें डिस्चार्ज कर दिया जाएगा। उसके बाद यहां पर सामान्य ओपीडी शुरू की जाएगी। यहां पर स्टाॅफ सामान्य ओपीडी शुरू करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। 18 अप्रैल काे रिपन अस्पताल काे काेविड मरीजाें के लिए एक्वायर किया था। उसके बाद यहां पर 672 काेराेना मरीजाें का इलाज किया गया। डाॅ. रविंद्र माेक्टा, वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी रिपन अस्पताल

सैनिटोरियम अस्पताल काे काेविड सेंटर से हटाया

​​​​​​​शिमला के सैनिटोरियम अस्पताल काे काेविड स्वास्थ्य केंद्र से हटा दिया गया है। इसके लिए उपायुक्त शिमला आदित्य नेगी ने आदेश जारी करते हुए जिला कोविड स्वास्थ्य केंद्र की श्रेणी से तत्काल प्रभाव से हटा दिया है। मई माह में काेराेना के लगातार बढ़ते मरीजाें के बाद इसे काेविड सेंटर बनाया गया था।

यहां पर भी कई मरीजाें काे इलाज के लिए रखा गया था। मगर अब यहां पर मरीज नहीं है, ऐसे में इसे अब हटा दिया गया है। शिमला में निजी अस्पतालाें की श्रेणी में इसे भी काेविड केयर मरीजाें के लिए रखा गया था।

खबरें और भी हैं…

हिमाचल | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

संक्रमण का कहर: हिमाचल में 24 घंटे में काेराेना के 505 नए केस, 9 की मौत, 957 ठीक हुए

शिमला2 घंटे पहले कॉपी लिंक प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस से 9 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *