Breaking News

आज का जीवन मंत्र: हमेशा ध्यान रखें, हमें सलाह देने वाले लोग कौन हैं और कैसे हैं

3 घंटे पहलेलेखक: पं. विजयशंकर मेहता

  • कॉपी लिंक

कहानी- श्रीकृष्ण की एक पत्नी का नाम था सत्यभामा। सत्यभामा के पिता थे सत्राजित। द्वारिका में शतधनवा नाम के व्यक्ति ने अक्रूर और कृत वर्मा के उकसाने पर सत्राजित को मार दिया था।

पिता की मृत्यु से दुखी होकर सत्यभामा ने श्रीकृष्ण से कहा, ‘मुझे मेरे पिता की मृत्यु का बदला लेना है। आपको शतधनवा का मारना होगा।’

शतधनवा को ये बात मालूम हुई तो वह डरकर अक्रूर और कृत वर्मा के पास पहुंचा। इन दोनों ने उसकी मदद करने के लिए मना कर दिया। दोनों ने कहा, ‘हमने तुम्हें उकसाया, लेकिन हम तुम्हारी मदद नहीं कर सकते, क्योंकि हम श्रीकृष्ण से डरते हैं।’

शतधनवा ने बचने की बहुत कोशिश की, लेकिन श्रीकृष्ण ने उसे मार डाला। ये पूरा झगड़ा स्यमंतक नाम की मणि की वजह से हुआ था। ये मणि हर रोज 20 तोला देती थी। श्रीकृष्ण को ये मणि शतधनवा के पास नहीं मिली थी, उसने मणि अक्रूर के पास छोड़ दी थी।

अक्रूर बड़े तपस्वी थे और श्रीकृष्ण उन्हें काका कहते थे। डर की वजह से वह भी भाग गए। जब अक्रूर द्वारिका से चले गए तो वहां कई तरह की परेशानियां आने लगी थीं। लोगों ने श्रीकृष्ण से कहा, ‘अक्रूर जी के जाने के बाद यहां इतनी परेशानियां आ रही हैं। हमें उन्हें वापस बुलाना चाहिए, क्योंकि वे एक अच्छे व्यक्ति हैं।’

श्रीकृष्ण अक्रूर को ढूंढकर फिर से द्वारिका ले आते हैं। श्रीकृष्ण ने कहा, ‘ये पूरा झगड़ा एक मणि के कारण हो रहा है, धन अगर बीच में हो तो व्यक्ति अपने रिश्तों को ही खत्म कर देता है। धन का सदुपयोग भी हो सकता है और उसका दुरुपयोग भी हो सकता है।’

सीख – यहां श्रीकृष्ण ने संदेश दिया है कि अगर संपत्ति हमारी नहीं है, किसी दूसरे की है तो उस पर गलत नजर नहीं रखनी चाहिए। अपने अधिकार में वह संपत्ति न हो तो व्यक्ति उसे प्राप्त करने के लिए अपराध करने लगता है। कभी भी दूसरों की प्रेरणा से गलत काम न करें। प्रेरणा अच्छे कामों के लिए होती है। अक्रूर और कृत वर्मा ने शतधनवा को गलत प्रेरणा दी और उसने सत्राजित की हत्या कर दी। हमें ध्यान रखना चाहिए कि हमें सलाह देने वाले लोग कौन हैं और कैसे हैं। श्रीकृष्ण से सीखें कि अच्छे लोग हमारे आसपास रहें और अगर किसी अच्छे व्यक्ति से कोई गलती हो जाए तो उसे सुधरने का एक अवसर जरूर दें।

खबरें और भी हैं…

जीवन मंत्र | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

कोट्स: सफल होने से पहले सफलता और असफल होने से पहले असफलता, कभी नहीं माननी चाहिए

6 घंटे पहले कॉपी लिंक जीवन में परेशानियों का आना-जाना लगा रहता है, लेकिन जो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *