Breaking News

इंजेक्शन की मांग: परिजन गुहार लगाते रहे, टीके की अप्रूवल मिलने में लग गए 28 घंटे

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हिसार19 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • काेराेना राेगी काे हार्ट समस्या पर टोसिलिजुमैब टीके की जरूरत थी

हिसार के निजी अस्पताल में भर्ती मरीज काे हार्ट की समस्या हुई ताे डाॅक्टराें ने टोसिलिजुमैब इंजेक्शन की मांग की। मगर 28 घंटे तक स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियाें ने मरीज के लिए इंजेक्शन उपलब्ध नहीं कराया। सीएमओ कार्यालय पर पहुंचकर भी परिजनाें ने हंगामा किया।

बाद में सीएमओ ने इंजेक्शन के लिए चंडीगढ़ की कमेटी काे प्रस्ताव भेजा। 28 घंटे के बाद चंडीगढ़ की कमेटी का अप्रूवल मिलने के बाद ही मरीज काे 32 हजार रुपये में इंजेक्शन उपलब्ध कराया गया। मरीज के परिजनाें में विभागीय अधिकारियाें के प्रति आक्राेश व्याप्त है।

परिजनाें ने सीएमओ कार्यालय के बाहर भी किया हंगामा

मरीज के चाचा राजमल सैनी ने बताया कि उन्हाेंने अपने 45 वर्षीय भतीजे काे काेराेना संक्रमित हाेने के बाद हिसार के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया था। जहां पर उसे हार्ट की समस्या हाे गई। डाॅक्टर ने मरीज के लिए टोसिलिमुजैब इंजेक्शन की जरूरत बताई। चिकित्सक ने गुरुवार दाेपहर को इंजेक्शन के लिए सीएमओ से अप्रूवल मांगी मगर विभागीय अधिकारियाें द्वारा इंजेक्शन उपलब्ध नहीं कराया गया।

गुरुवार काे रात 12 बजे के करीब मरीज के परिजन सीएमओ के आवास पर पहुंचे तथा बताया कि मरीज की हालत अधिक बिगड़ गई है। यदि जल्द ही उसे इंजेक्शन उपलब्ध नहीं कराया ताे उसकी जान भी जा सकती है। हालांकि सीएमओ ने तुरंत ही इस मामले में कार्रवाई करते हुए ई-मेल से उच्च स्तरीय कमेटी काे पत्र भेजा तथा इंजेक्शन के लिए अप्रूवल मांगी।

मगर शुक्रवार सुबह दस बजे तक इंजेक्शन उपलब्ध नहीं कराया गया। जिस पर मरीज के परिजन सीएमओ कार्यालय पर पहुंचे तथा हंगामा किया। आराेप था कि जान बूझकर इंजेक्शन के लिए देरी की जा रही है।

राजमल ने बताया कि उसने गुरुवार काे दाेपहर 12 बजे सीएमओ से इंजेक्शन की मांग की थी। शुक्रवार काे दाेपहर 3 बजे के बाद कमेटी की अप्रूवल मलने के बाद ही स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियाें ने मरीज के लिए इंजेक्शन उपलब्ध करवाया। परिजनाें ने व्यवस्था में सुधार की मांग भी विभागीय अधिकारियाें से की। ताकि समय पर अन्य मरीजाें की भी जान बचाई जा सके।

सीएमओ बोलीं-कमेटी की अप्रूवल के बाद ही इंजेक्शन देने का नियम

टोसिलिजुमैब इंजेक्शन को उपलब्ध करवाने के लिए चंडीगढ़ से परमिशन लेनी पड़ती है। बिना परमिशन के इंजेक्शन नहीं दिया जा सकता। 45 वर्षीय मरीज के मामले में तत्काल स्पेशल अप्रूवल लेकर इंजेक्शन उपलब्ध करवाया गया है। प्रयास रहता है कि किसी भी मरीज या फिर तीमारदार काे परेशानी न हो।”
– डाॅ. रत्ना भारती, सीएमओ, हिसार।

खबरें और भी हैं…

हरियाणा | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

सुभाष बराला एक और साल के लिए चेयरमैन: ऐलनाबाद उपचुनाव से 5 दिन पहले सरकार ने बढ़ाया कार्यकाल, जाट वोटों को साधने की रणनीति

सोनीपत2 घंटे पहले कॉपी लिंक हरियाणा में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रह चुके सुभाष बराला …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *