Breaking News

इंटरसेप्टर विहिकल से उज्जैन में बनाए 18 चालान: 1 km दूर से ही स्पीड लेजर गन से मापी जाएगी गाड़ी की स्पीड, इसमें ब्रीद एनालाइजर भी

  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ujjain
  • The Speed Of The Vehicle Will Be Measured With A Laser Gun From A Kilometer Away, If It Is More Then The Challan Will Be Made, It Also Has A Breath Analyzer.

उज्जैन11 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

इंटरसेप्टर वीकल के पीछे की ओर �

तेज वाहन चलाने वालों पर नकेल कसने के लिए पुलिस के पास अब इंटरसेप्टर वाहन उपलब्ध है। पुलिस ने बीते 72 घंटों में ऐसे 18 लोगों को पकड़ा है जो अपनी कार तय स्पीड से ज्यादा तेज चला रहे थे। केंद्र सरकार की ओर से मिले इस इंटरसेप्टर वाहन को ट्रैफिक पुलिस शहर के अलग-अलग हिस्सों और स्टेट हाईवेज पर खड़ा करके वाहन चालकों की स्पीड चेक कर रही है।

उज्जैन-इंदौर रोड पर वाहनों की स्पीड की निगरानी करता इंटरसेप्टर विहिकल।

उज्जैन-इंदौर रोड पर वाहनों की स्पीड की निगरानी करता इंटरसेप्टर विहिकल।

ट्रैफिक पुलिस ने इंदौर-उज्जैन और उज्जैन-नागदा स्टेट हाइवे पर तीन दिनों के भीतर 18 कार चालकों के चालान काटे। ये सभी निर्धारित 80 किमी प्रति घंटे की स्पीड से ज्यादा तेजी से चल रहे थे। DSP ट्रैफिक सुरेंद्रपाल सिंह ने बताया कि इस इंटरसेप्टर वाहन को हम शहर के भीतर भी खड़ा करके चालानी कार्रवाई करेंगे।

ऐसे काम करता है इंटरसेप्टर वाहन

इसमें हाइटैक कैमरे लगे होते हैं। जो वाहन की स्पीड एक किमी पहले से ही चैक करना शुरू कर देते हैं। वाहन जब इंटरसेप्टर से 200 मीटर दूर होता है तब तक इससे अटैच्ड कलर प्रिंटर सामने से आ रहे वाहन का कलर प्रिंट, उसकी स्पीड और चालान की कॉपी निकाल देता है। जब तक वाहन इंटरसेप्टर वीकल के पास आता है पुलिस सक्रिय हो जाती है और वाहन चालक को रोक लेती है। उसे चालान की राशि जमा कराने के बाद ही आगे जाने दिया जाता है। इसमें लगा हाईटेक स्पीड राडार से स्पीड चैक की जाती है। मप्र में ऐसे 33 इंटरसेप्टर दिए गए हैं। इसका उद्देश्य दुर्घटनाएं रोकना हैं।
इस वाहन से ये हैं फायदे

  • यह वाहन शहर की यातायात व्यवस्था की रीयल टाइम निगरानी करेगा। इससे ट्रैफिक इंजीनियरिंग और सड़क दुर्घटनाओं को रोकने में मदद मिलेगी।
  • इसमें एक ब्रीद एनालाइजर भी लगा होता है। शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों की जांच में मददगार साबित होगा।
  • स्पीड लेजर गन के अलावा वाहन में एक और डिवाइस भी लगी है, जिसके जरिए वाहनों में काली फिल्म की पारदर्शिता भी मापी जा सकती है।
  • इंटरसेप्टर वाहन में कलर प्रिंटर लगा है जो मौके पर साक्ष्यों की हार्डकॉपी उपलब्ध कराता है।

हर वाहन पर रखेंगे नजर

हम एक्सीडेंट प्रोन जोन पर भी इस वाहन के माध्यम से निगरानी करेंगे। वहां होने वाले हादसों को रोकने में यह इंटरसेप्टर वीकल मददगार साबित होगा। हादसों को कम करने के साथ ही लोगों को सही स्पीड की जानकारी भी देना हमारा उद्देश्य है।
सुरेंद्रपालसिंह राठौर, डीएसपी ट्रैफिक, उज्जैन

खबरें और भी हैं…

मध्य प्रदेश | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

साल जनवरी 2022 तक 100 प्रतिशत दूसरे डोज का लक्ष्य: दूसरे टीके के प्रति लोग लापरवाह, 84 दिन पूरे होने के बाद भी 1.03 लाख लोगों ने नहीं लगवाया डोज

मंदसौर28 मिनट पहले कॉपी लिंक कोरोना संक्रमण कम होने पर वैक्सीन के दूसरे डोज के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *