Breaking News

इंदौर की अनाथ बच्ची को मिली इटली में खुशियां: दो साल की कानूनी लड़ाई लड़ परिवार ले गया साथ ,2018 में मिली थी लावारिस

इंदौर35 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

एमवाय अस्पताल में साल 2018 में एक दो माह की बच्ची पहुंची थी। यहां लावारिस हालत में मिलने के बाद महिला बाल विकास ने इसे विजय नगर के सेवा भारती मातृछाया संस्था को सौप दिया था। कुछ समय बाद बच्ची को गोद लेने के लिये इटली के एक दंपत्ति आगे आए। लेकिन कानून की अड़चन सामने आ गई। इसके बाद जटिल प्रक्रिया पूरी कर मंगलवार को दंपत्ति उस बच्ची को अपने साथ ले गए।
महिला बाल विकास विभाग ने विजय नगर इलाके में स्थित सेवा भारती मातृछाया में वर्ष 2018 में आई एक बच्ची को इटली के एक दंपति निकोला डी बार्टोलोमेडो और उनकी पत्नी नुंझिया बितले को सौप दिया। बताया जाता है कि दंपत्ति दो दिनों से इंदौर की एक होटल में ठहरे थे। जिन्हें कानूनी प्रक्रिया पूरी होने के बाद बाल संरक्षण अधिकारी अविनाश यादव ने दंपत्ति के सुपुर्द किया।
अगस्त 2018 में पहुंची थी संस्था में
जब बच्ची दो माह की थी तो एमवाय अस्पताल के बाल विका विभाग की देखरेख में बच्ची सेवा भारती मातृछाया संस्था में पहुंची थी। यहां सालभर बाद इस बच्ची को लेने के लिए कोई परिवार सामने नहीं आया तो वर्ष 2018 में बाल कल्याण विभाग द्वारा इसे विधिमुक्त कर दिया। उसके बाद बच्ची की सारी डिटेल सेंट्रल एडक्शन रिसोर्स अथॉरिटी को दी गई। लेकिन तीन बीमारियों के चलते भारत में बच्ची के लालन पालन के लिये किसी ने हाथ नही बढ़ाया। इसी बीच विदेशों में संपर्क किया गया। जहां से इटली के दंपत्ति निकलकर सामने आए।
कोरोना महामारी में रूक गया काम
एनओसी जारी होने के बाद महिला बाल विकास विभाग की टीम ने वर्ष 2019 में कोर्ट में इस बच्ची के संबंध में सारे दस्तावेत देते हुए गोद लेने वाले दंपति के साथ बच्ची को विदेश भेजने की अनुमति मांगी। इसी बीच कोरोना महामारी में 2 साल तक न्यायालय में मामला अटका रहा। जुलाई 2021 में कोर्ट ने सभी जांच-पड़ताल पूरी करते हुए इटली के दंपति को गोद लेने के आदेश जारी कर दिए। कोर्ट से निर्णय आने के बाद महिला बाल विकास विभाग की टीम ने बच्ची का पासपोर्ट बनवाने की प्रक्रिया शुरू की, जिसमें थोड़ा समय लग गया। पासपोर्ट बनने के बाद इटली के परिवार से संपर्क किया गया

खबरें और भी हैं…

मध्य प्रदेश | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

बाल विकास विभाग की महिला कर्मचारी के साथ छेड़छाड़: आरटीआई रिपोर्ट में अपने अनुसार जानकारी लिखवाने का बना रहा था दवाब, गालीगलौच कर महिला के फाड़े कपड़े, केस दर्ज

Hindi News Local Mp Gwalior Datiya According To The RTI Report, Pressure Was Being Made …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *