Breaking News

ऑक्सीजन की कमी से मौतों का सच: केंद्र बोला- ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं, मंत्री रघु ने कहा-राजस्थान ही नहीं, पूरे देश में मौतें

जयपुर/नई दिल्ली5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा(फाइल फोटो)

  • भास्कर पीड़ित परिवारों के घर पहुंचा- ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों का सच सामने लाया

काेराेना महामारी की दूसरी लहर के दाैरान राजस्थान, दिल्ली, मप्र, कर्नाटक सहित कई राज्याें में ऑक्सीजन की कमी से कई मरीजों की माैत की खबरें आई थीं। मगर एक दिन पहले ही केंद्र ने संसद में बयान दिया कि देश में ऑक्सीजन से कोई मौत नहीं हुई। क्योंकि राज्य सरकारों ने ऑक्सीजन की कमी से एक भी मौत की सूचना नहीं दी है।

वहीं, राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने भास्कर से बातचीत में कहा- राजस्थान ही नहीं पूरे देश में ऑक्सीजन की कमी से मौतें हुई हैं। इतनी मौतें हुई हैं कि गिनती तक नहीं है। प्रदेश में ऑक्सीजन किल्लत को लेकर हमने केंद्र से कई बार मिन्नतें कीं। 50 चिटि्ठयां लिखीं, लेकिन हमारी जरूरत के मुताबिक ऑक्सीजन नहीं भेजी गई। लोग ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए सड़कों पर भटक रहे थे।

परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा- सीएम गहलोत हाथ जोड़कर केंद्र से ऑक्सीजन के लिए भीख मांग रहे थे। उधर, बुधवार को इस पर कांग्रेस, आप सहित अन्य विपक्षी दलाें ने सदन को गुमराह करने का आराेप लगाया।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लिखा, ‘सिर्फ ऑक्सीजन की ही कमी नहीं थी। संवेदनशीलता व सत्य की भारी कमी-तब भी थी, आज भी है।’

राजस्थान के 5 जिलों में 8 मरीजों की ऑक्सीजन की कमी से मौत के सबूत तो भास्कर के ही पास हैं। इनमें जयपुर के 4, कोटा के 2, जोधपुर-बारां और बीकानेर का एक-एक मामला शामिल है। जयपुर में 28 अप्रैल काे रात 12 बजे कालवाड़ के खंडाका हॉस्पिटल में ऑक्सीजन खत्म होने से चार लोगों की मौत हो गई थी।

उधर, कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा, ‘केंद्र ने सदन में गुमराह करने वाला बयान दिया। यह अक्षम्य है।’ वहीं, भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, ‘ऑक्सीजन की कमी से माैत का आंकड़ा राज्याें काे भेजना था। राज्याें ने रिपाेर्ट नहीं दी, ताे क्या कहा जाएगा?’

सबसे बड़ा झूठ बनाम सच बयां करती तस्वीरें

मंत्री कहते हैं- उस दौर में लोग सड़कों पर सिलेंडर के लिए भटक रहे थे, हमने केंद्र को 50 चिटि्ठयां लिखीं, लेकिन हमारी जरूरत के मुताबिक ऑक्सीजन नहीं दी गई

कोटा; गुरदीप सिंह (36)

27 अप्रैल; नए अस्पताल के सीसीयू में माैत हुई थी। पत्नी मनिंदर एमबीएस में नर्स हैं। वे बताती हैं कि रात करीब 2 बजे ऑक्सीजन प्रेशर ड्राॅप हुआ। पति को सांस में तकलीफ हाेने लगी। स्टाफ से कहा तो बोला- प्लांट से सप्लाई बाधित है। 2 घंटे गोद में लिए बैठी रही और सांसें उखड़ गईं।

बीकानेर; स्नहेलता सुराणा

8 मई; स्नेहलता के बेटे नवरतन ने बताया कि सैचुरेशन कम हुआ तो हॉस्पिटल ले गए। अस्पताल ने कहा- ऑक्सीजन कम है। उम्मीद थी कि शाम तक आ जाएगी। शाम को मां के साथ चाय-बिस्किट खा रहे थे। ऑक्सीजन खत्म हो गई। वे हांफने लगीं। आंखों के सामने ही दम तोड़ दिया।

कोटा; शिप्रा नागर

19 अप्रैल; पति विमल नागर ने बताया कि रात 9 बजे डॉक्टर ने शिप्रा की सेहत में सुधार होने से 1-2 दिन में डिस्चार्ज करने की बात कही थी। 20 अप्रैल की रात करीब 1 बजे बड़े भाई ने जगाया कि शिप्रा को ऑक्सीजन की कमी से तकलीफ हो रही है। 2 घंटे तड़पने के बाद मौत हो गई।

जोधपुर; शिवलाल (49)

29 अप्रैल; बिलाड़ा के रमेश ने बताया कि उनके भाई शिवलाल को सांस लेने में तकलीफ थी। नर्सिंग स्टाफ और डॉक्टरों को आईसीयू में भर्ती करने के लिए कहा। बाद में आईसीयू शिफ्टिंग के दौरान शिवलाल की मौत हो गई। डॉक्टरों ने चैक किया तो ऑक्सीजन सिलेंडर खाली था।

देश में ऑक्सीजन की कमी से 629 मौतें, जबकि केंद्र ने कहा था कि एक भी नहीं हुई

मीडिया रिपोर्टाें, जांच पैनल व अस्पतालों के बयान पर बनाए दस्तावेज में कहा गया है कि इस साल 6 अप्रैल से 19 मई के बीच देश के 110 अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी से 629 मरीजों की मौत हुई, लेकिन राज्यों ने मना किया…

  • झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा, राज्य में ऑक्सीजन की कमी से मरीजाें की माैतें हुईं।
  • महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा, राज्य में ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं हुई।
  • कर्नाटक में हाईकाेर्ट की समिति ने 36 माैताें की पुष्टि की है लेकिन, उपमुख्यमंत्री ने इनकार किया है।
  • मप्र के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने कहा कि ऑक्सीजन की कमी से प्रदेश में कोई मौत नहीं।
  • छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा, ‘हमारे राज्य में ऑक्सीजन की कमी के कारण काेई माैत नहीं हुई है।’

खबरें और भी हैं…

दिल्ली + एनसीआर | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों की डाक कांवड़: गांवों से मिट्टी-जल लेकर दिल्ली के बॉर्डरों पर पहुंच रहे यूपी-हरियाणा के किसान, कांवड़ यात्रा की तर्ज पर अनूठी शुरुआत

गाजियाबाद2 घंटे पहलेलेखक: सचिन गुप्ता कॉपी लिंक गाजीपुर बॉर्डर पर डाक कांवड़ लेकर पहुंच रहे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *