Breaking News

कोलकाता के दो बार चैंपियन बनने की कहानी: जब-जब फाइनल में पहुंची KKR विजेता बनी, 2012 में चेन्नई को मात दे चुकी; आज फिर उसी से टक्कर

दिल्लीकुछ ही क्षण पहले

  • कॉपी लिंक

IPL 2021 का फाइनल आज चेन्नई और कोलकाता के बीच खेला जाना है। कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) तीसरी बार फाइनल में पहुंची है। इससे पहले साल 2014 और 2012 में भी ये टीम फाइनल में पहुंच चुकी है। दोनों बार कोलकाता की टीम चैंपियन बनी थी। इस दौरान टीम के कप्तान टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर थे।

2012 में चेन्नई सुपर किंग्स को दी थी मात
IPL 2012 के फाइनल मैच में चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया था। सुरेश रैना ने मैच में धमाकेदार पारी खेली। उन्होंने सिर्फ 38 गेंद में 73 रन जड़ दिए। वहीं, माइक हसी ने 43 गेंद में 4 चौके और 2 छक्के की मदद से 54 रन बनाए। रैना और हसी के दम पर चेन्नई ने 20 ओवर में 3 विकेट खोकर 190 रन बनाए।

मनविंद्र बिस्ला का धमाका और कोलकाता पहली बार बनी चैंपियन
​​​​
मैच में कोलकाता के सलामी बल्लेबाज मनविंद्र बिस्ला अलग ही रंग में नजर आए। उन्होंने सिर्फ 48 गेंदों में 89 रनों की मैच विनिंग पारी खेली। इस पारी के लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड भी मिला। हालांकि, मनविंद्र बिस्ला के आउट होने के बाद कोलकाता की टीम थोड़ी परेशानी में आ गई थी। यूसुफ पठान जल्दी आउट हो गए और तब टीम को जीत के लिए 17 गेंद में 26 रन चाहिए थे। तभी टीम को एक और झटका लगा।

जैक कैलिस 49 गेंद में 69 रन बनाकर आउट हो गए। आखिरी ओवर में कोलकाता को 8 रन बनाने थे। धोनी ने ड्वेन ब्रावो के हाथों में गेंद दी, लेकिन वो मैच नहीं बचा पाए। साल 2012 में टीम के साथ धोनी, सुरेश रैना, रवींद्र जडेजा, ड्वेन ब्रावो थे। वह आज होने वाले फाइनल में भी टीम के साथ होंगे। वहीं, कोलकाता की टीम के लिए वह फाइनल मैच शाकिब अल हसन और सुनील नरेन ने खेला था। 9 साल बाद ये भी खिलाड़ी KKR टीम का हिस्सा होंगे।

दो साल बाद फिर फाइनल में पहुंची कोलकाता
2012 के बाद IPL 2014 में कोलकाता नाइट राइडर्स ने फिर खिताब अपने नाम किया। इस सीजन भी टीम के कप्तान गोतम गंभीर ही थे। कोलकाता नाईट राइडर्स ने 2014 के फाइनल में पंजाब को 3 विकेट से हराया था। मैच में किंग्स इलेवन पंजाब के लिए रिद्धिमान साहा ने शानदार पारी खेली थी। उन्होंने IPL फाइनल में पहला शतक जड़ा। पंजाब की टीम ने 20 ओवर में 4 विकेट खोकर 199 रन बनाए। साहा ने 55 गेंदों पर 115 रन की नाबाद पारी खेली। वहीं, टीम के सलामी बल्लेबाज मनन वोहरा ने 52 गेंदों पर 67 रनों का योगदान दिया।

मनीष पांडे की धमाकेदार पारी और कोलकाता बना दूसरी बार विजेता
लक्ष्य का पीछा करने उतरी कोलकाता की टीम को शुरुआती झटके लगे, लेकिन इसके बाद मनीष पांडे और यूसुफ पठान ने टीम को संभाला। दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 71 रन जोड़े। मनीष पांडे ने 50 गेंद पर 7 चौके और 6 छक्‍कों की मदद से 94 रन बनाए। वहीं, यूसफ पठान ने 22 गेंदों पर 36 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली।

अपनी इस पारी के दौरान उन्होंने 4 छक्के जड़े। कोलकाता ने 200 रन का लक्ष्य 19.3 ओवर में 7 विकेट खोकर ही हासिल कर लिया। मनीष पांडे को मैन ऑफ द मैच चुना गया।

खबरें और भी हैं…

स्पोर्ट्स | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

सुपर-12 में पहुंची श्रीलंका: आयरिश टीम को 70 रनों से हराया; नामीबिया-आयरलैंड में से कोई एक टीम इंडिया के ग्रुप में बनाएगी जगह

6 मिनट पहले कॉपी लिंक श्रीलंका ने टी-20 वर्ल्ड कप क्वालिफायर मैच में आयरलैंड को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *