Breaking News

गरीबों को नहीं मिल रहा राशन योजना का लाभ: कोरोना के कारण अब तक 96 हजार कार्ड ही बने; अंचलों में RTPS काउंटर के माध्यम से राशन कार्ड बनवाने की मांग

पटनाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

जून 2020 में आधार सीडिंग के क्रम में 1.25 लाख राशन कार्ड रद्द कर दिए गए थे। (फाइल फोटो)

पटना में बड़ी संख्या में गरीब परिवारों को राशन योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। इसका कारण उनके पास राशन कार्ड का नहीं होना है। इस मामले को मेयर सीता साहू ने खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री लेशी सिंह से मिलकर उठाया है। नगर निगम क्षेत्र के गरीब परिवारों को राशन की उपलब्धता को लेकर सरकार के स्तर से उचित कार्रवाई की मांग की। मेयर ने नगर निगम के सभी छह अंचलों में RTPS के तहत राशन कार्ड बनवाने की व्यवस्था का अनुरोध किया। अंचल कार्यालयों में राशन कार्ड बनवाने के लिए फॉर्म जमा कराने की अनुमति देने की मांग की।

पटना नगर निगम क्षेत्र में राशन कार्ड की स्थिति पिछले साल से ठीक नहीं है। मेयर ने बताया कि जून 2017 से पहले निगम क्षेत्र में 2 लाख 17 हजार 384 लोगों के पास राशन कार्ड था। आधार सीडिंग के क्रम में 1.25 लाख राशन कार्ड रद्द कर दिए गए। कोरोना संक्रमण के कारण अब तक 96 हजार राशन कार्ड ही बन सके हैं। इससे गरीब परिवार के लोग परेशान हैं। मेयर ने मंत्री को ज्ञापन सौंपकर नगर निगम के सभी छह अंचलों में RTPS काउंटर के माध्यम से राशन कार्ड बनाने की प्रक्रिया अविलंब शुरू करने का अनुरोध किया।

छूटे लोगों का नाम जोड़ने के लिए हो व्यवस्था

नगर निगम की ओर से राशन कार्ड में छूटे नामों को जोड़ने के लिए विशेष योजना बनाने की जरूरत बताई गई है। मेयर ने मंत्री से कहा कि अभी जो राशन कार्ड बने हैं, उनमें गड़बड़ी का मामला सामने आया है। लगभग हर राशन कार्ड में एक-दो लाभुकों का नाम छूट गया है। इस कारण ये लोग मुख्यमंत्री के स्तर पर चल रही योजना का लाभ पाने से वंचित हैं। नए राशन कार्ड में कई पात्र सदस्यों के नाम, आधार कार्ड आदि देने के बाद भी उनका नाम कार्ड में नहीं जोड़ा जा रहा है। इस मामले में उचित कार्रवाई जरूरी है। मेयर ने जारी होने वाले राशन कार्ड के कुछ माह में अपने आप रद्द होने का भी मामला उठाया। उन्होंने कहा कि इससे पात्र परिवार अनाज का उठाव नहीं कर पाते हैं।

अनाज की हो रही कालाबाजारी

मेयर ने पात्र लोगों को अनाज नहीं मिलने व कालाबाजारी का भी मुद्दा उठाया। कहा कि पिछले दो साल में जो राशन कार्ड जारी किए गए हैं, उनमें देखा गया है कि दूसरे व्यक्ति का आधार सीडिंग कर से हकमारी की जा रही है।

शत-प्रतिशत हो राशन का उठाव

मेयर ने कहा कि निगम क्षेत्र में मात्र 40 फीसदी राशन का उठाव हो रहा है। इससे उन्हें राशन की सुविधा से वंचित किया जा रहा है। राशन का उठाव शत-प्रतिशत होना चाहिए। उन्होंने केरोसिन का अनुपात बढ़ाने की मांग की।

खबरें और भी हैं…

बिहार | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

मुजफ्फरपुर में 15 लाख का नकली सामान जब्त: चायपत्ती से लेकर ब्रांडेड कंपनी का नकली तेल भी बिक रहा था, सेनेटाइजर भी जब्त, आरोपी की गिरफ्तारी में जुटी पुलिस

मुजफ्फरपुरएक घंटा पहले कॉपी लिंक छापेमारी के बाद बरामद सामान। मुजफ्फरपुर में ब्रांडेड के नाम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *