Breaking News

गुड़िया दुष्कर्म और हत्याकांड: दोषी की सजा पर सुनवाई पूरी हुई, 18 जून को आ सकता है फैसला, दुराचार के बाद की गई थी छात्रा की हत्या

शिमला2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

दोषी नीलू को कोर्ट रूम में लेकर जाती पुलिस।

हिमाचल प्रदेश के बहुचर्चित गुड़िया दुष्कर्म और हत्या मामले में दोषी करार दिए गए चरानी अनिल उर्फ नीलू की सजा पर सुनवाई पूरी हो गई है। सजा का ऐलान 18 जून को किया जा सकता है। क्योंकि केस की सुनवाई 18 जून तक टल गई है।

28 अप्रैल को दोषी करार हुआ

शिमला जिले के कोटखाई गांव में 2017 में हुई वारदात में चरानी अनिल उर्फ नीलू को जिला शिमला की विशेष अदालत ने 28 अप्रैल को दोषी करार दिया था। नीलू को मंगलवार को कड़ी सुरक्षा के बीच अदालत में पेश किया गया और उसके बाद सुनवाई शुरू हुई। CBI वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से पेश हुई। जबकि आरोपी की तरफ से वकील ने कोर्ट रूम में बहस की।

CBI ने मौत की सजा मांगी

CBI ने पूरी घटना को अमानवीय कृत्य बनाते हुए दोषी नीलू को मौत की सजा देने की मांग की। वहीं, आरोपी के वकील ने सजा में रियायत देने की बात कोर्ट में रखी। सजा पर सुनवाई लगभग दो घंटे तक चली। वहीं सजा पर बहस के दौरान दोषी बहुत बैचेन दिखा। वह अपने आप को बेगुनाह मानता है और अपने बचाव में दोषी ने एक गवाह भी कोर्ट में पेश किया था।

ये है पूरा मामला

4 जुलाई, 2017 को शिमला जिले के कोटखाई की एक छात्रा स्कूल से लौटते समय लापता हो गई थी। 6 जुलाई को कोटखाई के तांदी के जंगल में उसका शव मिला था। जांच में पाया गया कि छात्रा की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी। इस केस की जांच पहले SIT कर रही थी। तत्कालीन IG जहूर जैदी की अध्यक्षता में गठित SIT ने रेप-मर्डर के आरोप में एक स्थानीय युवक सहित 6 लोगों को गिरफ्तार किया।

इनमें से एक नेपाली युवक सूरज की कोटखाई थाने में पुलिस हिरासत के दौरान मौत हो गई थी। उधर, जब इस मामले में न्याय की मांग को लेकर लोग सड़कों पर उतर आए और हिमाचल प्रदेश में कई जगह उग्र प्रदर्शन हुए तो यह केस CBI के हवाले कर दिया गया था। CBI ने ही इस मामले का खुलासा किया था। CBI ने गुड़िया रेप-मर्डर और सूरज हत्याकांड में दो अलग-अलग मामले दर्ज किए।

सूरज हत्याकांड में IG जैदी सहित 9 पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों को गिरफ्तार किया गया और इनके खिलाफ कोर्ट में चालान भी पेश किया गया। हाल ही में 28 अप्रैल को इस बहुचर्चित केस में शिमला जिला अदालत में विशेष न्यायाधीश राजीव भारद्वाज की अदालत ने 28 वर्षीय अनिल कुमार उर्फ नीलू उर्फ चरानी को दोषी करार दिया है। धारा 372 (2) (I) और 376 (A) के तहत दुराचार का दोषी माना।

जस्टिस चौहान खींच चुके हैं हाथ पीछे

भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत उसे हत्या और धारा 4 में दमनकारी यौन हमला करने की सजा का पात्र माना। पीड़िता नाबालिग थी, इसलिए आरोपी को पॉस्को एक्ट के तहत भी दोषी माना गया। सजा का ऐलान करने के लिए कोर्ट ने 11 मई की तारीख दे दी। इसी बीच संबंधित पक्ष ने हाईकोर्ट में याचिका दायर करके CBI की जांच में खामियां बताई हैं और इस मामले की जांच दोबारा करवाने की मांग की है। बीते दिनों हाईकोर्ट में न्यायाधीश तरलोक सिंह चौहान और न्यायाधीश CB बारोवालिया की खंडपीठ के समक्ष सुनवाई हुई। इस दौरान जस्टिस तरलोक सिंह चौहान ने खुद को सुनवाई वाले बेंच से अलग कर लिया है। इसके बाद दायर याचिका पर सुनवाई फिलहाल टल गई है।

खबरें और भी हैं…

हिमाचल | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

अब तक 205061 लोग पाॅजिटिव: प्रदेश के मंडी जिले में कोरोना से 1 की मौत, 130 नए केस, मास्क ही कर सकता है संक्रमण से बचाव

शिमला12 घंटे पहले कॉपी लिंक फाइल फोटो प्रदेश में पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *