Breaking News

छतरपुर में 1 रुपए में भरपेट भोजन: प्रदेश की पहली होटलनुमा हाईटेक चाचा की रसोई 15 अक्टूबर से शुरू

छतरपुर3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

यह है चाचा की रसोई।

कोरोना महामारी ने देश की अर्थव्यवस्था से लेकर आम लोगों की जेब पर जबर्दस्त असर डाला है। बहुतों ने नौकरी गंवाई। ऐसे में जहां लोग ज्यादा से ज्यादा बचत की सोच रहे हैं। वहीं एक शख्स ऐसा भी है, जिसे इससे कोई सरोकार नहीं। आलोक चतुर्वेदी नाम का ये शख्स छतरपुर के लोगों को 1 रुपए में भरपेट स्वादिष्ट और पौष्टिक खाना खिलाने जा रहा है। इस पुनीत कार्य का शुभारंभ उनके जन्मदिन 15 अक्टूबर को पूज्य संत किशोरदास पड़रिया धाम एवं धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री बागेश्वर के सानिध्य में किया जाएगा।

मानवता की सेवा की दिशा में एक और काबिले तारीफ कदम

चाचा की रसोई निश्चित ही मकसद बड़ा पवित्र है कोई गरीब भूखा न रहे। यह नेक और पुण्य काम करने जा रहे हैं मध्यप्रदेश से छतरपुर के सदर विधायक आलोक चतुर्वेदी। जो किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। अपनी नेक नीयत और सरकारी भर्राशाही से दूर वह स्वयं के संसाधनों से 15 अक्टूबर अपने जन्मदिन पर गरीब, असहाय जनता को एक बड़ी सौगात देने जा रहे हैं। उनके द्वारा गरीब जनता को भरपेट भोजन कराने के लिए किशोर सागर तालाब के पास बनाए गए सेवाग्राम में एक हाईटेक रसोई का निर्माण किया गया है। जहां शुद्ध स्वादिष्ट भोजन की थाली सिर्फ एक रुपए में हर किसी को उपलब्ध होगी।

15 अक्टूबर से चाचा की रसोई का श्री गणेश हो जाएगा और यह जनता को समर्पित कर दी जाएगी। चूंकि विधायक युवाओं के बीच चाचा के नाम से विख्यात हैं, इसलिए इसका नाम रखा गया है चाचा की रसोई।

जिनके पास 1 रुपए भी न हो, वे भी नहीं लौटेंगे भूखे

आलोक चतुर्वेदी के पुत्र नितीश उर्फ मिक्की चतुर्वेदी ने बताया कि साल के 365 दिन यह रसोई चलेगी और किसी को भूखा नहीं लौटाया जाएगा। लोगों से केवल 1 रुपए इसलिए ले रहे हैं, ताकि किसी को यह न लगे कि वो मुफ्त में खाना खा रहा है। यहां तक कि अगर किसी के पास देने के लिए 1 रुपए भी न हो तो उसे भी प्रेम से बिठाकर भोजन परोसा जाएगा।

गौरतलब हो कि छतरपुर के कांग्रेस विधायक आलोक चतुर्वेदी ने छतरपुर वासियों को भीषण गर्मी में लगातार तीन साल तक पानी पिलाया और अपने निजी टैंकरों से घर-घर तक पानी पहुंचाने का काम किया। जिसका परिणाम यह हुआ कि पिछली बार जनता ने उनको अपना विधायक चुनकर विधानसभा में भेजा।

अब आलोक चतुर्वेदी उर्फ पज्जन भैया शहर के अलावा जिलेभर के लोगों को एक रुपए में खाना खिलाना शुरू कर रहे हैं। सबसे ज्यादा खुशी रसोई घर के पास बने बसुरयाना एवं कुम्हार मोहल्ला के रहने वालों में देखी गई है। वहीं दूसरी ओर छतरपुर शहर के अंदर हॉस्टलों में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं में भी रसोई खुलने की सबसे ज्यादा खुशी देखी गई है जो बच्चे ग्रामीण क्षेत्रों से पढ़ने के लिए शहर में आए हुए हैं और टिफिन लगाकर खाना खा रहे हैं उन बच्चों के लिए यह खासतौर से खुशी की लहर है। अब वह बिना परेशानी के 1 रुपए में चाचा की रसोई में खाना खा सकेंगे।

खबरें और भी हैं…

मध्य प्रदेश | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

किसान रोकेंगे रेल…: स्टेशन से लेकर रेलवे ट्रेक पर GRP, RPF ने बढ़ाई गश्त, बेरीकेड्स लगाए बिना पूछताछ के किसी को स्टेशन पर जाने की इजाजत नहीं

Hindi News Local Mp Gwalior GRP, RPF Increased Patrolling From Station To Railway Track, No …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *