Breaking News

जम्मू-कश्मीर: डीआरडीओ अध्यक्ष ने केंद्रीय विश्वविद्यालय में कलाम सेंटर फॉर साइंस एंड टेक्नोलॉजी की आधारशिला रखी

संवाद न्यूज एजेंसी, सांबा-जम्मू
Published by: प्रशांत कुमार
Updated Thu, 14 Oct 2021 11:27 PM IST

सार

डीआरडीओ के अध्यक्ष ने बताया कि ढाई साल में केसीएसटी देश में एक केंद्रित अनुसंधान केंद्र और प्रमुख कार्य केंद्र के रूप में उभरेगा। केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अशोक आइमा ने इस उद्यम के लिए अध्यक्ष डीआरडीओ का धन्यवाद किया, जो सीयूजे में एक नया अध्याय खोला गया है।

डीआरडीओ के अध्यक्ष जी सतीश रेड्डी
– फोटो : ANI

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

केंद्रीय विश्वविद्यालय में कलाम सेंटर फॉर साइंस एंड टेक्नोलॉजी (केसीएसटी) के निर्माण की आधारशिला सचिव रक्षा अनुसंधान एवं विकास और डीआरडीओ के अध्यक्ष डॉ जी सतीश रेड्डी ने रखी। समारोह जम्मू के केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अशोक आइमा की उपस्थिति में हुआ।
 
डीआरडीओ अध्यक्ष डॉ. रेड्डी ने केसीएसटी में दो कार्य क्षेत्र कंप्यूटेशनल सिस्टम सुरक्षा और वर्तमान परिदृश्य में सेंसर। उन्होंने कहा कि साइबर-भौतिक प्रणाली और डेटा की सुरक्षा के साथ कंप्यूटेशनल सुरक्षा में कौशल विकास की आवश्यकता पर बल दिया। इसके अलावा उन्होंने कहा कि इस शोध केंद्र में विकसित सेंसर अत्याधुनिक तकनीक वाले उत्पाद के रूप में आएंगे।
यह भी पढ़ें- अब्दुल्ला का राष्ट्रप्रेम: कहा- कश्मीर भारत का अंग, पढ़ें वो वाकया जब उनको दिखाए गए जूते, फिर ‘सिरफिरों’ को दिया था ये जवाब    

उन्होंने बताया कि ढाई साल में केसीएसटी देश में एक केंद्रित अनुसंधान केंद्र और प्रमुख कार्य केंद्र के रूप में उभरेगा। केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अशोक आइमा ने इस उद्यम के लिए अध्यक्ष डीआरडीओ का धन्यवाद किया, जो सीयूजे में एक नया अध्याय खोला गया है। उन्होंने कहा कि डीआरडीओ के साथ सीयूजे का ऐसा सहयोग आने वाले समय में इस क्षेत्र में अनुसंधान और नवाचारों के लिए एक नया मार्ग बनाने के लिए अनुभव और विशेषज्ञता को सिंक्रनाइज करके एक नए संस्थागत सहयोग के लिए सामने आएगा।गवर्निंग काउंसिल ने सर्वसम्मति से 3 शोध परियोजनाओं को मंजूरी दी। 

विस्तार

केंद्रीय विश्वविद्यालय में कलाम सेंटर फॉर साइंस एंड टेक्नोलॉजी (केसीएसटी) के निर्माण की आधारशिला सचिव रक्षा अनुसंधान एवं विकास और डीआरडीओ के अध्यक्ष डॉ जी सतीश रेड्डी ने रखी। समारोह जम्मू के केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अशोक आइमा की उपस्थिति में हुआ।

 

डीआरडीओ अध्यक्ष डॉ. रेड्डी ने केसीएसटी में दो कार्य क्षेत्र कंप्यूटेशनल सिस्टम सुरक्षा और वर्तमान परिदृश्य में सेंसर। उन्होंने कहा कि साइबर-भौतिक प्रणाली और डेटा की सुरक्षा के साथ कंप्यूटेशनल सुरक्षा में कौशल विकास की आवश्यकता पर बल दिया। इसके अलावा उन्होंने कहा कि इस शोध केंद्र में विकसित सेंसर अत्याधुनिक तकनीक वाले उत्पाद के रूप में आएंगे।

यह भी पढ़ें- अब्दुल्ला का राष्ट्रप्रेम: कहा- कश्मीर भारत का अंग, पढ़ें वो वाकया जब उनको दिखाए गए जूते, फिर ‘सिरफिरों’ को दिया था ये जवाब    

उन्होंने बताया कि ढाई साल में केसीएसटी देश में एक केंद्रित अनुसंधान केंद्र और प्रमुख कार्य केंद्र के रूप में उभरेगा। केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अशोक आइमा ने इस उद्यम के लिए अध्यक्ष डीआरडीओ का धन्यवाद किया, जो सीयूजे में एक नया अध्याय खोला गया है। उन्होंने कहा कि डीआरडीओ के साथ सीयूजे का ऐसा सहयोग आने वाले समय में इस क्षेत्र में अनुसंधान और नवाचारों के लिए एक नया मार्ग बनाने के लिए अनुभव और विशेषज्ञता को सिंक्रनाइज करके एक नए संस्थागत सहयोग के लिए सामने आएगा।गवर्निंग काउंसिल ने सर्वसम्मति से 3 शोध परियोजनाओं को मंजूरी दी। 

Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | – Amar Ujala

About R. News World

Check Also

जम्मू-कश्मीर: ओजीडब्ल्यू चिह्नित कर रहे सॉफ्ट टारगेट, रेकी के बाद हाइब्रिड आतंकी कर रहे हत्याएं

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जम्मू Published by: जम्मू और कश्मीर ब्यूरो Updated Mon, 18 Oct …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *