Breaking News

जिला प्रशासन ने हटाया अवैध कब्जा: जींगनी गांव के तालाब के किनारे 10 विस्वा जमीन पर लोगों ने कर रखा था कब्जा, शासन ने जेसीबी की मदद से हटाया

  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • Morena
  • People Had Occupied 10 Vishwa Land On The Banks Of The Pond Of Jingni Village, The Government Removed It With The Help Of JCB

मुरैना4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

कब्जा हटाता प्रशासन

  • लंबे समय से कब्जा किए थे यह लोग

जिला प्रशासन ने आज गांव जींगनी में अवैध कब्जा वालों के कब्जे से शासन की 10 बिस्वा जमीन मुक्त कराई है। इस काम में SLR व थाना प्रभारी शामिल रहे। जीगनी गांव में तालाब के किनारे 10 परिवार अपनी झोपड़ी बनाकर रहने लगे। यह परिवार लंबे समय से झोपड़ी बनाकर रह रहे हैं। शासन ने इनको कई बार वहां से हटने के लिए कहा लेकिन यह लोग नहीं हटे, बल्कि धीरे-धीरे तालाब की जगह पर और अधिक कब्जा करते जा रहे थे। ग्राम पंचायत ने भी इन अवैध कब्जाधारियों से कब्जा हटाने को कहा लेकिन किसी ने नहीं सुना। आज, गुरुवार को SLR सिरोमन सिंह कुशवाह के नेतृत्व में जिला व पुलिस प्रशासन की टीम वहां पहुंची तथा JCB की मदद से सारे कब्जा हटा दिए।

जींगनी गांव में कब्जा हटाती जेसीबी

जींगनी गांव में कब्जा हटाती जेसीबी

यह लोग किए थे कब्जा
SLR सिरोमन सिंह कुशवाह ने बताया कि इस जमीन पर लाखन सिंह पुत्र रामसिंह, नवल सिंह पुत्र प्रीतम सिंह, अनिल पुत्र नवल सिंह, अम्रतलाल पुत्र सोवरन, कमलेश पुत्र बदन सिंह, राजबहादुर पुत्र रामस्वरुप, पंचम सिंह पुत्र चारू सिंह, शंकर सिंह पुत्र पोखन सिंह, ओमप्रकाश पुत्र किशनलाल व परमाल पुत्र फूलसिंह ने जींगनी गांव के तालाब की एक-एक विस्वा जमीन पर अवैध कब्जा कर ;चारदीवारी बना ली थी। इसके साथ ही मकान भी आगे बढ़ाकर बना लिए थे। शासन द्वारा तालाब को गहरा किया गया था। शासन द्वारा 10 बिस्वा जमीन जिसकी अनुमानित लागत लगभग 55 लाख रुपए है, आज मुक्त कराई गई है।

खबरें और भी हैं…

मध्य प्रदेश | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

सावन की शुरुआत झमाझम से: केदारनाथ में झरना करेगा भोलेनाथ का श्रृंगार, तीन दिन से हो रही बारिश से झरना हुआ शुरू, सावन के पहले सोमवार को पहुंचेंगे श्रद्धालु

Hindi News Local Mp Bhopal Guna Bholenath Will Make A Waterfall In Kedarnath, Since Three …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *