Breaking News

झाड़ोल के बाघपुरा की घटना: चार बच्चे आम ताेड़ रहे थे, किसान ने डांटा तो भागे, एक एनीकट में गिरा, डूबने से मौत, 2.31 लाख में हुआ समझौता

  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Four Children Were Plucking Mangoes, The Farmer Scolded Them And Ran Away, One Fell Into The Anicut, Died Due To Drowning, Settled For 2.31 Lakhs

उदयपुरएक मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

परिजनों और ग्रामीणों से समझाइश करते एएसपी व अन्य अधिकारी।

  • एएसपी, दो डीवाईएसपी, 6 थानों सहित पुलिस लाइन के 100 जवान रात भर डटे रहे

उदयपुर जिले के झाड़ोल थानांतर्गत बाघपुरा गांव के एक खेत में शनिवार शाम को पड़ोस में रहने वाले 4 बच्चे आम तोड़ने गए। इस दौरान किसान वहां पहुंच गया और उसने उनको डांटा तो सभी भागने लगे। इनमें से एक बच्चा खेत के पास बने एनीकट में गिरकर डूब गया। किसान बच्चे को पानी से निकाल कर एक क्लीनिक पर ले गया। क्लीनिक में उपचार से पहले ही बच्चे ने दम तोड़ दिया। सूचना पर मृतक के परिजन व ग्रामीणों के हंगामा करने पर 2.31 लाख मौताणा चुकाने पर करीब 24 घंटे बाद मामला शांत हुआ। इस दौरान उदयपुर एएसपी, दो सीईओ, 6 थानाधिकारी व करीब 150 जवानों का पुलिस जाप्ता दिन-रात मौके पर तैनात रहा। झाड़ोल थानाधिकारी नाथू सिंह ने बताया कि चौकड़ी, बाघपुरा निवासी 10 वर्षीय विजय कुमार पुत्र मीठालाल कटारा की शनिवार शाम करीब 5 बजे एनीकट में डूबने से मौत हो गई। घटना की जानकारी मिलते ही बच्चे के परिजन व चौकड़ी के ग्रामीणों ने बच्चे की हत्या करने का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया। मौके पर पहुंचे झाड़ोल तहसीलदार सुरेश कुमार मेहता ने भी परिजनों को नियमानुसार राज्य सहायता राशि दिलवाने पर समझाइश की बावजूद परिजन नहीं माने। रविवार को दोनों पक्षों में हुए समझौते के बाद मृतक का पोस्टमार्टम करवा शव परिजनों के सुपुर्द किया। अब गांव में किसी प्रकार का तनाव नहीं है।

घटना की सूचना मिलते ही झाड़ोल डीवाईएसपी गिरधरसिंह, थानाधिकारी नाथू सिंह मय जाप्ता बाघपुरा पहुंचे। परिजनों से बातचीत कर मामला शांत करने का प्रयास किया, लेकिन वे नहीं माने। मृतक का शव लेकर परिजन व ग्रामीण रातभर क्लीनिक के बाहर बैठे रहे। इस दौरान स्थानीय पुलिस अधिकारियों की सूचना पर कोटड़ा सीईओ भूपेंद्र कुमार, कोटड़ा थानाधिकारी रामसिंह, नाई थानाधिकारी शादिर खान, टीडी थानाधिकारी कृष्णगोपाल परमार, ओगणा थानाधिकारी प्रभुलाल, फलासिया थानाधिकारी रमेशचन्द्र मय जाप्ता रात को ही मौके पर पहुंच गए। उदयपुर पुलिस लाइन से 50 जवान रात को और 50 जवान रविवार सुबह बाघपुरा पहुंचे। रविवार तड़के 5 बजे उदयपुर के एएसपी अनन्त कुमार भी बाघपुरा पहुंचे। एएसपी ने मृतक बच्चे के परिजनों से समझाइश की। पुलिस ने परिजनों के हत्या के आरोप पर मामला दर्ज करने की बात भी मान ली, लेकिन परिजन मौताणा लेने पर अड़े रहे। ग्रामीणों से मिली जानकारी अनुसार फिर मृतक के परिजनों व आम के पेड़ मालिक के पंचों के बीच कई दौर की बातचीत चली। रविवार दोपहर 12 बजे करीब दोनों पक्षों में 2 लाख 31 हजार मौताणा राशि पर सहमति बनी। परिजनों ने आम के पेड़ मालिक किसान डालचंद पुत्र गेहरीलाल नागदा से 51 हजार नकद व 1 लाख 80 हजार एक माह बाद लेने पर समझौता हुआ। इसके बाद पुलिस ने झाड़ोल सीएचसी ले जाकर शव का पोस्टमार्टम करवा परिजनों को सुपुर्द किया।

यह था मामला
बाघपुरा निवासी डालचंद नागदा के चौकड़ी गांव के पास खेत पर आम के पेड़ से 3-4 बच्चे आम तोड़ रहे थे। इसी दौरान डालचंद वहां पहुच गया। किसान के डांटने से बच्चे भागने लगे। तीन बच्चे दूसरे रास्ते से भाग गए और विजय भागते हुए खेत के पास बने एनीकट में गिर गया। दूसरे बच्चों ने परिजनों को घटना की जानकारी दी। परिजन मौके पर पहुंचे तब तक किसान ने बच्चे को पानी से निकाल लिया। फिर किसान का बेटा व परिजन बच्चे को बेहोशी की हालत में बाघपुरा के एक निजी क्लीनिक पर ले गए। क्लीनिक संचालक ने बच्चे की मृत्यु होना बताया। यह जानकारी मिलते ही मृतक के परिजन व चौकड़ी गांव के करीब 200 से अधिक ग्रामीण बाघपुरा पहुंच गए। उन्होंने क्लीनिक के सामने ही शव रख हत्या का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया। सभी ग्रामीण रातभर शव लेकर वहीं बैठे रहे।

खबरें और भी हैं…

राजस्थान | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

बाड़मेर में घट रहा कोरोना: दो माह बाद सबसे कम कोरोना केस, 777 सैंपल में 10 नए पॉजिटिव निकले, 24 घंटों में एक भी मौत नहीं

बाड़मेरएक मिनट पहले कॉपी लिंक कोरोना सैंपल लता स्वास्थ्यकर्मी। कोरोना की दूसरी लहर की रफ्तार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *