Breaking News

ट्वीट पर ट्रोल हुए शिक्षा मंत्री, डिलीट किया: कहा था- शिक्षक नियोजन के लिए निर्वाचन आयोग की अनुमति चाहिए; अभ्यर्थी बोले- चुनाव देख भरमा रहे

  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar Education Minister Vijay Kumar Choudhary Deleted Tweet About Sixth Phase Of Teachers Employment After Trolling

पटना15 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

ट्रोलिंग के बाद आखिरकार शिक्षा मंत्री ने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया।

बिहार के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी के एक ट्वीट पर विवाद हो गया है। उनके ट्वीट पर विपक्ष ने ऐतराज जताते हुए कहा है कि यह विधानसभा उपचुनाव को प्रभावित करने की कोशिश है। सोशल मीडिया पर भी उनसे ऐसे ही तीखे सवाल पूछे गए। इस ट्रोलिंग के बाद आखिरकार शिक्षा मंत्री ने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया।

दरअसल शिक्षा मंत्री ने ट्वीट कर कहा था कि ‘राज्य निर्वाचन आयोग से अनुमति मिलते ही छठे चरण की शिक्षक नियोजन प्रक्रिया को पूर्ण कर लिया जाएगा। अभ्यर्थी इन हालातों को संज्ञान में लें जिससे वे अनावश्यक किसी भ्रम का शिकार न हों।’ इस ट्वीट के बाद वे ट्रोल होने लगे।

वोट बैंक प्रभावित न होने देने की कोशिश?
इस मामले में राजद प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने कहा कि सरकार ने पहले तो कहा था कि 15 अगस्त तक शिक्षकों को नियुक्ति पत्र दे दिया जाएगा। उसके बाद यह कहा गया कि अक्टूबर तक नियुक्ति प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। अब सरकार कह रही है कि निर्वाचन आयोग से परमिशन लिया जा रहा है। गगन ने कहा कि विधान सभा उपचुनाव में सरकार का वोट बैंक प्रभावित नहीं हो इसलिए सरकार अभ्यर्थियों को भरमाने का काम कर रही है। अब नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ही मुख्यमंत्री बनेंगे तो शिक्षकों की बहाली हो पाएगी।

शिक्षक बहाली मोर्चा ने उठाए सवाल।

शिक्षक बहाली मोर्चा ने उठाए सवाल।

शिक्षक बहाली मोर्चा ने उठाए सवाल

शिक्षा मंत्री के ट्वीट हटाए जाने पर बिहार टीईटी- सीटीईटी- एसटीईटी उत्तीर्ण शिक्षक बहाली मोर्चा ने कहा कि शिक्षा मंत्री जी को इस ट्वीट को डिलीट करने का क्या कारण हो सकता है? लगता है इरादा नेक नहीं है। इधर टीईटी-एसटीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ ने आरोप लगाया कि सरकार जरूरी डोक्यूमेंट निर्वाचन आयोग को उपलब्ध नहीं करा रही तो अनुमति कहां से मिलेगी।

सोशल मीडिया पर एक यूजर ने शिक्षा मंत्री पर किया तंज।

सोशल मीडिया पर एक यूजर ने शिक्षा मंत्री पर किया तंज।

‘विभाग में जाने पर कहा जाता है- उपचुनाव बाद होगा नियोजन’
बिहार में 90,762 प्राथमिक और लगभग 32 हजार माध्यमिक, उच्च माध्यमिक शिक्षकों के छठे चरण के नियोजन को लेकर सरकार और अभ्यर्थियों के बीच सरकार का वादा और विपक्ष का आरोप प्रत्यारोप चल रहा है। अभ्यर्थियों की चिंता बढ़ती जा रही है। दिक्कत यह है कि सरकार लगातार यही कह रही है कि निर्वाचन आयोग से अनुमति ली जा रही है। दूसरी तरफ एक-एक दिन गुजर रहा है और शिक्षक अभ्यर्थी डरे हुए हैं कि जिनका चयन पूरा हो चुका है, उसे भी सरकार नियुक्ति पत्र नहीं दे रही है।

सर्टिफिकेट वेरीफेकेशन का काम भी अधर में लटका हुआ है। आगे के नियोजन के लिए भी अभ्यर्थी परेशान हैं। शिक्षक अभ्यर्थियों का कहना है कि वे विभाग में जाते हैं तो उनसे कहा जाता है कि अब उपचुनाव के बाद ही नियोजन किया जाएगा।

पूरी हो चुकी है दो राउंड की काउंसिलिंग
राज्य में 90,762 पदों पर छठे चरण में प्राथमिक शिक्षकों का नियोजन किया जाना है। इसके लिए दो राउंड की काउंसिलिंग की जा चुकी है, जिसमें 38 हजार शिक्षकों का चयन किया जा चुका है। बाकी बचे हुए अभ्यर्थी काउंसिलिंग की तिथि जारी करने की मांग कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं…

बिहार | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

नवगछिया में चालक से मारपीट कर स्कॉर्पियो लूटा: चालक का आरोप- गाड़ी भाड़े पर लेकर 4 लोगों ने लूट लिया, पुलिस कह रही मामला संदिग्ध

नवगछिया29 मिनट पहले कॉपी लिंक लूटी गई स्काॅर्पियो की तस्वीर। नवगछिया में सोमवार की शाम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *