Breaking News

डाॅक्टर्स की हड़ताल, मरीजों का सवाल: 350 मरीज इंतजार कर बिना इलाज लौटे, डाॅक्टर बोले- आज ओपीडी होगी, काले बिल्ले लगाकर काम करेंगे

  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • 350 Patients Returned Without Waiting For Treatment, The Doctor Said Today There Will Be An OPD, Will Work Wearing Black Badges

जालंधर18 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • लड़ाई डाॅक्टर्स-सरकार की, हम क्यों भटकें?

छठे पे कमीशन के विरोध में पंजाब सरकार के खिलाफ रोष प्रदर्शन करते हुए सरकारी डाॅक्टर सोमवार को भी हड़ताल पर रहे। इस दौरान ओपीडी न होने के कारण करीब 350 मरीजों को बिना इलाज लौटना पड़ा। हालांकि बीते शुक्रवार को भी पंजाब सिविल मेडिकल सर्विसेज (पीसीएमएस) के अधीन डाॅक्टर हड़ताल पर रहे थे। सरकार द्वारा मांगें न माने जाने के बाद सोमवार को दोबारा डाॅक्टर्स के साथ सेहत विभाग के लैब टेक्नीशियंस, दर्जा-4 कर्मचारी और क्लर्क भी हड़ताल पर रहे।

सोमवार को डाॅक्टर्स की हड़ताल खत्म करने के लिए प्रिंसिपल सेक्रेटरी हुसन लाल ने कहा था कि सरकार मांग‌ें मान लेगी, लेकिन डाॅक्टर हड़ताल खत्म कर दें। पीसीएमएस एसोसिएशन पंजाब के प्रधान डॉ. हरीश भारद्वाज ने देर रात बताया कि मंगलवार और बुधवार को डॉक्टर काले बिल्ले लगाकर प्रदर्शन करेंगे। डॉक्टर अपनी मांगों पर अडिग रहेंगे।

पंजाब सिविल मेडिकल सर्विसेज (पीसीएमएस) एसोसिएशन के डाॅक्टर्स के हड़ताल पर रहने के कारण ईएसआई की ओपीडी भी पूर्ण तौर पर बंद रही। सेहत विभाग के आईटी विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक सोमवार को सिविल अस्पताल और ईएसआई अस्पताल में इलाज करवाने के लिए पहंुचे करीब 350 मरीजों को इलाज नही मिल पाया।

हालांकि इनकी पर्ची काटी गई लेकिन डाॅक्टर्स ने चेकअप नहीं किया। दूसरी तरफ सोमवार को हड़ताल के दौरान सिविल अस्पताल की इमरजेंसी में पहुंचे 12 झगड़ों के मामलों में मेडिल लीगल रिपोर्ट नहीं हो पाई। पीसीएमएस के जिला प्रधान डॉ. हरीश भारद्वाज ने कहा कि सोमवार को हड़ताल के दौरान इमरजेंसी में आने वाले मरीजों की एमएलआर काटी गई लेकिन उसे डॉक्टर ऑनलाइन नहीं करेगा।

धरने में हाजिरी भरी और नारेबाजी कर घरों को लौट गए डाॅक्टर
एक तरफ छठे पे कमीशन के विरोध में सभी सरकारी डॉक्टर हड़ताल पर हैं, लेकिन कई डॉक्टर सिर्फ खानापूर्ति के लिए आ रहे हैं। वे धरने में महज हाजिरी भरने आ रहे हैं। सोमवार को एसोसिएशन का धरना करीब 4 घंटे चला, लेकिन उसमें भी कई डाॅक्टर धरने में आते-जाते रहे। कई डाॅक्टर धरना खत्म होने से पहले ही घरों को निकल गए, जबकि कई डॉक्टर घरों से ही नहीं आए। इस संबंध में पीसीएमएस एसोसिएशन के सदस्यों ने कहा कि हड़ताल का नतीजा तब ही आएगा, जब सभी डॉक्टर एक मंच पर इकट्ठे होकर विरोध जताएंगे। इसलिए सभी डॉक्टर एकजुटता का प्रदर्शन करें।

विदेश जाने वालों को कई घंटे रहा डाॅक्टर्स का इंतजार
विदेश जाने वाले लोगों को सोमवार कई घंटे डॉक्टर्स का इंतजार करना पड़ा, क्योंकि कोविशील्ड की तय 84 दिन से पहले डोज लगवाने के लिए फार्म साइन करवाना पड़ता है। लोग 11 बजे से ही सिविल सर्जन दफ्तर के बाहर आकर खड़े हो गए थे।

कोई 15 दिन से काला पीलिया की दवा तो कोई मां को रैफर करवाने के लिए काट रहा चक्कर
सोमवार को डाॅक्टर्स ने प्रदर्शन किया लेकिन इससे मरीजों और उनके परिजनों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी। ईएसआई अस्पताल पहुंचे मरीजों के परिजनों ने बताया वे सरकारी अस्पताल में तभी आए हैं क्योंकि वे प्राइवेट अस्पताल का खर्च नहीं उठा सकते। लोगों की परेशानी डाॅक्टर्स को समझनी चाहिए। सरकार और डाॅक्टर्स के आपसी झगड़े में मरीजों को और दर्द देना सही नहीं है। इस दौरान सबसे ज्यादा परेशानी उन लोगों को झेलनी पड़ी, जिन्हें अपने परिजनों को दूसरे अस्पताल में रेफर करवाना था। ईएसआई अस्पताल पहुंचे शाम सुंदर ने बताया कि उसकी माता नीलम देवी ग्लोबल अस्पताल में दाखिल हैं। सो‌मवार को डाॅक्टर्स ने रेफर करवाने कि लिए भेजा, लेकिन यहां कोई नहीं मिला। वहीं, हमीरा से आई 30 साल की आरती ने बताया कि वे शुक्रवार को भी अस्पताल आए थे, लेकिन इलाज नहीं मिला।

रविवार को पत्थरी को दर्द हुई तो सोमवार को दोबारा अस्पताल आए, फिर बैरंग लौटना पड़ गया। काला बकरा के रहने वाले कुलजीत सिंह ने बताया कि वे सिविल अस्पताल के डॉक्टरों के पास पिछले 15 दिन से आ रहे हैं। कभी टेस्ट तो कभी अन्य फार्मेलिटी में ही इतने दिन बीत गए, लेकिन काला पीलिया की दवा के लिए साइन नहीं हो सके। पिछले हफ्ते जब दवा के लिए आए तो डॉक्टर्स ने सोमवार को आने के लए कहा। अब सोमवार को बिना दवा के ही लौटना पड़ गया।

इधर; आज और कल डॉक्टर प्रदर्शन करेंगे, सेवाएं भी देंगे
आज और कल पीसीएमएस डॉक्टर

काले बैच लगाकर रोष प्रदर्शन करेंगे, जबकि ओपीडी और सरकारी अस्पताल में मिलने वाली अन्य सुविधाएं मरीजों को मिलती रहेंगी। यह जानकारी जिला पीसीएमएस एसोसिएशन पंजाब के प्रधान डॉ. हरीश भारद्वाज ने दी।

खबरें और भी हैं…

पंजाब | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

आत्महत्या का मामला: पत्नी काे आत्महत्या के लिए मजबूर करने वाले पति पर केस

अमृतसरएक घंटा पहले कॉपी लिंक कई बार बेटी का पति के साथ समझौता भी कराया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *