Breaking News

तीन करोड़ की बेनामी संपत्ति जब्त: चिटफंड कंपनी के दोनों डायरेक्टर गिरफ्तार, स्वराष्ट्र बिजनेस प्रमोटर्स इंडिया लिमिटेड के नाम पर लोगों से कराते थे इन्वेस्टमेंट

  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Banswara
  • Both The Directors Of The Chit Fund Company Arrested, A Case Of Cheating People In The Name Of Swarashtra Business Promoters India Limited

बांसवाड़ाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

गिरफ्तार हुआ चिटफंड कंपनी का ड

इन्वेस्ट के नाम पर लोगों से धोखाधड़ी करने वाली चिटफंड कंपनी (स्वराष्ट्र बिजनेस प्रमोटर्स इंडिया लिमिटेड) के डायरेक्टर्स राजेंद्र सक्सैना और राहुल सक्सैना को कोतवाली और सज्जनगढ़ थाना पुलिस ने सामूहिक कार्रवाई कर गिरफ्तार किया है। साथ ही उज्जैन, सिहोर व नागदा (मध्य प्रदेश) में उनके कब्जे वाली करीब 3 करोड़ रुपए की अचल संपत्ति भी कब्जे में ली। दोनों ही आरोपी पुलिस की सूची में 4 साल से वांछित थे। इससे पहले 9 नवम्बर 2016 को मामले में पुलिस ने मध्यप्रदेश और बांसवाड़ा जिले से 5 लोगों की गिरफ्तारी की थी।
कुशलगढ़ थाने में दर्ज पुराने मामले में वांछितों की धरपकड़ को लेकर बांसवाड़ा एसपी ने सज्जनगढ़ थानाधिकारी धनपतसिंह को जांच अधिकारी बनाया था। डायरेक्टर्स को पकड़ने के लिए बांसवाड़ा पुलिस ने उज्जैन, भोपाल, सिहोर और ग्वालियर में करीब 15 दिन तक डेरा डाले रखा। तब कहीं जाकर 16 जुलाई को एक डायरेक्टर के तौर पर भोपाल निवासी राहुल पुत्र नरेंद्र प्रकाश सक्सैना की गिरफ्तारी हुई। तभी दूसरे आरोपी राजेंद्र सक्सैना की गिरफ्तारी को लेकर सज्जनगढ़ टीम ने भोपाल में बनी रही। मुखबिर से मिली सूचना के बाद सज्जनगढ़ टीम ने आईओ सरदारसिंह व कोतवाली टीम को मौके पर बुलाकर दूसरे डायरेक्टर के तौर पर राजेंद्रसिंह की गिरफ्तारी कराई। गौरतलब है कि सबसे पहले मामले में धोखे का शिकार हुए नई आबादी, कुशलगढ़ निवासी विजय पुत्र खीमा पंचाल ने वर्ष 2016 में कुशलगढ़ थाने में इस चिटफंड कंपनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी।
किराए के मकान में आलीशान जिंदगी
दर्ज मामले में चिटफंड कंपनी के ये डायरेक्टर पुलिस से बचते फिर रहे थे। बचने के लिए ही वह उनके ठिकाने बदलते रहते थे। किराए के मकानों में ये आरोपी आलीशान जिंदगी बिता रहे थे। ऐसे में इन्हें पकड़ना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती थी। पुलिस ने आरोपियों के रिश्तेदारों को विश्वास में लेकर इन बदमाशों का सुराग जुटाया। साइबर सेल की मदद से उनके मोबाइल नंबर से लोकेशन भी पकड़ी गई। तब कहीं जाकर आरोपी पुलिस के शिकंजे में आए।
पीड़ित जो भी हों सामने आएं
बांसवाड़ा एसपी कावेंद्रसिंह ने लोगों से अपील की है कि ऐसे लोग, जो इस चिटफंड कंपनी का शिकार हुए हैं, जिनकी ओर से अब तक मामले में कोई प्रकरण दर्ज नहीं कराया गया हो। ऐसे लोग बिना देर लगाए मामले में कोतवाली और सज्जनगढ़ थाना पुलिस से संपर्क करें। बांसवाड़ा पुलिस की ओर से आरोपियों के कब्जे वाली जमीनों की नीलामी कर लोगों के फंसे हुए रुपयों को दिलाने में पुरी मदद की जाएगी।

खबरें और भी हैं…

मध्य प्रदेश | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

पारिवारिक कलह ने ली बेटे की जान: महिला ने खुद पर केरोसिन छिड़क कर लगाई आग, फिर जलती आग में पास खड़े 5 साल बे बेटे को भी खींच लिया, बेटे की मौत, मां गंभीर

Hindi News Local Mp Rewa Woman Set Herself On Fire By Sprinkling Kerosene, Then Caught …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *