Breaking News

दिल्ली सरकार का फैसला: मलयालम भाषा बोलने को लेकर जारी सर्कुलर को वापस लेने का आदेश; जीबी पंत अस्पताल प्रशासन ने शनिवार को जारी किया था सर्कुलर

  • Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • Order To Withdraw Circular Issued For Speaking Malayalam Language; GB Pant Hospital Administration Had Issued Circular On Saturday

नई दिल्ली7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

जीबी पंत अस्पताल प्रशासन द्वारा जारी एक सर्कुलर को लेकर हुए विवाद के बीच दिल्ली सरकार ने वापिस लेने का आदेश जारी किया है। इस सर्कुलर के पीछे एक शिकायत को कारण बताया गया था। जिसमें कहा गया था कि अस्पताल के स्टाफ मलयालम भाषा में बात कर रहे हैं, जो मरीजों को समझ नहीं आ रहा।

बता दें कि इस सर्कुलर पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी और शशि थरूर ने सवाल उठाया था। स्वास्थ्य विभाग ने जारी किया मेमो पर जारी विवाद के बीच अब दिल्ली सरकार ने यह सर्कुलर वापस लेने का आदेश दिया है। विभाग की ओर से इस मामले में संज्ञान लिया गया है और मेमो जारी किया गया है। इस मेमो के जरिए अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट से जवाब मांगा गया है कि किस आधार पर भाषा से संबंधित सर्कुलर जारी किया गया।

मरीजों की शिकायत पर जारी किया सर्कुलर

जीबी पंत हॉस्पिटल का सर्कुलर अस्पताल प्रशासन ने यह नोटिस मरीजों की शिकायत पर जारी किया है। जिसमें कहा गया है कि जीबी पंत हॉस्पिटल के कोविड केयर सेंटर में तैनात नर्स आपस में मलयालम भाषा में बातचीत करती है। यहां इलाज के लिए भर्ती मरीज और उनके अटेंडेंट मलयालम भाषा नहीं जानते हैं। जिसकी वजह से उन्हें परेशानी हो रही है।

अपनी भाषा में बात करना अधिकार

दक्षिण भारतीय नर्सेज का कहना है कि मलयालम उनकी मातृभाषा है और उन्हें उनकी मातृभाषा बोलने से नहीं रोका जाना चाहिए। अपनी मातृभाषा में बात करना उनका संवैधानिक अधिकार है। वे मरीजों से हिंदी में बात करते हैं, जबकि आपस में मलयालम भाषा में बात करते हैं। इससे अस्पताल प्रशासन को कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए।

खबरें और भी हैं…

दिल्ली + एनसीआर | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

कोरोना से लड़ाई: सीएम केजरीवाल- दिल्ली को जल्द मिलेंगे 22 ऑक्सीजन प्लांट, तीसरी लहर की पूरी तैयारी

नई दिल्ली4 घंटे पहले कॉपी लिंक दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को अस्पतालों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *