Breaking News

पीजीआई में मरीजों की परेशानी: डाॅक्टर काे दिखाने के लिए 14 दिन से इंतजार; अभी भी मरीज डाॅक्टर तक पहुंचने के लिए कताराें में खड़े हैं

चंडीगढ़10 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

काेराेना संक्रमण की सेकंड वेव लगभग खत्म हाे चुकी है। लेकिन पीजीआई में अभी भी मरीज डाॅक्टर तक पहुंचने के लिए कताराें में खड़े हैं। हालांकि पीजीआई ने साेमवार से अपॉइंटमेंट लेकर फिजिकल चेकअप के लिए मरीजों के लिए रजिस्ट्रेशन का टाइम आधा घंटा बढ़ा दिया। लेकिन मरीजाें का कहना है कि रजिस्ट्रेशन के लिए नंबर नहीं मिलता ताे डॉक्टर से अपॉइंटमेंट कैसे मिलेगी।

बराड़ा से आए भगत राम ने बताया कि वे सुबह 6 बजे पीजीआई आए। उन्हें न्यूराे के डाॅक्टर काे दिखाना है। सुबह उन्हाेंने रजिस्ट्रेशन करवा लिया। उन्हें बताया गया कि डाॅक्टर उन्हें फाेन करेंगे लेकिन शाम चार बजे तक उन्हें काेई फाेन नहीं आया। ऐसे ही बहुत से मरीज हैं, जाे डाॅक्टर काे चेक कराने के लिए सुबह से शाम तक खड़े रहते हैं। पीजीआई ने न्यू ओपीडी में रजिस्ट्रेशन के लिए एक नंबर जारी किया है।

उसकी 19 लाइनें हैं। कई मरीजाें काे रजिस्ट्रेशन कराने में ही कई-कई दिन लग जाते हैं। पीजीआई का तर्क है कि पहले से अपाॅइंटमेंट लेकर आने वाले मरीजाें काे बेहतर रिस्पाॅन्स मिल रहा है। पीजीआई का कहना है कि साेमवार से अपाॅइंट लेकर आने वाले 1254 मरीजाें का फिजिकली चेकअप किया गया। जबकि 2489 मरीज टेली कंसल्टेशन के जरिए देखे गए।

पीजीआई में कुल 3743 मरीज देखे गए। पीजीआई प्रवक्ता से जब मरीजाें काे रजिस्ट्रेशन और फिजिकली चेकअप के बारे में पूछा गया ताे उनका कहना था कि धीरे-धीरे समय बढ़ाया जा रहा है। मरीजाें काे दिक्कत नहीं आए इसके लिए प्रयास किए जा रहे हैं। इस हफ्ते ओपीडी और ओटी खाेलने काे लेकर मीटिंग है। उसमें सभी की राय से अंतिम निर्णय लिया जाएगा।

डाॅक्टर दवा लिख दे तो गर्मी में यहां रहने की क्या जरूरत है

उत्तराखंड के काशीपुर से आए नरेशपाल ने बताया उन्हें गले में गांठ है। वे सात जून से न्यू ओपीडी के सामने बने हाेल्डिंग एरिया में रह रहे हैं। रात काे भी वहीं साे जाते हैं। उन्होंने बताया कि उनका रजिस्ट्रेशन हाे गया है, लेकिन डाॅक्टर सिर्फ वाॅट्सएप पर ही टेस्ट लिखे जा रहे हैं। रिपाेर्ट देखकर दवा देते हैं। अगर एक बार डाक्टर उन्हें देख ले और उन्हें दवा लिख दे ताे उन्हें यहां गर्मी में रहने की क्या जरूरत है। उनके साथ उनकी बेटी सुनीता भी वहीं हाेल्डिंग एरिया में रह रही है।

खबरें और भी हैं…

चंडीगढ़ | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

सैनिकों की सहायता राशि बढ़ी: हरियाणा CM मनोहर लाल ने समस्या सुनने के बाद की घोषणा; अब 35 लाख रुपए तक मिलेंगे

करनाल4 घंटे पहले कॉपी लिंक अनुग्रह राशि बढ़ाने का ऐलान करते मुख्यमंत्री मनोहर लाल। हरियाणा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *