Breaking News

राजस्थान में प्राइवेट बसों का चक्काजाम: जयपुर में ट्रांसपोर्ट ऑफिस के बाहर धरना, कहा- देश में डीजल पर सबसे ज्यादा वैट प्रदेश में, एक साल का व्हीकल टैक्स माफ करने की मांग

जयपुरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

जयपुर में परिवहन कार्यालय के बाहर धरना देते ट्रांसपोर्ट यूनियन से जुड़े पदाधिकारी।

डीजल पर लग रहे वैट और मोटर वाहन कर को कम करने की मांग को लेकर आज राजस्थान बस ऑपरेटर्स यूनियन सड़क पर उतरी। अधिकांश बस ऑपरेटरों ने अपनी बसों का संचालन बंद रखा। यूनियन से जुड़े लोगों ने जयपुर के जगतपुरा स्थित क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (RTO) ऑफिस के बाहर प्रदर्शन किया, फिर धरने पर बैठ गए। इसके बाद ये लोग झालाना स्थित जिला परिवहन कार्यालय और उसके बाद सहकार मार्ग पर स्टेट ट्रांसपोर्ट ऑफिस पहुंचे। आंदोलनकारियों ने जिला परिवहन अधिकारी और डिप्टी कमिश्नर ट्रांसपोर्ट को पत्र सौंपा। बस ऑपरेटर्स यूनियन के कार्यकारी अध्यक्ष महेंद्र सिंह राठौड़ ने बताया कि दो दर्जन से अधिक एसोसिएशन ने बंद का समर्थन दिया है। आज जयपुर ही नहीं, पूरे राज्य में हर जिले और कस्बे में बसों का चक्काजाम है।

सबसे ज्यादा वैट राजस्थान में

बस ऑपरेटर्स यूनियन के कार्यकारी अध्यक्ष महेंद्र सिंह राठौड़ ने बताया कि राजस्थान में डीजल पर वैट रेट 28% है, जो पूरे देश में सबसे ज्यादा है। पंजाब में 16% और आसपास के राज्यों में राजस्थान से कम दर है। राजस्थान में बस ऑपरेटर्स पिछले काफी समय से कोविड के चलते परेशान हैं। बसें खड़ी हैं। उसके बाद भी सरकार मोटर वाहन कर लगातार वसूल रही है। ऐसे समय में जब बसों का संचालन बंद पड़ा है और सवारियां नहीं मिल रहीं सरकार को निजी बस ऑपरेटरों को राहत देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हमने सरकार से मांग की है कि डीजल पर वैट की दरें कम की जाएं और एक साल का मोटर वाहन टैक्स माफ किया जाए।

परिवहन मुख्यालय के बाहर डिप्टी कमिश्नर ट्रांसपोर्ट को मांग पत्र सौंपते हुए।

परिवहन मुख्यालय के बाहर डिप्टी कमिश्नर ट्रांसपोर्ट को मांग पत्र सौंपते हुए।

30 हजार बसें होती है पूरे प्रदेश में संचालित

राठौड़ ने बताया कि पूरे राजस्थान में प्राइवेट ऑपरेटर हर रोज 30 हजार बसों का संचालन करते हैं। ये बसें इंटरस्टेट और इंटर डिस्ट्रिक्ट सर्विस देती हैं। यातायात पुलिस और आरटीओ आए दिन कॉमर्शियल वाहनों के हजारों रुपए के चालान काट रहे हैं। इस विकट परिस्थितियों में भी टैक्स, महंगा डीजल की मार झेल रहे वाहन चालकों को अब चालान काटकर परेशान किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं…

  • जिसे भिखारी समझा, वो निकला राष्ट्रपति अवॉर्डी: पिता रेलवे में अफसर थे, सिलेक्ट होने के बाद भी NDA जॉइन नहीं की, TC की जॉब छोड़ी, मां-बाप की मौत के बाद घर छोड़ा, अब मांग कर खाने को मजबूर

    पिता रेलवे में अफसर थे, सिलेक्ट होने के बाद भी NDA जॉइन नहीं की, TC की जॉब छोड़ी, मां-बाप की मौत के बाद घर छोड़ा, अब मांग कर खाने को मजबूर|जयपुर,Jaipur - Dainik Bhaskar
    • कॉपी लिंक

    शेयर

  • वैक्सीन आते ही मारामारी: जयपुर के प्रताप नगर की डिस्पेंसरी में लाइन में टोकन की बात पर महिलाएं और पुरुष भिड़े, पुलिस बुलाकर काबू करने पड़े हालात

    जयपुर के प्रताप नगर की डिस्पेंसरी में लाइन में टोकन की बात पर महिलाएं और पुरुष भिड़े, पुलिस बुलाकर काबू करने पड़े हालात|राजस्थान,Rajasthan - Dainik Bhaskar
    • कॉपी लिंक

    शेयर

  • पेगासस जासूसी केस में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन: कांग्रेस ने जयपुर में राजभवन पर दिया धरना, राज्यपाल को बताया मोदी का एजेंट, खाचरियावास बोले- RSS से लड़ना नहीं चाहता, लेकिन डरता भी नहीं

    कांग्रेस ने जयपुर में राजभवन पर दिया धरना, राज्यपाल को बताया मोदी का एजेंट, खाचरियावास बोले- RSS से लड़ना नहीं चाहता, लेकिन डरता भी नहीं|जयपुर,Jaipur - Dainik Bhaskar
    • कॉपी लिंक

    शेयर

  • ड्रोन से देखिए नर्मदा किनारे बना भव्य मंदिर: 17 एकड़ एरिये में 26 मंदिरों की श्रृंखला; 35 फीट गहरी नींव में लोहे-सीमेंट का एक कण नहीं, बिल्वा का फल, गुड़ और चूने का इस्तेमाल हुआ

    17 एकड़ एरिये में 26 मंदिरों की श्रृंखला; 35 फीट गहरी नींव में लोहे-सीमेंट का एक कण नहीं, बिल्वा का फल, गुड़ और चूने का इस्तेमाल हुआ|मध्य प्रदेश,Madhya Pradesh - Dainik Bhaskar
    • कॉपी लिंक

    शेयर

राजस्थान | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

लैंड स्लाइड सीकर के परिवार को दे गया गम: एक माह पहले मुंबई से आए थे सीकर, यहां से घूमने के लिए निकल गए टूर ग्रुप में, हिमाचल पहुंचे तो चट्‌टानों ने मां, बेटे और बेटी को दे दी मौत

Hindi News Local Rajasthan Sikar A Big Rock Fell On The Car Of People Who …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *