Breaking News

लंबाखाटल में दरका पहाड़: चिढ़गांव-रोहड़ू सड़क बंद; सड़क की बहाली में एक सप्ताह का लगेगा वक्त, वैकल्पिक रूट अपनाएं

रोहड़ू6 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

लंबाखाटल में पहाड़ दरकने से सड़क बंद हो गई है।

रोहड़ू चिढ़गांव सड़क पर बाजार से करीब दो किलोमीटर दूर लंबाखाटल के पास पहाड़ दरकने से मुख्य सड़क बंद हो गई है। स्थानीय लोगों के मुताबिक यह घटना सुबह करीब 4 बजे की है। गनीमत रही कि यदि यह घटना सुबह 8 बजे करीब नहीं हुई नहीं तो जान-माल का बड़ा हादसा हो सकता था। सुबह 8 बजे के बाद रोहड़ू चिढ़गांव मुख्य मार्ग पर वाहनों की आवाजाही बहुत बढ़ जाती है।

सड़क के बाधित होने से अब रोहड़ू और चिढ़गांव की ओर आने-जाने वाले यात्रियों को बडियारा पुल, वाया कलोटी व धूमाधार होकर आना पड़ रहा है। वहीं स्थानीय प्रशासन की ओर से भी लोगों को चिढ़गांव की तरफ से रोहड़ू की तरफ आने वाले वाहनों को बडियारा से बाया कलोटी से समोली पुल से आने के निर्देश हुए है।

वैकल्पिक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली यह सड़क मुख्य सड़क मार्ग की उपेक्षा तंग है तो है ही साथ ही यह रूट काफी लंबा भी हो गया है। संकरा होने व वाहनों की आवाजाही बढ़ने के बाद इस सड़क पर जाम लगना शुरू हो गया है, जिससे लोगों को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है। घटना की सूचना मिलते ही स्थानीय प्रशासन व लोक निर्माण विभाग की टीम ने मौके का निरीक्षण कर कार्य शुरू कर दिया है।

मलबा इतना अधिक मात्रा में गिरा है कि इसे हटाने में विभाग को एक सप्ताह से अधिक का समय लग जाएगा और तब तक यह सड़क वाहनों की आवाजाही के लिए बंद रहेगी। हालांकि विभाग की ओर से दोनों ओर से फोकलेन, जेसीबी और टिप्पर लगवा दिए गए हैं।

पहले भी कई बार दरक चुकी है ये पहाड़ी

लोक निर्माण विभाग के अनुसार यह पहली बार नहीं हुआ है, इससे पहले भी कई बार इस स्थान पर पहाड़ दरकने की घटनाएं होती रही हैं। 1974 में इससे भी अधिक पहाड़ दरकने से मलबा यहां पर गिरा था, जिसे हटाने में विभाग को एक माह से अधिक का समय लगा था। उसके बाद भी यह कई बार दरका है।

विभाग के मुताबिक इस स्थान पर 100 फीट से ऊंचा सीधा पहाड़ है, जिस पर क्रेटवॉल से भी सुरक्षा देना संभव नहीं है। लोनिवि रोहड़ू के अधिशासी अभियंता पवन गर्ग ने बताया कि सड़क पर मलबे को हटाने के लिए दोनो ओर से पोकलेन, जेसीबी और टिप्पर लगवाए गए हैं। उम्मीद है कि एक सप्ताह के अंदर सड़क को बहाल कर दिया जाएगा।

खबरें और भी हैं…

हिमाचल | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

पहले मतदाता वोट डालने को तैयार: विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के पहले मतदाता श्याम सरण नेगी डालेंगे वोट, केंद्रीय व्यय पर्यवेक्षक ने की मुलाकात

किन्नौर14 मिनट पहले कॉपी लिंक श्याम सरण नेगी से मुलाकात करते हुए। विश्व के सबसे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *