Breaking News

शराब व्यवसाई गोलीकांड मामला: दो आरोपी ने नाम बढ़ाए ,पकडाए आरोपी कोर्ट में पेश ,28 तक रिमांड पर भेजा

  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Indore
  • Two Accused Extended Their Names, The Arrested Accused Appeared In The Court, Sent On Remand Till 28

इंदौर23 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

चिंटू ठाकुर और भाऊ को किया कोर�

शराब कारोबारी अर्जुन ठाकुर को गोली मारने के मामले में पुलिस ने एकेसिंह और पिंटू भाटिया को भी आरोपी बना लिया गया है। दोनों मौके पर मौजूद थे। इससे पहले पुलिस ने इस मामले में गैगस्टर सतीश भाऊ, चिंटू और हेमू ठाकुर को आरोपी बनाया था। पुलिस का कहना है कि F.I.R . में दोनों का जिक्र था। लेकिन घटना के समय सिंडीकेट के दफ्तर में सिंडिकेट के कर्ता-धर्ता एके सिंह और पिंटू भाटिया अब नामजद आरोपी हो गए हैं।

सोमवार विजयनगर क्षेत्र में दिनदहाड़े हुए गोलीकांड में बुधवार सुबह दो आरोपी ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया था जिसके बाद गुरुवार दोपहर विजयनगर पुलिस द्वारा दोनों आरोपियों को जिला कोर्ट में पेश किया गया पुलिस ने कोर्ट से यह कहते हुए आरोपितों का रिमांड मांगा कि पूछताछ अभी बाकी है। आरोपी द्वारा दिल्ली जाना बताया गया था जिसके लिए पुलिस अब आरोपियों को को दिल्ली लेकर भी जाएंगी है । कोर्ट ने आरोपियों को 28 जुलाई तक पुलिस रिमांड पर सौंप दिया।

कैसे हुआ था विवाद

गांधीनगर नवदा पंथ सर्कल की शराब दुकान मैं अर्जुन ठाकुर के पिता की फोटो खींचने के बाद पूरा विवाद शुरू हुआ था जिसके बाद अर्जुन ठाकुर और हेमू के भी फोन पर कहासुनी हुई।यह जानकारी सिंडिकेट के बड़े पार्टनर एके सिंह और पिंटू भाटिया को लगी। पिंटू भाटिया ने अर्जुन को फोन कर सिंडिकेट ऑफिस में बुलाया और कहा कि बैठ कर बात करेंगे। इसके बाद अर्जुन ठाकुर अपने साथियों के साथ विजय नगर थाना क्षेत्र स्थित सिंडिकेट ऑफिस पर पहुंचा। बाद में हेमू ठाकुर और उसके अन्य साथी आए थे।सूत्र बताते हैं कि हेमू ठाकुर और उसके साथियों का प्लान था कि केबिन में घुसते ही हवाई फायर करना है, लेकिन आमना-सामना होते ही बहस बढ़ गई और पहले से ही मौजूद गैंगस्टर ने हवाई फायरिंग कर दी। इसमें एक गोली जमीन पर और दूसरी छत पर चलाई गई थी। वह दोनों लौटकर अर्जुन को जा लगी।

भाटिया और सिंह भी बने आरोपी

गृहमंत्री को भेजी तीन पन्ने की शिकायत में अर्जुन ठाकुर में सिलसिलेवार ढंग से पूरे घटनाक्रम का खुलासा करते हुए बताया है। कि किस तरह एके सिंह और पिंटू भाटिया ने उसकी हत्या का षड्यंत्र रचा था। उसे सुनियोजित तरीके से सिंडिकेट के ऑफिस में बुलाया गया और उसके पहुंचने के बाद वहां पहुंचे सिंह, भाटिया ने अपने साथ आए लोगों से कहा कि अर्जुन को खत्म कर दो।

केबिन में बैठे थे सभी पार्टनर

सूत्रों की मानें तो सिंडिकेट ऑफिस में एके सिंह, पिंटू भाटिया, अंशुमन, अर्जुन ठाकुर, महेश राय, मुकेश शिवहरे, आशीष चौकसे, हेमू ठाकुर और चिंटू ठाकुर सहित दो गैंगस्टर भी मौजूद थे।

डराने के लिए चलाई थी गोलियां

सूत्र बताते हैं कि यह गोलीकांड छोटे ठेकेदारों को डराने के लिए किया गया था। गोली चलाने वाले को यह नहीं मालूम था कि गोली जाकर अर्जुन ठाकुर को लग जाएगी। अर्जुन ठाकुर अन्य लोगों को डराने के लिए तीन फायर किए गए, जिसमें एक गोली जमीन और दूसरी गोली छत से टकराकर अर्जुन को लगी है।

खबरें और भी हैं…

मध्य प्रदेश | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

एक हजार बिस्तर के अस्पताल का मामला: पांच घंटे में भी अधूरी रह गई जांच, आज फिर जाएगी टीम

ग्वालियरएक घंटा पहले कॉपी लिंक एक हजार बिस्तर के निर्माणाधीन अस्पताल के निर्माण कार्य की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *