Breaking News

संकट में उद्याेग: उद्योगपतियों ने प्रशासन से की ऑक्सीजन की इंस्ट्रियल सप्लाई शुरू करने की मांग, बोले- अब स्थिति हो गयी है सामान्य

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फरीदाबाद3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

आक्सीजन की सप्लाई बंद होने से फरीदाबाद के कई उद्योग बंद पड़े हैं।

कोरोना संक्रमण की रफ्तार कम होने के साथ साथ अब आक्सीजन की मांग भी कम हो गयी है। ऐसे में उद्यमियों ने जिला प्रशासन और राज्य सरकार से मांग की है कि उद्योगों की बंद पड़ी आक्सीजन सप्लाई धीरे धीरे शुरू की जाए ताकि कामकाज पटरी पर आ सके। उद्यमियों का कहना है कि फरीदाबाद में करीब 20 से 22 फीसदी ऐसी इंडस्ट्री रन कर रही हैं जहां बगैर आक्सीजन के काम नहीं होता। उनका कहना है कि इंडस्ट्री चलेगी तो लोगों के रोजगार भी बचे रहेंगे।

फरीदाबाद आईएमटी इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के प्रधान वीरभान शर्मा, ऑल इंडिया मैन्यूफैक्चरर एसोसिएशन के प्रदेश उपाध्यक्ष एसएस कपूर और इंडस्ट्रियल एसोसिएशन कृष्णानगर सेक्टर 25 के प्रधान देवेंद्र गोयल का कहना है कि

अब फरीदाबाद समेत पूरे प्रदेश में ऑक्सीजन की स्थिति सामान्य हो गई है। इस लिए प्रशासन को बिना देरी किए ऑक्सीजन की इंडस्ट्रीयल सप्लाई की अनुमति दे देनी चाहिए। साथ ही इकठ्ठा किए गए इंडस्ट्रियल सिलेंडर भी रिलीज करना चाहिए। उद्यमियों का कहना है कि इंडस्ट्री में आक्सीजन की सप्लाई बंद होने से बिजनेस पहले ही बेहद प्रभावित हो चुका है। ऑक्सीजन की उपलब्धता ना होने से बिजनैस का रोजाना भारी नुकसान हो रहा है।

पड़ोसी राज्य पहले ही दे चुके हैं अनुमति

उद्यमी वीरभान शर्मा ने बताया कि हरियाणा के पड़ोसी राज्य पंजाब और उत्तर प्रदेश में सरकार ने उद्योगों को अाक्सीजन की सप्लाई शुरू कर चुके हैं। ऐसे में हरियाणा सरकार काे भी इसकी अनुमति देनी चाहिए। उद्यमियों का कहना है कि फरीदाबाद मंे अधिकांश छोटे उद्योगों में फैब्रीकेशन और कटिंग का काम होता है। एक महीने से आक्सीजन न मिलने से काम बंद पड़े हैं। शर्मा ने कहा कि इस बारे में चीफ सेक्रेटरी हरियाणा और डिप्टी कमिश्नर को भी इस समस्या से अवगत कराया जा चुका है।

खबरें और भी हैं…

दिल्ली + एनसीआर | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

नई कवायद: रेड लाइट पर जो लोग वाहन बंद नहीं कर रहे हैं, उन्हें ग्रीन मॉर्शल करेंगे जागरूक

नई दिल्लीएक घंटा पहले कॉपी लिंक रेड लाइट पर जो वाहन बंद नहीं कर रहे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *