Breaking News

संचालक की मौत का मामला: जेल विभाग की आशंका : पैसे की मांग व अन्य कारणों से थापर को प्रतािड़त किया

जमशेदपुर3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • पुरानी बीमारी को मौत का कारण बताने वाली जेल अधीक्षक की रिपोर्ट को विभाग ने खारिज किया, मामले को दबाने पर शोकॉज

मदर टेरेसा वेलफेयर ट्रस्ट के संचालक हरपाल सिंह थापर की घाघीडीह सेंट्रल जेल में हुई मौत मामले में जेल अधीक्षक नागेंद्र सिंह की रिपोर्ट को गृह और कारा विभाग ने खारिज कर दिया है। रिपोर्ट में जेल अधीक्षक ने हरपाल सिंह थापर की मौत का कारण पोस्ट कोविड हुई शारीरिक परेशानियों को बताया। इसके अलावा पुरानी बीमारी का हवाला भी दिया था। विभाग ने रिपोर्ट को झूठा माना है।

विभाग के अधिकारियों को आशंका है कि हरपाल सिंह थापर को जेल में पैसे और अन्य कारणों से प्रताड़ना के शिकार हुए होंगे। इसके चलते शरीर पर जख्म के निशान मिले। हरपाल की पीठ व पैर में चोट के निशान थे, शरीर कई जगहों पर नीला पड़ गया था, इसी वजह से मौत हुई। विभाग ने जेल अधीक्षक को मामला को दबाने और वरीय अधिकारियों को सूचना नहीं देने के मामले में शोकॉज कर जवाब तलब किया है।

घटना के 24 घंटे तक वरिष्ठ अधिकारियों को माैत की जानकारी नहीं दी

कारा विभाग ने इन आशंकाओं के कारण खारिज की रिपोर्ट
1. हरपाल थापर जेल में प्रताड़ना के शिकार थे
2. जेल में उनके साथ पिटाई व अन्य अत्याचार हुए
3. उनके शरीर में एेसा जख्म बिना चोट के संभव
4. पीठ पर नीला दाग दिखा, पिटाई की आशंका
5. पोस्ट कोविड से की मौत होने पर भी सवाल
6. पैसे के लेन-देन के लिए कैदियों को प्रताड़ित करने की पहले भी मिल चुकी है कई शिकायत

जेल अधीक्षक ने रिपोर्ट में कहा था-शरीर पर पहले से थे जख्म

जेल अधीक्षक ने गृह-कारा विभाग को भेजे रिपोर्ट में कहा- हरपाल सिंह कोरोना से पीड़ित थे। वे पोस्ट कोविड शारीरिक परेशानी झेल रहे थे। पीठ पर नीला निशान पहले से था, शरीर के कई हिस्से में पहले से जख्म थे। जेल में आने से पहले ही वो इस बीमारी से ग्रसित थे। इसके चलते उनकी मौत हुई थी।

गृह एवं कारा विभाग के अनुरोध पर न्यायिक जांच शुरू, दो मजिस्ट्रेट नियुक्त

जेल गृह एवं कारा विभाग की पहल पर हरपाल सिंह थापर की जेल में मौत के मामले की न्यायिक जांच शुरू की है। न्यायिक जांच के लिए जिला न्यायालय ने दो मजिस्ट्रेट नियुक्त किया गया है।

यह था मामला : ट्रस्ट की दो नाबालिगों ने किया था केस
मदर टेरेसा वेलफेयर ट्रस्ट की दो नाबालिगों ने संचालक हरपाल सिंह थापर, उनकी पत्नी सीडब्ल्यूसी की चेयरमैन पुष्पा रानी तिर्की समेत दो अन्य पर यौन उत्पीड़न, प्रताड़ना व पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कराया था। 16 जून को हरपाल सिंह थापर, पत्नी पुष्पा रानी तिर्की, गीता देवी, आदित्य सिंह को टेल्को थाना ने मध्यप्रदेश के सिंगरौली से गिरफ्तार किया था। बीते रविवार को हरपाल की जेल में संदिग्ध परिस्थिति में मौत हो गई थी।

मामला संदिग्ध है, न्यायिक जांच से इसका खुलासा होगा : जेल आईजी

हरपाल सिंह थापर की मौत मामले में जेल अधीक्षक को शोकॉज किया है। क्योंकि घटना की जानकारी अधीक्षक ने तुरंत नहीं दी थी। मामला संदिग्ध है, न्यायिक जांच से इसका खुलासा होगा।
-मनोज कुमार, जेल आईजी

खबरें और भी हैं…

झारखंड | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

हजारीबाग में 8 साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म: आरोपी गिरफ्तार, छोटी बहन के साथ खेल रही बच्ची के साथ किया था रेप

Hindi News Local Jharkhand The Accused Arrested Within 24 Hours Of The Incident, Raped The …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *