Breaking News

सरदार उधम सिंह: विक्की कौशल ने किया कन्फर्म, 20 साल का उधम दिखने के लिए 14 से 15 किलो वेट गेन किया, उरी और राजी के बाद तीसरी देशभक्ति फिल्म

मुंबई29 मिनट पहलेलेखक: अमित कर्ण

  • कॉपी लिंक
  • ’उरी’ भी थी फिजिकल ट्रांसफॉरमेशन वाली फिल्म, 75 किलो वजनी विक्की ने 90 किलो का किया था खुद को
  • आधा दर्जन मुल्कों और इंडिया को मिलाकर तकरीबन 350 लोगों की टेक्निकल टीम ने 19 वीं सदी का इंडिया और इंग्लैंड रीक्रिएट किया
  • विक्की ने वर्ल्ड पॉलिटिक्स की भी जानकारी ली, क्योंकि उधम सिंह न सिर्फ इंडिया, बल्कि बाकी देशों को भी तब अंग्रेजों की गुलामी से दूर करना चाहते थे

विक्की कौशल ने इस हफ्ते ओटीटी रिलीज हो रही ‘सरदार उधम’ के लिए शूट के दौरान एक महीने के भीतर ही 14 से 15 किलो वेट शेड और गेन किया। कारण अमृतसर शेड्यूल में जहां उन्हें 20 साल का उधम सिंह दिखना था। वहीं उसके महज 25 से 29 दिनों बाद ही लंदन वाले सीक्वेंस शूट करने थे। वहां उन्हें 40 की उम्र वाला उधम सिंह दिखना था। विक्की इससे पहले ‘उरी’ के लिए हेवी शारीरिक कायांतरण यानी फिजिकल ट्रांसफॉर्मेशन से गुजरे थे। वहां उन्हें 90 किलो का होने के लिए तब 15 से 18 किलो वेट गेन करना पड़ा था। विक्की ने साथ ही इस फिल्म के लिए दुनिया के आधा दर्जन देशों से आए टेक्निशियनों के साथ मिलकर काम किया। ‘उरी’ और ‘राजी’ के बाद विक्की की यह तीसरी देशभक्ति जॉनर की फिल्म है। उरी : द सर्जिकल स्ट्राइक और राजी दोनों हिंदी फिल्मों की सबसे सक्सेसफुल देशभक्ति वाली फिल्में हैं।

दुनियाभर के टेक्निशियन ने फिल्म में काम किया है
दैनिक भास्कर से खास बातचीत में विक्की ने कहा, ‘19 वीं सदी का अमृतसर और लंदन क्रिएट करने के लिए इस स्केल पर दुनियाभर से टेक्निशियन हायर करने पड़े। वह इसलिए कि हमें तब की इमारतें, गाड़ियां आदि क्रिएट करने पड़े। बहुत डिटेलिंग में काम हुआ। इंडिया के अलावा रशिया, इंग्लैंड, पौलेंड, हंगरी और बाकी देशों के तकनीशियनों ने तब का पूरा समां क्रिएट किया। मुझे इस जॉनर से प्यार हो गया है।
मैं पिन पॉइंट तो नहीं कर सकता, मगर पास्ट से जो भी हमारे शूरवीर, राजा महाराजा रहें हैं उन्हें प्ले करना चाहूंगा। यह फेज भी अच्छा चल रहा है, जहां मेकर्स भी हिस्ट्री को एक्स्प्लोर कर रहें हैं। आगे ‘सैम बहादुर’ भी जो मेघना गुलजार जी की है, वह भी इसी जॉनर में है।

सरदार उधम सिंह खुद वर्ल्ड पॉलिटिक्स के गहन जानकार थे
विक्की ने इस किरदार के प्रेप के लिए वर्ल्ड पॉलिटिक्स की जानकारी में भी इजाफा किया। उन्होंने कहा, ‘दरअसल सरदार उधम सिंह या भगत सिंह, गांधी जी या कोई और तब के स्वतंत्रता सेनानी सिर्फ इंडियन सिटीजन नहीं थे। वे ग्लोबल नागरिक थे। सरदार उधम सिंह खुद वर्ल्ड पॉलिटिक्स के गहन जानकार थे। कोई ऐसी किताब नहीं थी, जो उन्होंने न पढ़ रखी हो। वो काफी जुनूनी थे। जब भी आपस में कहीं क्रांतिकारी आदि मिलते तो इनका वर्जन रहता था कि सिर्फ देश नहीं, दुनिया का हर इंसान फ्री होना चाहिए। इस तरह यह फिल्म किसी इंसान की बायोपिक नहीं, बल्कि एक विचारधारा की बायोपिक है। विचारधारा की खूबी है कि वह टाइमलेस होती है।’

लोग फौज के शूरवीरों की कहानियां जानना चाहते हैं
सिने जानकारों के मुताबिक, देशभक्ति वाली फिल्मों का इन दिनों ट्रेंड है। वह इसलिए कि देश का मौजूदा सेंटिमेंट राष्ट्रवाद को लेकर ज्यादा एक्साइटेड हैं। लोग फौज के शूरवीरों की कहानियां जानना चाहते हैं। इस जॉनर की कहानियों में बायोपिक, सस्पेंस और थ्रिल तीनों मिल जाता है। इसी साल सिद्धार्थ मल्होत्रा की शेरशाह खासी चर्चित फिल्म रही। अजय देवगन की भुज: प्राइड ऑफ इंडिया भी ओटीटी पर आई। अक्षय कुमार ने अपनी बेलबॉटम सिनेमाघरों में रिलीज की।
आगे कंगना रनोट की तेजस आएगी। आलिया, अजय देवगन साउथ की ‘आरआरआर’ में नजर आएंगे। वह फिल्म भी स्वतंत्रता सेनानियों को डेडिकेटेड है। वरुण धवन परमवीर चक्र विजेता अरुण खेत्रपाल की वीरगाथा पर फिल्म इक्कीस करने वाले हैं। ईशान खट्टर अपनी पिप्पा की शूट का एक शेड्यूल पूरा कर चुके हैं। कार्तिक आर्यन शहजादा के बाद कैप्टन इंडिया पर लगेंगे।

खबरें और भी हैं…

बॉलीवुड | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

बॉलीवु़ड ब्रीफ: ‘इरुल’ के हिंदी रीमेक में नजर आ सकते हैं नवाजुद्दीन सिद्दीकी, पंकज त्रिपाठी का ढोल बजाते हुए वीडियो वायरल

Hindi News Entertainment Bollywood ‌Bollywood Brief: Nawazuddin Siddqui In Talks To Star In Hindi Remake …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *