Breaking News

सितंबर में तेलों का रिकॉर्ड आयात: सरसों तेल के दाम में आ सकती है कमी, दो-तीन महीनों में आयात बढ़ सकता है

  • Hindi News
  • Business
  • Mustard Oil Prices May Ease In The Next Couple Of Months, Imports May Increase In The Next Two three Months

नई दिल्ली22 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सरसों और पाम ऑयल के दाम आने वाले महीनों में घट सकते हैं, इस बात का संकेत त्योहारी सीजन शुरू होने से पहले सितंबर में खाद्य तेलों के हुए रिकॉर्ड आयात से मिलता है। घरेलू बाजार में सरसों तेल की कीमत आसमान पर पहुंच जाने पर अगस्त से दोबारा क्रूड सरसों तेल का आयात शुरू हुआ और पिछले दो महीनों में 32,500 टन तेल का इंपोर्ट हुआ है।

पिछले महीने विदेश से मंगाया गया 20,215 टन सरसों तेल

सॉल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (SEAO) के मुताबिक अगस्त में 12,437 टन और सितंबर में 20,215 टन सरसों तेल विदेश से मंगाया गया। SEAO के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर बी वी मेहता ने बयान जारी बताया कि घरेलू बाजार की मांग पूरी करने के लिए अगले दो तीन महीनों में सरसों तेल का आयात बढ़ सकता है।

सितंबर में हुआ 16.98 लाख टन खाद्य तेलों का आयात

SEAO के मुताबिक पिछले महीने विदेश से 16.98 लाख टन खाद्य तेल मंगाए गए जो किसी भी एक महीने में सबसे ज्यादा आयात रहा। इससे पहले अक्टूबर 2015 में सर्वाधिक 16.51 लाख टन खाद्य तेलों का आयात हुआ था।

कुल 12.62 लाख टन पाम ऑयल का रिकॉर्ड आयात हुआ

सितंबर में कुल 12.62 लाख टन पाम ऑयल का आयात हुआ। यह 1996 में इसका आयात शुरू होने से अब तक किसी एक महीने में सबसे ज्यादा है। विदेश से मंगाए जाने वाले खाद्य तेलों में सबसे ज्यादा मात्रा इसी की होती है।

जून, जुलाई और अगस्त में सालाना आधार पर घटा आयात

सितंबर से पहले तीन महीनों यानी जून, जुलाई और अगस्त में खाद्य तेलों के आयात में सालाना आधार पर गिरावट का दौर चल रहा था। जून में 9,69,431 टन (-17%), जुलाई में 9,17,336 टन (-40%) और अगस्त में 10,16,370 टन (-22%) खाद्य तेल का आयात हुआ।

वनस्पति तेलों का भी 17,62,338 टन का रिकॉर्ड इंपोर्ट

SEOA के मुताबिक, पिछले महीने वनस्पति तेलों का भी रिकॉर्ड इंपोर्ट हुआ। सितंबर में 17,62,338 टन तेल का आयात हुआ जो 2020 सितंबर से 66% ज्यादा है। साल भर पहले इसी महीने 10,61,944 टन तेल का आयात हुआ था।

इंपोर्ट ड्यूटी में कमी से मिल रहा आयात को बढ़ावा

SEOA के मुताबिक, तेलों के आयात को बढ़ावा पिछले कुछ महीनों में इंपोर्ट ड्यूटी को लेकर सरकारी पॉलिसी में किए गए बदलाव से मिल रहा है। दरअसल, सरकार ने देश में खाद्य तेलों की बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाने के लिए आयात शुल्क में कमी करने के कदम उठाए हैं।

2 फरवरी से 11 सितंबर तक 23.65% घटा पाम ऑयल का आयात शुल्क

इस साल 2 फरवरी से 11 सितंबर तक क्रूड पाम ऑयल पर प्रभावी आयात शुल्क में 11% की कमी आई थी। रिफाइंड पाम ऑयल के आयात शुल्क में सबसे ज्यादा 23.65% की कमी आई जबकि क्रूड और रिफाइंड सोयाबीन और सनफ्लावर ऑयल का आयात शुल्क 13.75% घटा।

खबरें और भी हैं…

बिजनेस | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

शेयर बाजार अपडेट: रिकॉर्ड ऊंचाई पर खुले बाजार, सेंसेक्स 61,817 पर और निफ्टी 18,500 पर खुला

Hindi News Business BSE NSE Sensex Today, Stock Market Latest Update: October 18 Share Market, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *