Breaking News

हमारा पानी हमें ही मिलेगा: शाहपुर कंडी परियोजना के नवंबर 2022 तक चालू होने की उम्मीद

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जम्मू Published by: प्रशांत कुमार Updated Fri, 11 Jun 2021 10:38 AM IST

जम्मू-कश्मीर और पंजाब की सीमा पर तैयार हो रही शाहपुर कंडी परियोजना के नवंबर 2022 तक चालू होने की उम्मीद है। यह भारत की आजादी के 75वें वर्ष को चिह्नित करने वाली प्रमुख घटनाओं में से एक होगा। इसका उद्देश्य भारतीय क्षेत्र में रावी नदी के पूरे पानी का उपयोग करना है, जिसका बड़ा लाभ कठुआ जिले को मिलने वाला है। परियोजना के पूरा होने पर जम्मू संभाग का कम सिंचित क्षेत्र जिसे कंडी बेल्ट के रूप में जाना जाता है, वह कंडी के रूप में नहीं जाना जाएगा। ये बातें केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहीं। 

उन्होंने कहा कि 1960 की सिंधु जल संधि (इंडस वॉटर ट्रीटी) को तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू और पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब खान द्वारा हस्ताक्षरित किया गया था। इसके तहत भारत को तीन पूर्वी नदियों व्यास, रावी और सतलुज के पानी पर नियंत्रण दिया गया, जबकि पाकिस्तान को तीन पश्चिमी नदियों सिंधु, चिनाब और झेलम पर नियंत्रण दिया गया। भारत के हिस्से की रावी नदी का पानी पाकिस्तान में बहता रहा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हस्तक्षेप ने इस विसंगति को ठीक करने का काम किया और सही मायनों में सिंधु जल संधि पर काम शुरू हो पाया है। 

 

Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | – Amar Ujala

About R. News World

Check Also

जम्मू-कश्मीर: आतंकी हमले में मारे गए पार्षद राकेश पंडिता के परिवार को 40 लाख की घोषणा

{“_id”:”60c4f1308ebc3ed22d0f6c67″,”slug”:”jammu-and-kashmir-40-lakh-announced-to-the-family-of-councilor-rakesh-pandita-who-was-killed-in-the-terrorist-attack”,”type”:”story”,”status”:”publish”,”title_hn”:”u091cu092eu094du092eu0942-u0915u0936u094du092eu0940u0930: u0906u0924u0902u0915u0940 u0939u092eu0932u0947 u092eu0947u0902 u092eu093eu0930u0947 u0917u090f u092au093eu0930u094du0937u0926 u0930u093eu0915u0947u0936 u092au0902u0921u093fu0924u093e u0915u0947 u092au0930u093fu0935u093eu0930 u0915u094b 40 u0932u093eu0916 u0915u0940 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *