Breaking News

12 बकरों की बलि दे निशा जात्रा विधान पूरा: बस्तर दशहरा की है सबसे महत्वपूर्ण रस्म, की जाती है तांत्रिक पूजा, बस्तर राजा ने क्षेत्र की खुशहाली की करी कामना

जगदलपुरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

तांत्रिक पूजा कर बस्तर राजा ने क्षेत्र की खुशहाली की करी कामना।

75 दिनों तक चलने वाले विश्व प्रसिद्ध बस्तर दशहरा की वैसे तो सारी रस्में अपने आप में अनूठी हैं। लेकिन निशा जात्रा रस्म का एक बड़ा महत्व है। बस्तर दशहरा मनाने से पहले शारदीय नवरात्र की अष्टमी की आधी रात निशा जात्रा विधान पूरा किया गया है। जगदलपुर के निशा जात्रा मंदिर में बस्तर राजा कमलचंद भंजदेव ने मां खमेश्वरी की पूजा कर यह रस्म अदा की। इस विधान को पूरा करने के लिए 12 बकरों की बलि दी गई। यह परंपरा पिछले कई सालों से चली आ रही है। विधान को पूरा करने के बाद राजा ने क्षेत्रवासियों की खुशहाली की कामना की।

राज परिवार के सदस्य महुआ तेल से प्रज्वलित विशेष मशाल की रोशनी में निशा जात्रा मंदिर पहुंचे।

राज परिवार के सदस्य महुआ तेल से प्रज्वलित विशेष मशाल की रोशनी में निशा जात्रा मंदिर पहुंचे।

दरअसल, निशा जात्रा विधान को पूरा करने के लिए 12 गांव के राउत माता के लिए भोग प्रसाद तैयार किए। राज परिवार के सदस्य महुआ तेल से प्रज्वलित विशेष मशाल की रोशनी में अनुपम चौक स्थित निशा जात्रा मंदिर पहुंचे और लगभग 1 घंटे तक तांत्रिक पूजा किए। इस विधान को पूरा करने के लिए 12 बकरों की बलि देकर मिट्टी के 12 पात्रों में रक्त भरकर तांत्रिक पूजा अर्चना करने की परंपरा है।

12 गांव के राउत माता के लिए भोग प्रसाद तैयार किए।

12 गांव के राउत माता के लिए भोग प्रसाद तैयार किए।

तांत्रिक पूजा होने की वजह से नहीं खाते प्रसाद
निशा जात्रा पूजा के लिए भोग प्रसाद तैयार करने का जिम्मा राजुर, नैनपुर, रायकोट के राउत का होता है। इनके द्वारा तैयार किया गया भोग प्रसाद करीब 200 सालों से माता कामेश्वरी को अर्पित किया जा रहा है। तांत्रिक पूजा होने के कारण यहां का प्रसाद कोई व्यक्ति ग्रहण नहीं करता। इसलिए हंडियों में लाए गए प्रसाद को दूसरे दिन गाय को खिला दिया जाता है।

यह भी जानिए
जानकार बताते हैं कि, इस तांत्रिक रस्म को राजा महाराजा बुरी प्रेत आत्माओं से राज्य कि रक्षा के लिए अदा करते थे। इस रस्म में बलि देकर देवी को प्रसन्न किया जाता है। मान्यता है कि, देवी राज्य कि रक्षा बुरी प्रेत आत्माओं से कर सके। निशा जात्रा कि यह रस्म बस्तर के इतिहास में बहुत ह़ी महत्वपूर्ण स्थान रखती है। हालांकि समय के साथ इस रस्म में बदलाव आया है। पहले इस रस्म में हजारों भैंसों सहित नर बलि देने की परंपरा थी। लेकिन अब केवल 12 बकरों की बलि दी जाती है।

खबरें और भी हैं…

छत्तीसगढ़ | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

ब्रांडेड कंपनी के नाम बेच रहे थे नक्ली उत्पाद: इंदौर से मिली शिकायत के बाद पुलिस ने बिलासपुर में मारा छापा, 2 दुकानदार गिरफ्तार

बिलासपुर31 मिनट पहले कॉपी लिंक नकली उत्पाद के साथ पकड़े गए व्यापारी। बिलासपुर में कृष्णा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *