Breaking News

16 राइस मिल 3 साल के लिए ब्लैक लिस्टेड: इसमें मिलर्स संघ के जिलाध्यक्ष भी, कवर्धा में 50 फीसदी धान का उठाव नहीं; एक दिन पहले ही 400 कर्मचारियों ने दिया था इस्तीफा

कवर्धा15 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

जिला प्रशासन ने 16 राइस मिलों को 3 साल के लिए ब्लैक लिस्टेड कर दिया है।

छत्तीसगढ़ के कवर्धा में धान के उठाव में लापरवाही की गाज राइस मिलों पर गिरनी शुरू हो गई है। जिला प्रशासन ने 16 राइस मिलों को 3 साल के लिए ब्लैक लिस्टेड कर दिया है। खास बात है कि इनमें राइस मिलर्स एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष आदिल गांधी की मिल बोड़ला के हरिनछपरा स्थित जनता राइस मिल भी शामिल है। एक दिन पहले ही जिले की 90 समितियों के 400 कर्मचारियों ने उठाव नहीं होने के विरोध में इस्तीफा दे दिया था।

साल 2023-24 तक सभी पर लगाई गई रोक
कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा की ओर से सोमवार देर शाम जारी किए गए आदेश में कहा गया है कि वर्ष 2021-21 तक तहत धान का उठाव नहीं और डीओ रिक्वेस्ट नहीं भेजने पर अरवा राइस मिलर्स को 7 जून को नोटिस जारी किया गया था। इसके बाद भी जवाब नहीं दिया गया और मिलिंग में तेजी नहीं आई। दूसरे आबंटन में भी 50 फीसदी से कम धान का उठाव किया गया। इसे देखते हुए खरीफ विपणन वर्ष 2023-24 तक के लिए ब्लैक लिस्टेड किया जाता है।

इन राइस मिलों को किया गया ब्लैक लिस्टेड

राइस मिल का नामपता
मां अंबे राइस मिलधरमपुरा
रॉयल राइस मिलखुंटू
दिक्षा राइस मिलमानिकपुर, बोड़ला
गणेश राइस मिलमोहतराखुर्द, पंडरिया
अग्रवाल राइस मिलरायपुर रोड कवर्धा
जैन राइस मिलमैनपुरा, पंडरिया
ओम राइस मिलसिंघनपुरी
राज राइस मिललालपुर कला
रॉयल राइस मिलखुंटू
बालाजी राइस मिलखुंटू
जनता राइस मिलहरिनछपरा, बोड़ला
हितांशु राइस मिलनेवारी
सिद्धार्थ राइस मिलमोहतराखुर्द, पंडरिया
पार्श्वनाथ दाल एवं पोहा उद्योगरौहा, पंडरिया
हिमांशु फूड्सनेवारी
जैन ट्रेडर्समोहतराखुर्द, पंडरिया

दिन में कर्मचारियों का विरोध प्रदर्शन, देर शाम एक्शन
दरअसल, जिले की 90 समितियों में कार्यरत 400 कर्मचारियों ने सोमवार को इस्तीफा दे दिया था। वे केंद्रों से 5 लाख क्विंटल से ज्यादा धान का उठाव नहीं से नाराज थे। धान उठाव नहीं होने के कारण समितियों को नुकसान हो रहा था। उनको 3 माह से वेतन तक नहीं मिला। वहीं बारिश के चलते अकेले लोहारा ब्लॉक के सूरजपुरा जंगल केंद्र में रखा 2000 क्विंटल से धान खराब हो गया है। इसके बाद देर शाम प्रशासन ने मिलों पर कार्रवाई कर दी।

39 लाख 34 हजार 600 क्विंटल धान खरीदी हुई

दरअसल कवर्धा जिले में 94 धान खरीदी केंद्र हैं। यहां पिछले वित्त वर्ष में कुल 39 लाख 34 हजार 600 क्विंटल धान खरीदी की गई। लेकिन अब भी जिले के अलग-अलग धान खरीदी केंद्रों में 5 लाख क्विंंटल धान खुले में पड़ा हुआ है। इतना ही नहीं बारिश और गर्मी के कारण कई केंद्र में तो धान ही खराब हो हए हैं। जिसका नुकसान अब जिला सहकारी समिति को उठाना पड़ रहा है। जिले के लोहारा ब्लॉक के सूरजपुरा जंगल धान खरीदी केंद्र में 2 हजार क्विंटल धान सड़ा गया है। इसके अलावा भी अलग-अलग केंद्रों में धान पड़े-पड़े खराब हो रहे हैं।

खबरें और भी हैं…

छत्तीसगढ़ | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

दुर्गम गांवों में पहुंचे मंत्री: पांच किमी पैदल चलकर सीतापुर के दलधोआ घाट पहुंचे अमरजीत भगत, ग्रामीणों के बीच चौपाल भी लगाई

रायपुर17 मिनट पहले कॉपी लिंक मंत्री अमरजीत भगत ने गांव के खेतों के रास्ते ये …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *