Breaking News

COVID-19: WHO ने कोरोना वायरस की उत्पत्ति की पहचान के लिए बनाया वैज्ञानिक सलाहकार समूह, बताया इसे ‘आखिरी मौका’

13 अक्टूबर, 2021 को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने नोवेल पैथोजेन्स (SAGO) की उत्पत्ति पर अपने नये वैज्ञानिक सलाहकार समूह के लिए 26 विशेषज्ञों के नाम दिए हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन  द्वारा गठित इस समूह में ऐसे कई प्रतिनिधि शामिल हैं जिन्होंने SARS-CoV-2 कोरोना वायरस के स्रोत की जांच करने के लिए चीन के वुहान में संबद्ध मिशन पर काम किया है.

WHO के एक बयान में 26 प्रस्तावित सदस्यों को सार्वजनिक परामर्श की दो सप्ताह की अवधि से पहले नामित किया है, जिसमें थिया फिशर, मैरियन कोपमैन, हंग गुयेन और चीनी पशु स्वास्थ्य विशेषज्ञ यांग युंगुई शामिल हैं, जिन्होंने वर्ष, 2021 में हुई इससे पहले की संयुक्त जांच में भी भाग लिया था.

WHO ने यह भी  कहा है कि, यह SARS-CoV-2 वायरस की उत्पत्ति का निर्धारण करने के लिए ‘हमारा आखिरी मौका’ हो सकता है. इसने चीन से शुरुआती मामलों पर डाटा उपलब्ध कराने का भी आग्रह किया है.

COVID-19 की उत्पत्ति की पहचान करने के लिए चीन में WHO की पिछली जांच का विवरण

दिसंबर, 2019 में चीन के वुहान में कोरोना वायरस का पहला मानव मामला सामने आया था. चीन ने इस सिद्धांत को बार-बार खारिज किया है कि, कोरोना वायरस उसकी एक प्रयोगशाला से लीक हुआ है.

WHO के नेतृत्व वाली एक टीम ने चीन के वैज्ञानिकों के साथ वर्ष, 2021 के शुरू में पहले वुहान में, फिर उसके आसपास लगभग चार सप्ताह बिताए थे और मार्च, 2021 में एक संयुक्त रिपोर्ट में यह कहा था कि, कोरोना वायरस संभवतः चमगादड़ से मनुष्यों में किसी अन्य जानवर के माध्यम से प्रसारित हुआ था. हालांकि, इस बारे में आगे शोध करना जरुरी था.

COVID उत्पत्ति का अध्ययन करने के लिए दर्जनों अध्ययनों की है आवश्यकता

COVID ​​​​-19 पर WHO की तकनीकी नेतृत्व, मारिया वान केरखोव ने यह उम्मीद जताई है कि, चीन के लिए WHO के नेतृत्व वाले अंतर्राष्ट्रीय मिशन होंगे जो इस देश के पूर्ण सहयोग की उम्मीद से अपना मिशन पूरा करेंगे.

उन्होंने आगे यह भी कहा कि, यह निर्धारित करने के लिए तीन दर्जन से अधिक अनुशंसित अध्ययन किए जाने चाहिए कि, कोरोना वायरस जानवरों की प्रजातियों से मनुष्यों में कैसे पहुंचा?.

वैन केरखोव ने आगे यह कहा कि वर्ष, 2019 में वुहान के निवासियों में एंटीबॉडी की जांच के लिए चीनी परीक्षण की रिपोर्ट इस वायरस की उत्पत्ति को समझने के लिए बेहद महत्त्वपूर्ण होगी.

WHO के शीर्ष आपातकालीन विशेषज्ञ ने यह कहा कि, यह नवगठित पैनल SARS-CoV-2 की उत्पत्ति को निर्धारित करने का आखिरी मौका हो सकता है. ” यह एक ऐसा वायरस है जिसने पूरी दुनिया को रोक दिया”.

COVID-19 की उत्पत्ति की WHO की जांच पर चीन की प्रतिक्रिया

जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र में चीन के राजदूत, चेन जू ने यह कहा कि, पिछले संयुक्त अध्ययन के निष्कर्ष पूरी तरह से स्पष्ट थे. फिर उन्होंने आगे यह कहा कि अंतर्राष्ट्रीय टीमों को पहले ही दो बार चीन भेजा जा चुका है.

पृष्ठभूमि

वर्ष, 2020 में COVID-19 महामारी के दुनिया में आने के बाद से, चीन अंतर्राष्ट्रीय जांच के दायरे में आ गया है. SARS-CoV-2 वायरस की उत्पत्ति पर अमेरिका और साथ ही अन्य कई देशों द्वारा कठोर जांच की मांग की गई थी  क्योंकि ऐसा माना जा रहा है कि, कोरोना वायरस वुहान, चीन में स्थित एक प्रयोगशाला से उत्पन्न/ लीक हुआ था. चीन ने दिसंबर, 2019 में COVID-19 के अपने पहले मानव मामलों की सूचना दुनिया को दी थी.

Jagran Josh

About R. News World

Check Also

साप्ताहिक करेंट अफेयर्स क्विज़: 18 अक्टूबर से 24 अक्टूबर 2021 तक

Weekly Current Affairs Quiz Hindi: जागरण जोश प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों एवं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *