Breaking News

‘DAP की कमी के लिए मोदी-खट्टर सरकार जिम्मेदार’: सुरजेवाला बोले- प्रदेश में खाद की ब्लैक चरम पर, 700 पैक्स समितियों में स्टॉक नहीं; बिजाई कैसे करेंगे किसान

यमुनानगर2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पार्टी महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला। फाइल फोटो

वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पार्टी महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने हरियाणा में डीएपी खाद की कमी के लिए मोदी-खट्टर सरकारों को जिम्मेदार ठहराया है। सुरजेवाला ने कहा की प्रदेश में डीएपी की भारी कमी के कार किसान दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है। ऐसे में अगली फसल की बिजाई कैसे होगी। सरकार की गलत नीतियों की वजह से डीएपी की ब्लैक चरम सीमा पर है। डीजल की लगातार बढ़ती कीमतों ने वैसे ही किसान का जीना मुश्किल किया हुआ है, लेकिन महत्वपूर्ण सवाल है कि मोदी-खट्टर-दुष्यंत जी की जोड़ी कब जागेगी।

सुरजेवाला ने कहा की प्रदेश के सभी हिस्सों और ख़ास तौर से कैथल, कुरुक्षेत्र, अंबाला, करनाल, रेवाड़ी, महेंद्रगढ़, हिसार, पलवल आदि जिलों में खाद की कमी के साथ-साथ गांवों में स्थित 700 सरकारी खरीद केंद्रों और प्राथमिक कृषि सहकारी समितियों (पैक्स) समितियों पर खाद का स्टॉक नहीं होने के समाचार आये हैं, जो हमारे लिए घोर चिंता का विषय है। पूरे प्रदेश में खाद आपूर्ति कम होने के कारण पैक्स समितियों पर लाइनें लग रही हैं, लेकिन किसानों को खाद नहीं मिल रहा है। उन्होंने प्रश्न किया कि अगर अभी से खाद को लेकर ये हालात हैं, तो गेहूं बिजाई के सीजन में स्थिति और विकट हो सकती है।

स्टॉक में इस समय केवल 40 हजार मीट्रिक टन डीएपी उपलब्ध
मुख्यमंत्री से स्पष्टीकरण की मांग करते हुए सुरजेवाला ने कहा कि क्या यह सच नहीं है की प्रदेश सरकार के स्टॉक में इस समय केवल 40 हजार मीट्रिक टन डीएपी उपलब्ध है, जबकि आमतौर से प्रदेश में रबी सीजन में लगभग 2 लाख मीट्रिक टन डीएपी की जरूरत रहती है। हैरत की बात है कि मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री किसानों की चिंता से बिल्कुल बेपरवाह हैं।

खबरें और भी हैं…

चंडीगढ़ | दैनिक भास्कर

About R. News World

Check Also

करनाल की घीड़ मंडी सुर्खियों में: 9 राइस मिलर्स को नहीं मिलेगा सरकारी धान, भ्रष्टाचार में लिप्त खरीद एजेंसी के इंस्पेक्टर होंगे सस्पेंड

यमुनानगरएक घंटा पहले कॉपी लिंक घीड़ अनाज मंडी में बिकने के लिए आया धान। हरियाणा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *