Breaking News

Job tips: पढ़ाई के साथ नौकरी करना आसान, बस अपनाने होंगे ये तरीके

हाइलाइट्स

  • जानें पढ़ाई के साथ नौकरी के कितने हैं फायदे
  • कैसे कर सकते हैं पार्ट टाइम जॉब
  • एक्सपीरिएंस के साथ मिलेगी सैैलरी

Career Tips: ज्यादातर इंटरनेशनल स्टूडेंट्स को अपनी स्टडी के कुछ खर्चों को कवर करने के लिए किसी प्रकार की जॉब करने की जरूरत होती है। अगर आप भी ऐसे स्टूडेंट्स में से एक हैं तो, कोई चिंता नहीं, आप यह कर सकते हैं। यहां हम आपको बता रहे हैं ऐसे ही 8 तरीके जिसे अपना कर आप अपनी पढ़ाई के साथ काम भी कर सकते हैं। इससे आप जो पैसा कमाएंगे, उससे आप एजुकेशन लोन के एक हिस्से का भुगतान कर सकते हैं, अपने ट्यूशन या किसी अन्य खर्च का भुगतान कर सकते हैं।

पार्ट टाइम जॉब
पार्ट टाइम जॉब आपके स्टडी के खर्चों को कवर करने का एक शानदार तरीका है और यह इस बात पर निर्भर करता है कि नौकरी कितनी अच्छी है, आप कुछ पॉकेट मनी भी कमा सकते हैं। आप फ्लैक्सिबल पार्ट टाइम जॉब पा सकते हैं, जिससे आप अपना खुद का शेड्यूल बना सकते हैं। कॉल सेंटर में काम करने या कैंपस में काम करने से लेकर किसी बड़े फर्म में सहायक होने तक, पार्ट टाइम जॉब एक बहुत ही बेहतर एक्सपीरियंस देती है। आप अपने इंट्रेस्ट के फील्ड में पार्ट टाइम जॉब करने पर विचार कर सकते हैं। एक इंटरनेशनल स्टूडेंट के रूप में, आपको सेमेस्टर (अधिकांश यूरोपीय देशों में) के दौरान 20 घंटे/वीक के लिए पार्ट टाइम जॉब करने की परमिशन भी मिलती है।

समर और विंटर वेकेशन जॉब
विभिन्न देशों में, आप एकेडमिक ईयर के बीच तीन महीने के लिए पूरी तरह से काम कर सकते हैं। समर वेकेशन की नौकरियों के बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि आपको इस दौरान अपनी पढ़ाई के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं होती है। केवल एक चीज जिस पर आपको फोकस करने की जरूरत होती है वह है आपका काम।
इसे भी पढ़ें: Benefits Of E-Learning: ऑनलाइन पढ़ने के भी कई फायदे, फ्यूचर ऐसे बनेगा ब्राइट

इंटर्नशिप
इंटर्नशिप करना एक प्रतिष्ठित कंपनी में सक्सेस करियर ग्रोथ के लिए एकदम सही है जो आपके स्टडी से भी जुड़ी है। कुछ इंटर्नशिप पेड होते हैं और कुछ अनपेड भी होते हैं। आपको अपनी इंटर्नशिप पूरी करने के बाद जॉब का अवसर भी मिलता है। यदि काम पर नहीं रखा गया है, तो आपको भविष्य में नौकरी के अवसरों के लिए अच्छा एक्सपीरियंस मिल जाता है और ऐसे लोगों के साथ संबंध बन जाते हैं जो आपके भविष्य के काम के सहयोगी बन सकते हैं। इंटर्नशिप किसी के लिए भी सही है क्योंकि आप उस क्षेत्र को बेहतर तरीके से जानते हैं जिसके बारे में आप जानना चाहते हैं।

वर्क प्लेसमेंट
वर्क प्लेसमेंट एक वर्क प्लेस में प्रोफेशनल एक्सपीरियंस पाने का बेहतरीन तरीका है। आमतौर इसे करने के दौरान किसी तरह के पैसे नहीं दिए जाते हैं। यह कई विश्वविद्यालयों द्वारा डिग्री प्रोग्राम के पार्ट के रूप में यह ऑफर किए जाते हैं। ग्रेड आपके कार्य प्लेसमेंट के दौरान आपके पूर्ण किए गए कार्यों पर निर्भर होते हैं और आपको संभवतः प्लेसमेंट के हिस्से के रूप में एक प्रोजेक्ट और प्रोग्रेस रिपोर्ट को पूरा करने की जरूरत होती है। वर्क प्लेसमेंट आमतौर पर विश्वविद्यालय में आपके दूसरे और अंतिम वर्ष के बीच लिया जाता है। अधिकांश बड़े ग्रेजुएट रिक्रूटर्स शुरुआती नवंबर से मार्च अवधि तक प्लेसमेंट की एडवरटिजमेंट करते हैं।

वॉलेंटरिंग
कम्युनिटी की मदद करते हुए एक्सपीरियंस और इंडस्ट्री कनेक्शन प्राप्त करें। आपकी डिग्री के आधार पर, वॉलेंटरिंग वर्क वास्तव में नौकरी से अधिक उपयोगी और सहायक हो सकता है। वॉलेंटरिंग वर्क आपको सामाजिक समस्याओं को बेहतर ढंग से समझने में मदद कर सकता है और आप समस्या के कुछ हिस्से को सॉल्व करने में योगदान दे सकते हैं। आपका विभिन्न सामाजिक समस्याओं को रोकने में मदद करने वाले संघों या संगठनों की मदद कर सकते हैं। एक वॉलेंटरिंग वर्क के दौरान आप ऐसे लोगों से मिल सकते हैं जो भविष्य की नौकरी की सिफारिशों के लिए विश्वसनीय संपर्क बन सकते हैं या एक दिन आपके रिक्रूटर्स बन सकते हैं।
इसे भी पढ़ें: English Skills: इंग्लिश लिसनिंग स्किल्स करनी है बेहतर? इन टिप्स से मिलेगी मदद

वर्क शैडोइंग
हॉलीडे में काम करने का एक अच्छा तरीका शैडोइंग के रूप में काम करना हो सकता है। इसमें आपको एक तय फील्ड में शामिल काम के प्रकार के लिए समझ हासिल करने का मौका मिलता है। शैडोइंग वर्क के लिए आप कभी एडवरटिजमेंट नहीं देखेंगे, आपको खुद हमेशा कंपनी से संपर्क करना होगा। कंटेंट और काम की शर्तों पर बातचीत करनी होगी।

इनसाइट प्रोग्राम्स
इनसाइट प्रोग्राम्स ज्यादातर प्रथम वर्ष के स्नातक छात्रों के लिए डिजाइन किए गए हैं, जिसका उद्देश्य ऑर्गनाइजेशन / कंपनी में इनसाइट प्रदान करना है। यह बताना कि वे “पर्दे के पीछे” कैसे काम करते हैं। इनसाइट प्रोग्राम इंटर्नशिप और अन्य वर्क एक्सपीरियंस के अवसरों के लिए आवेदन प्रक्रिया में पहला कदम हो सकता है। इसके अतिरिक्त इनसाइट प्रोग्राम्स बेहद फायदेमंद होते हैं यदि वे एक रिसर्च प्रोजेक्ट, असाइनमेंट या स्नातक पेपर से संबंधित हैं जिस पर आप काम कर रहे हैं। इनसाइट प्रोग्राम्स के दौरान, आप मजे कर सकते हैं क्योंकि आप वर्कशॉप, प्रेजेंटेशन में भाग लेंगे। सर्वे और अन्य इंटरेक्टिव गेम्स में शामिल होंगे।

कैजुअल इंप्लाइ या फ्रीलांसर
यह आपके लिए एक इंप्लाइ के रूप में और कंपनी के लिए भी एक फ्लैक्सिबल अरेंजमेंट है। एक कैजुअल इंप्लाइ के रूप में, आपको एक शॉर्ट नोटिस पर काम करने के लिए कहा जा सकता है और ज्यादातर मामलों में, आपको एक शॉर्ट नोटिस पर इनफॉर्म भी किया जाएगा जब आपके काम की आवश्यकता नहीं होगी। दूसरी ओर, क्लियर कॉन्ट्रैक्ट न होने की भरपाई के लिए आपको अपने काम के घंटों के लिए थोड़ा अतिरिक्त भुगतान किया जाएगा। आप घर से, कंप्यूटर के सामने, एक निश्चित या फ्लैक्सिबल शेड्यूल पर काम कर सकते हैं। वर्क फ्रॉम होम जॉब बहुत सुविधाजनक हो सकता है। इसमें अधिकांश नौकरियों में राइटर, एडिटर, डेटा इंट्री, वर्चुअल कंसल्टेंट और कस्टमर सर्विस रीप्रेजेंटेटिव शामिल हैं।

Education News: एजुकेशन न्यूज, Latest Exam Notifications, Admit Cards and Results, Job Notification, Sarkari Exams, सरकारी जॉब्स, सरकारी रिजल्ट्स, Career Advice and Guidance, करियर खबरें `- Navbharat Times

About R. News World

Check Also

National Broadcasting Day: ऑल इंडिया रेडियो को 20 साल बाद मिली थी महिला की आवाज, ऐसा रहा है AIR का सफर

हाइलाइट्स कैसे हुई ऑल इंडिया रेडियो की शुरुआत? जानें कब मिली AIR को महिला की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *